नई दिल्ली। विमानन कंपनी एयर इंडिया को 8.8 मिलियन डॉलर तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है। यह जुर्माना कंपनी को उन 323 यात्रियों को देना पड़ सकता है जो 9 मई को दिल्ली से शिकागो फ्लाइट में सफर कर रहे थे। यह फ्लाइट क्रू के फ्लाइट ड्यूटी टाइम लिमिटेशन (एफडीटीएल) पर दी गई रियायतों के वापस लेने के मामले में विलंब हुआ था।फ्लाइट एआई 127 9 मई को शिकागो जा रही थी। इसका फ्लाइट टाइम 16 घंटों का था। हालांकि, खराब मौसम के चलते यह समय पर वहां लैंड नहीं हो पाई। शिकागो की जगह इसे मिलवॉकी लैंड करना पड़ा। मिलवॉकी से शिकागो तक के लिए फ्लाइट की ड्यूरेशन 19 मिनट थी। इस फ्लाइट में यात्री सफर 16 घंटे सफर कर चुके थे, वे दो घंटों में टेक ऑफ कर शिकागो पहुंच सकते थे, लेकिन क्रू की ड्यूटी टाइमिंग के चलते मामला बिगड़ गया।इस फ्लाइट को मिलवॉकी से दो घंटे बाद उड़ान भरनी थी, लेकिन क्रू को इसकी अनुमति नहीं मिल पाई। फ्लाइट के केबिन क्रू के ड्यूटी टाइमिंग समाप्त हो चुके थे। इसमें बदलावों को वापस लेने के कारण उस दिन क्रू को एक बार ही विमान उतारने की अनुमति मिली थी।एयर इंडिया के सूत्रों के अनुसार, हाई कोर्ट के आदेश के बाद डीजीसीए की ओर से ड्यूटी टाइमिंग में बदलावों को वापस लेने की वजह से एयरलाइन के पास नए क्रू मेंबर्स का इंतजाम करने के अलावा कोई और विकल्प नहीं था। इन्हें उड़ान का प्रभार लेने के लिए सड़क रास्ते से मिल्वौकी भेजा गया।सूत्रों के मुताबिक ऐसे मामले में एयरलाइन पर 27,500 अमेरिकी डॉलर प्रति यात्री के हिसाब से पेनल्टी लग सकती है। आपको बता दें कि प्लाइट में 323 यात्री सवार थे। इस हिसाब से पेनल्टी 88 लाख अमेरिकी डॉलर की हो सकती है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें