नई दिल्ली - कर्ज में डूबी एयर इंडिया को बैंक ऑफ इंडिया (बीओआई) से 1500 करोड़ रुपए का लोन प्राप्त हुआ है। एयर इंडिया को यह लोन उसके रोजमर्रा के खर्चों को पूरा करने के लिए मिला है। विमानन कंपनी से जुड़े एक सूत्रों ने यह जानकारी दी है।
दिलचस्प बात यह है कि यह लोन कार्यगत पूंजी की तत्काल जरूरतों की पूर्ति के लिए निविदा निकाले जाने के महीने भर के भीतर मिला है। हालिया कुछ महीनों में यह दूसरा मौका है जब विमानन कंपनी को किसी सरकारी बैंक से लोन मिला है। इससे पहले उसे पंजाब नेशनल बैंक और इंडसइंड बैंक से 3,250 करोड़ रुपए का अल्पकालिक लोन मिला था।
सूत्रों ने बताया कि एयर इंडिया को इससे पहले मिला कर्ज भी तत्काल पूंजीगत जरूरतों की पूर्ति के लिए ही मिला था। इस संबंध में बैंक ऑफ इंडिया से कुछ जानने की कोशिश की गई हालांकि उनकी ओर से अब तक कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है। गौरतलब है कि सरकार एयर इंडिया का विनिवेश करने वाली है और वो इसके लिए पुरजोर तैयारी भी शुरू कर चुकी है।
एयर इंडिया के सामने कई चुनौतियां:
करदाताओं के पैसे से संचालित यह एयरलाइन कई तरह की मुश्किलों से जूझ रही है। इस कंपनी के सामने घाटा, कर्ज बोझ और विमान क्षेत्र में बढ़ती प्रतिस्पर्धा प्रमुख चुनौतियां हैं। सरकार कंपनी के रणनीतिक विनिवेश की तैयारी में जुटी है। कुछ देशी-विदेशी कंपनियों ने एयर इंडिया को खरीदने में रुचि दिखाई है।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें