Editor

Editor

नई दिल्‍ली। इस बार के मानसून की बारिश के कारण केरल में आए बाढ़ का कहर खत्‍म होने का नाम ही नहीं ले रहा है। संकट की इस घड़ी में देश के तमाम दूसरे राज्‍यों के साथ विदेशों की ओर से भी मदद मिलने की शुरुआत हो गई है। खाने के सामानों व अन्‍य जरूरतों के साथ भारतीय आर्मी की स्‍पेशल एयरक्राफ्ट तिरुअनंतपुरम पहुंच चुकी है।उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने बाढ़ग्रस्‍त केरल को मुख्‍यमंत्री राहत कोष से 15 करोड़ रुपये की सहायता देने का ऐलान किया है।
केरल की मदद के लिए आगे आया यूएई:-यूएई ने केरल में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए एक कमेटी का गठन किया है। यूएई के प्रेसिडेंट शेख खलीफा ने एक नेशनल इमरजेंसी कमेटी का गठन करने का निर्देश दिया है, ताकि बाढ़ पीड़ितों को सहायता मुहैया कराई जा सके। साथ ही यूएई के वाइस प्रेसिडेंट शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम ने ट्वीट कर कहा है कि केरल के लोग हमारी सफलता में सहभागी रहे हैं और हैं। ऐसे में उनके प्रति हमारी विशेष जिम्मेदारी बनती है. इस समय बाढ़ प्रभावित लोगों कि मदद करना हमारा फर्ज है। वाइस प्रेसिडेंट शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम ने कहा है कि हमें भारत में अपने भाईयों की मदद से पीछे नहीं हटना चाहिए।
पीएम ने दी 500 करोड़ रुपये की सहायता:-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता की घोषणा की है। इससे पहले गृह मंत्री ने भी 100 करोड़ रुपये की मदद देने का ऐलान कर दिया था। इसके साथ ही प्रधानमंत्री की ओर से बाढ़ के चपेट में आने के कारण मृतक के परिजनों को दो लाख रुपये दिए जाएंगे और गंभीर तौर पर घायलों को 50,000 रुपये की मदद मिलेगी।
भाजपा सांसद वरुण गांधी ने की अपील:-सुल्तानपुर से भाजपा सांसद वरुण गांधी ने केरल बाढ़ राहत के लिए 2 लाख रुपये की राशि से आर्थिक मदद की है। उन्होंने कहा कि सभी सांसदों, विधायकों को पार्टी लाईन से ऊपर उठकर इस दुख की घड़ी में केरल की मदद करनी चाहिए।
मध्‍यप्रदेश, कर्नाटक के अलावा रेलवे ने भी बढ़ाया मदद का हाथ:-इसके अलावा रेलवे भी पूरी सक्रियता के साथ केरल की मदद के लिए आगे आया है। रेलवे की ओर से 2.8 लाख लीटर पेयजल और एक लाख पानी के बोतलों की सप्‍लाई की गई है। कल्‍याण डोंबिवली म्‍यूनिसिपल कार्पोरेशन के सभी भाजपा कार्पोरेटरों ने केरल के लिए एक माह के वेतन को दान करने का ऐलान किया है। मध्‍यप्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी 10 करोड़ रुपये दान में देने की घोषणा की है। कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारस्‍वामी ने केरल में आए बाढ़ के कारण बेघर हुए लोगों के लिए 5 लाख रुपये के आर्थिक मदद की घोषणा की है।
आप और कांग्रेस के एमपी-एमएलसी देंगे एक माह का वेतन;-दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर ऐलान किया है कि आम आदमी पार्टी के सभी विधायक, सांसद और मंत्री अपने एक महीने का वेतन केरल को दान में देंगे। कांग्रेस के रणदीप सुरजेवाला ने भी बाढ़ ग्रस्‍त केरल के लिए मदद मुहैया कराते हुए कहा कि हमारे सभी सांसद, विधायक अपने एक महीने का वेतन दान करेंगे। इसके अलावा आवश्‍यक सामान को भेजने के लिए एक विशेष राहत कमिटी बनाई जाएगी।
एसबीआई की ओर से दो करोड़ रुपये की मदद:-वहीं भारतीय स्‍टेट बैंक ने भी मुख्‍यमंत्री आपदा राहत फंड को 2 करोड़ रुपये का दान किया है। इसके अलावा केरल में बैंक द्वारा मुहैया कराए जाने वाले सर्विस पर लगने वाले शुल्‍क को माफ कर दिया है।
बिहार, गुजरात और ओडिशा ने भी दी आर्थिक मदद;-बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने बाढ़ ग्रस्‍त केरल को 10 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद का ऐलान किया है। वहीं ओडिशा के मुख्‍यमंत्री नवीन पटनायक ने 5 करोड़ रुपये की मदद दी है। उन्‍होंने केरल में राहत कार्य के लिए नौकाओं के साथ 245 जवानों को भी भेजने की बात कही। गुजरात के मुख्‍यमंत्री विजय रुपाणी ने भी केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद मुहैया करायी है। उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री राहत कोष से 10 करोड़ की सहायता राशि प्रदान की है।बता दें कि केरल में बाढ़ ने भारी तबाही मचाई है, जिसमें अब तक 324 लोगों की मौत हो गई है। राज्‍य मुख्‍यमंत्री के अनुसार, यहां सर्वाधिक बाढ़ प्रभावित जिले में पंथानामथीट्टा, अलाफुज्‍जा, अर्नाकुलम और त्रिशूर हैं जहां 52,856 परिवार प्रभावित हैं।

नई दिल्ली। इंडियन कमर्शियल पायलट्स एसोसिएशन (आइसीपीए) ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखते हुए केरल राज्य में बाढ़ से प्रभावित लोगों की मदद के लिए स्वैच्छिक आधार पर केरल में विमान उड़ाने की अपनी इच्छा व्यक्त की है। उन्होंने पत्र में लिखा कि हम केरल राज्य में बिना पैसे लिए स्वैच्छिक आधार पर विमानों को उड़ाने के इच्छुक हैं। एसोसिएशन ने पत्र के जरिए कहा कि हम इसे एक विशेषाधिकार मानते हैं जिसका हम इस तरह के ऑपरेशन में सहायता के लिए उपयोग कर सकते हैं।आइसीपीए ने पत्र में आगे लिखा कि सर हमें पूर्ण विश्वास है कि केरल में हालात सुधरने के बाद आप निश्चित रूप से एयर इंडिया और एयर इंडियंस की दुर्दशा पर ध्यान देंगे। बता दें कि एक दिन पहले ही पायलटों ने बकाया उड़ान भत्तों का भुगतान तुरंत नहीं करने पर परिचालन रोकने की धमकी दी थी।एयरबेस 320 और बोइंग 787 पर एयर इंडिया के आईसीपीए पायलट ऑपरेशन 'मदद' और ऑपरेशन सहयोग में शामिल होने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कहा कि हम केरल में अपने साथी नागरिकों की मदद करने के प्रयास में सरकार और पीएमओ का समर्थन करेंगे। एसोसिएशन के महासचिव टी प्रवीण केरथी ने कहा कि एयर इंडिया हमेशा राहत आपातकालीन गतिविधियों और प्राकृतिक आपदाओं के दौरान मदद के लिए आगे आती है। हम केरल के लिए स्वैच्छिक आधार पर पायलटों के रूप में किसी भी मदद के लिए तैयार हैं, जैसे हमने हमेशा अतीत में भी या है।गौरतलब है कि केरल में भयंकर बारिश के बाद आई बाढ़ और भूस्खलन ने राज्य में हाहाकार मचा रखा है। आम जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित गया है। हजारों मकान बाढ़ के पानी में समा गए हैं, सड़कें धस गई। चारों ओर केवल पानी ही पानी नजर आ रहा है। बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। सेना व एनडीआरएफ की टीमों के अलावा स्थानीय मछुआरे भी अपनी नाव लेकर मदद के लिए आगे आए हैं। इस बीच केरल में बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर 357 हो गई है। अकेले शनिवार को ही 33 लोगों की मौत हो गई।

नई दिल्ली/मुंबई। महाराष्ट्र के सामाजिक कार्यकर्ता दाभोलकर हत्याकांड मामले में शामिल मुख्य आरोपी शूटर को सीबीआइ ने गिरफ्तार कर लिया है। सीबीआइ की ओर से जारी बयान में कहा गया कि दाभोलकर की हत्या के केस में औरंगाबाद निवासी सचिन प्रकाशराव आंदुरे को पुणे से गिरफ्तार किया गया। आरोपी आंदुरे को पुणे की अदालत में पेश किया गया, जहां कोर्ट से उसे 26 अगस्त तक सीबीआइ कस्टडी में भेज दिया है। बता दें कि सीबीआइ का कहना है कि आंदुरे भी उन शूटरों में था, जिसने 20 अगस्त, 2013 को दिनदहाड़े दाभोलकर पर गोलियां चलायी थी। उस वक्त दाभोलकर मॉर्निंग वॉक पर निकले थे।दाभोलकर की बेटी मुक्ता दाभोलकर ने कहा, 'उनकी (नरेंद्र दाभोलकर) हत्या के बाद, इसी तरह तीन और हत्याएं हुईं। जांच एजेंसियों का कहना है कि सभी चारों हत्याओं में समानता है। यह एक बड़ी साजिश है। वे सभी वैचारिक मतभेदों के कारण मारे गए थे।'इससे पहले सीबीआइ ने अपने आरोपपत्र में सारंग अकोलकर और विनय पवार के नाम का शूटर के तौर पर उल्लेख किया गया था। ये दोनों ही फिलहाल फरार चल रहे हैं। जब सीबीआइ से पुराने आरोप पत्र और अब आंदुरे को लेकर किए नए दावे के बारे में पूछा गया, तो एजेंसी के प्रवक्ता ने कहा कि फिलहाल जांच चल रही है।बता दें कि इससे पहले महाराष्ट्र पुलिस के आतंकवाद निरोध दस्ते (एटीएस) ने वैभव राउत, शरद कलास्कर और सुधना गोंडलेकर को गिरफ्तार किया था। इन पर विस्फोटक सामग्री बनाने का आरोप लगा है। एटीएस के मुताबिक इन तीनों से पूछताछ के दौरान एक संदिग्ध ने दाभोलकर की हत्या में शामिल होने की बात स्वीकारी। इसके बाद एटीएस ने ये जानकारी दाभोलकर हत्याकांड की जांच कर रही सीबीआइ की टीम को सौंप दी। इसी के आधार पर सीबीआइ ने सचिन प्रकाश आंदुरे और एक अन्य आरोपी को गिरफ्तार किया।
2014 में CBI का सौंपा गया मामला:-गौरतलब है कि अंधविश्वास के खिलाफ अभियान चलाने वाले सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र दाभोलकर की 20 अगस्त, 2013 को पुणे में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड की जांच मुंबई हाईकोर्ट ने मई, 2014 में सीबीआई को सौंपी थी।
2016 में वीरेंद्र तावड़े की हुई थी गिरफ्तारी:-सीबीआइ ने सितंबर, 2016 को पनवेल में 'हिंदू जनजागृति समिति आश्रम' से वीरेंद्र तावड़े को हत्या व आपराधिक साजिश के आरोप के चलते गिरफ्तार किया था। सीबीआइ ने बताया था कि तावड़े इस पूरे हत्याकांड का मुख्य साजिशकर्ता है। सीबीआइ ने ये बताया था कि सनातन संस्था के कार्यकर्ता सारंग अकोलकर और विनय पवार ने दाभोलकर को गोली मारी थी, ये दोनों अभी तक फरार हैं।सीबीआइ ने बताया था कि सांरग और विनय ने हत्या के लिए वीरेंद्र तावड़े की बाइक इस्तेमाल किया था। बता दें कि सनातन संस्थान के कार्यकर्ता सरंग अकोलकर के खिलाफ 2009 गोवा विस्फोट मामले के संबंध में जुलाई 2012 में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) के अनुरोध पर इंटरपोल द्वारा रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया था। अकोलकर एजेंसियों के रडार पर भी है।

 

नई दिल्ली। भारतीय राजनीति के महानायक और हर दिल अजीज भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद पूरे देश में उनको श्रद्धांजलि देने और उनकी यादों को संजाने का सिलसिला चल रहा है। इसी कड़ी में अब अटल बिहारी वाजपेयी को अमर रखने और लोगों की यादों में हमेशा जिंदा रखने के लिए देश भर में सरकारें और सरकारी एजेंसियां उनके नाम पर योजनाएं शुरू करने या पुरानी योजनाओं का नाम बदलकर उनके नाम पर रखने की तैयारी कर रही हैं। दिल्ली, यूपी व हिमाचल समेत कई राज्यों ने इसकी कवायद शुरू कर दी है।
दिल्ली के पार्क और अस्पतालों का नाम बदला जाएगा:-उत्तरी और दक्षिणी नगर निगम ने पार्क और अस्पतालों के नाम बदलकर अटल जी के नाम पर रखने निर्देश भी दे दिए हैं। महापौर की ओर से जारी निर्देशों के अनुसार, उन स्थानों और इमारतों की सूची तैयार की जा रही है जिनका नामकरण अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर किया जा सकता है।दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के महापौर नरेंद्र चावला ने बताया कि उन्होंने निगम के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वह बताएं कि किस योजना को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि वह सोमवार को सभी पार्षदों से उनके सुझाव भी लेंगे और उनसे पूछेंगे कि उनके इलाके में किस अस्पताल, डिस्पेंसरी और पार्क का नाम अटल बिहारी के नाम पर रखा जा सकता है।उत्तरी दिल्ली नगर निगम के महापौर आदेश गुप्ता ने कहा कि जल्द ही अटल बिहारी वाजपेयी के नाम से किसी बड़े स्थल का नाम या अस्पताल के नाम की घोषणा की जाएगी। उन्होंने अधिकारियों को कहा है कि वह देखें कि किस स्थल या अस्पताल का नाम पूर्व प्रधानमंत्री के नाम पर रखा जा सकता है। गुप्ता ने कहा कि वाजपेयी का रामलीला मैदान से भी खास नाता रहा है, इसलिए इसका नाम बदल कर अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर किया जा सकता है।बता दें कि निगम अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर पहले से ही मेडिकल कॉलेज और अटल जनआहार योजना चला रहा है। पिछले वर्ष अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर यह योजना शुरू की गई थी। इसके तहत करीब आठ स्थानों पर 10 रुपये में खाने की थाली मिलती है।
लखनऊ में बनेगा नया चिकित्सा विश्वविद्यालय:-भारत रत्न व पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देने के लिए प्रदेश सरकार उनके नाम पर लखनऊ में एक नया चिकित्सा विश्वविद्यालय बनाने जा रही है। अटल के पहले संसदीय क्षेत्र रहे बलरामपुर में भी किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय का एक सेटेलाइट सेंटर उनके नाम पर स्थापित करने की तैयारी की जा रही है। इसके साथ ही भव्य स्मारकों के निर्माण और तमाम विकास परियोजनाओं को भी उनका नाम देने की तैयारी शुरू कर दी गई है।
सीतापुर में बनेगा अटल चौक:-यूपी के ही सीतापुर स्थित रेउसा चौराहे को अटल चौक के नाम से विकसित किया जाएगा। इस चौराहे पर अटल बिहारी वाजपेयी की विशाल प्रतिमा लगाई जाएगी। यह घोषणा शनिवार को रेउसा में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में विधायक ज्ञान तिवारी ने की है।
अटल ने 1998 में रोहतांग सुरंग का देखा था सपना;-हिमाचल सरकार प्रदेश की कई योजनाओं को पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर समर्पित कर सकती है जैसे अटल एंबुलेंस योजना व अटल वर्दी योजना। सरकार बिलासपुर के कोठीपुरा में प्रस्तावित एम्स अस्पताल भी अटल जी को समर्पित करने पर विचार कर रही है।मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि रोहताग सुरंग पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का सपना था। यह दुखद है कि सुरंग निर्माण उनके जीवनकाल में पूरा नहीं हो पाया। प्रदेश सरकार केंद्र से मांग करेगी कि इस सुरंग का नामकरण अटल जी के नाम पर किया जाए। इसके लिए राज्य सरकार केंद्र को प्रस्ताव भेजेगी।नई दिल्ली से शनिवार दोपहर करीब एक बजे शिमला लौटने पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने मुख्य सचिव विनीत चौधरी से इस मामले पर चर्चा भी की। चार हजार करोड़ रुपये से निर्माणाधीन रोहतांग सुरंग का कार्य अगले वर्ष पूरा होगा। रोहतांग सुरंग के निर्माण का विचार वाजपेयी को वर्ष 1998 में आया था। इस परियोजना निर्माण की घोषणा अटल जी ने तीन जून 2000 को की थी।

नई दिल्ली। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की बेटी अनिता बोस फाफ ने एक बार फिर से अपने पिता के अवशेष को घर वापस लाने के लिए भारत और जापान की सरकार से अपील की है। उनके अनुसार, 18 अगस्त, 1945 को नेताजी की ताइवान में एक हवाई दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी और सितंबर 1945 से टोक्यो के रैंकोजी मंदिर में उनके अवशेष संरक्षित हैं।उन्होंने कहा, 'पिता (नेताजी) की 73वीं पुण्यतिथि पर मैंने एक बार फिर से दोनों देशों की सरकार से नेताजी के अवशेषों को जापान से भारत भेजने की अपील की है, ताकि उनके अवशेषों को विसर्जित किया जा सके।' उन्होंने आगे कहा, 'मेरे पिता की स्वतंत्र भारत में लौटने की महात्वाकांक्षा थी। दुर्भाग्य से यह पूरी नहीं हो सकी। इसलिए यह उचित होगा कि यदि कम से कम उनके अवशेष स्वतंत्र भारत की मिट्टी को छू सकें। मेरे पिता एक हिंदू थे। रिति-रिवाज के अनुसार संभवतः उनके अवशेषों को गंगा में विसर्जित करना उपयुक्त है।'टोक्यो स्थित जापान-इंडिया एसोसिएशन के 115 वर्षीय अध्यक्ष हिरोशी हिराबयाशी ने भी भारत सरकार से नेताजी के अवशेषों की वापसी की सुविधा प्रदान करने का अनुरोध किया। एक बयान में भारत के पूर्व जापानी राजदूत हिराबयाशी ने कहा, 'नेताजी सुभाष चंद्र बोस की राखें रैंकोजी मंदिर(टोक्यो में) में रखी हैं, जो लंबे समय से आधिकारिक पुष्टि का प्रतीक्षा कर रही हैं।'शनिवार को रैंकोजी मंदिर में नेताजी को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए वार्षिक स्मारक सेवा का आयोजन किया था। कुछ प्रमाणित दस्तावेजों के अनुसार, ताइपे में विमान दुर्घटना के बाद नेताजी की मृत्यु हो गई थी और टोक्यो में उनके अवशेषों को रखा गया है। हाल ही में प्रकाशित आशीष रे की किताब में भी इसका जिक्र किया गया है।

चेन्नई। दक्षिण भारत में पिछले कई दिनों से हो रही लगातार बारिश ने कहर बरपा रखा है। सड़कें, घर सब पानी में डूबे हुए हैं। केरल में बाढ़ के कारण 350 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी हैं। सभी जिलों में बाढ़ से हाहाकार मचा हुआ है। वहीं दूसरी ओर तमिलनाडु में भी बारिश का असर दिख रहा है। त्रिची में बारिश की वजह से कोलिडम ब्रिज का एक हिस्सा देर रात कावेरी नदी में समा गया। ये घटना रात एक बजे के आसपास हुई है। रात का वक्त होने की वजह से इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है।
पल भर में त्रिची का ब्रिज कावेरी नदी में समा गया:-सोशल मीडिया पर इसका जो वीडियो सामने आया है, उसमें देखा जा सकता है कि कैसे पल भर में एक ब्रिज पानी में समा जाता है। उस वक्त कुछ लोग मौके पर खड़े थे। वो भी इसे देखकर हैरान रह गए। वहां मौजूद लोगों ने इसका वीडियो बना लिया।

नई दिल्ली। भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का अस्थियां हरिद्वार स्थित हरकी पैड़ी में विसर्जित करने के लिए रवाना हो चुकी हैं। रविवार सुबह अटल बिहारी वाजपेयी की पुत्री नमिता और नातिन निहारिका परिवार के अन्य सदस्यों के साथ उनकी अस्थियां चुनने के लिए दिल्ली के स्मृति स्थल पहुंची थीं, जहां शुक्रवार को उनका अंतिम संस्कार किया गया था। पूरे रीति-रिवाज और मंत्रोचार के बीच अटल बिहारी वायपेयी की अस्थियां एकत्र की गईं।स्मृति स्थल से तीन कलश में पूर्व प्रधानमंत्री की अस्थियां एकत्र की गई हैं। यहां से एकत्र कर इन्हें दिल्ली के प्रेम आश्रम ले जाया जाएगा। फिर वहां से अस्थियों को सड़क मार्ग के जरिए उत्तराखंड के हरिद्वार स्थित हर की पैड़ी घाट ले जाया जाएगा। हर की पैड़ी घाट में उनकी अस्थियों को गंगा में विसर्जित किया जाएगा। हर की पैड़ी के अलावा उनकी अस्थियां देशभर की करीब 100 नदियों में विसर्जित करने की योजना है। 21 अगस्त को देश के सभी राज्यों में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा निकाली जाएगी।दिल्ली से सड़क मार्ग के जरिए अस्थियों को हरिद्वार ले जाया जा रहा है। हरिद्वार में दोपहर साढ़े बारह बजे से डेढ़ बजे के बीच अस्थि विसर्जित की जाएगी। इस दौरान पूर्व प्रधानमंत्री की बेटी नमिता, नातिन निहारिका, भांजा व सांसद अनूप मिश्रा के साथ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत 400 विशिष्ट लोग उपस्थित रहेंगे।हरिद्वार तक की इस कलश यात्रा में भाजपा के करीब 15 हजार कार्यकर्ता भी शिरकत करेंगे। अस्थि कलश हरिद्वार पहुंचने के बाद वहां पर करीब दो किलोमीटर लंबी विसर्जन यात्रा भी निकली जाएगी। इस दौरान लाखों की संख्या में स्थानीय लोग और भाजपा कार्यकर्ताओं के शामिल होने का अनुमान है। इसे देखते हुए हरिद्वार में सुरक्षा के चौकस इंतजाम किए गए हैं। शनिवार से ही सुरक्षा बलों ने हरिद्वार में हरकी पैड़ी समेत विसर्जन यात्रा के मार्ग और आसपास सुरक्षा संभाल ली है।अस्थी विसर्जन के लिए हर की पैड़ी पर मंच भी तैयार किया गया है। माना जा रहा है कि अस्थि विसर्जन के पहले या बाद में अमित शाह, राजनाथ सिंह, योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत बीजेपी के कार्यकर्ताओं और लोगों को संबोधित कर सकते हैं। अटल जी की याद में सोमवार को दिल्ली के डी जाधव स्टेडियम में सर्वदलीय प्रार्थना सभा होगी। साथ ही, सभी राज्यों की राजधानियों में प्रार्थना सभाएं आयोजित होंगी।
कहीं स्मारक, कहीं पुरस्कार का ऐलान:-मध्य प्रदेश ने अब 3 पुरस्कार अटल जी के नाम पर दिए जाने का फैसला किया है। उधर, यूपी सरकार भूतपूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की याद में स्मारक बनाने की तैयारी में है। राज्य में चार स्मारक, आगरा के बटेश्वर, कानपुर, बलरामपुर और लखनऊ में बनाए जाएंगे। बलरामपुर संसदीय क्षेत्र से वह पहली बार सांसद चुने गए और लखनऊ उनकी कर्मभूमि रही।
हर की पैड़ी को किया गया जीरो जोन:-हरिद्वार के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) कृष्ण कुमार वीके ने बताया कि सुरक्षा के मद्देनजर प्रात: कालीन गंगा आरती के बाद हर की पैड़ी को जीरो जोन में तब्दील कर दिया गया है। अस्थि विसर्जन कार्यक्रम के समापन के बाद ही आम जन को यहां आने की अनुमति होगी। हालांकि अन्य घाटों पर श्रद्धालु स्नान कर सकेंगे। सुरक्षा में पुलिस के करीब एक हजार जवानों को तैनात किया गया है। शांतिकुंज से हरकी पैड़ी तक अस्थि कलश यात्रा के दौरान स्पेशल दस्तों की तैनाती की गई है। बहुमंजिला इमारतों से स्नाइपर चारों ओर नजर रखेंगे।
अस्थि कलश यात्रा के दौरान बंद रहेगा यातायात:-पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा गुजरने के दौरान दिल्ली-देहरादून हाईवे पर यातायात बंद रहेगा। हालांकि यात्रा दूधाधारी चौक से हरकी पैड़ी की तरफ मुड़ने पर छोटे वाहनों की आवाजाही शुरू कर दी जाएगी। मगर भारी वाहन शाम तक बंद रहेंगे। वहीं हरकी पैड़ी पर अस्थि विसर्जन होने तक हरकी पैड़ी से खड़खड़ी जाने वाला मार्ग आमजन के लिए पूरी तरह बंद रहेगा। अस्थि विसर्जन कार्यक्रम में तमाम बड़ी हस्तियां शामिल होंगी, इसलिए पुलिस ने एक दिन के लिए यातायात का विशेष प्लान लागू किया है। इसके तहत सुबह से ही हाईवे पर भारी वाहनों की आवाजाही पर रोक रहेगी।

श्रीनगर। सेना ने शनिवार को उत्तरी कश्मीर के टंगडार (कुपवाड़ा) सेक्टर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर घुसपैठ के प्रयास को नाकाम बनाते हुए तीन पाकिस्तानी आतंकियों को मार गिराया। उनके अन्य साथियों की धरपकड़ के लिए सेना ने सघन तलाशी अभियान चला रखा है।सैन्य अधिकारियों ने बताया कि टंगडार सेक्टर में बलथारिया इलाके में सेना की छह गढ़वाल रेजिमेंट के जवानों ने दोपहर को एलओसी पर कुछ संदिग्ध गतिविधियां देखीं। जवानों ने अग्रिम इलाकों में तलाशी अभियान चलाया। शाम करीब साढ़े चार बजे उन्होंने घुसपैठियों के दल को भारतीय इलाके में देखा। जवानों ने घुसपैठियों को आत्मसमर्पण करने के लिए कहा। इस पर घुसपैठियों ने गोलीबारी शुरू की दी। जब सेना ने जवाबी कार्रवाई की तो घुसपैठिये वापस गुलाम कश्मीर की तरफ भागने लगे। कुछ वहीं छिप गए। उसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। सवा दो घंटे तक दोनों तरफ से गोलियां चलती रहीं। आतंकियों की ओर से गोलीबारी थमने के बाद जब जवानों ने सावधानीपूर्वक आगे बढ़ते हुए मुठभेड़स्थल की तलाशी ली तो उन्हें वहां गोलियों से छलनी तीन आतंकियों के शव घुसपैठियों की तादाद पांच थी। तीन मारे गए हैं और दो के एलओसी पर कहीं छिपे होने की आशंका से इन्कार नहीं किया जा सकता। एहतियात के तौर पर पूरे इलाके में तलाशी अभियान चल रहा है। गौरतलब है कि टंगडार सेक्टर में 13 अगस्त से पाकिस्तानी सैनिक रोज अंधेरा होते ही आतंकियों की घुसपैठ करवाने के लिए संघर्षविराम का उल्लंघन कर भारतीय ठिकानों पर गोलाबारी कर रहे हैं।
हथियार व अन्य सामान बरामद:-मारे गए आतंकियों के पास से तीन एसाल्ट राइफलें, 14 मैगजीन, ग्रेनेड, कारतूस व अन्य साजो सामान मिला है। सूत्रों की मानें तो तीनों आतंकियों को स्थानीय लोगों की मदद से सेना ने दफना दिया है। हालांकि आधिकारिक तौर पर इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

श्रीनगर। कश्मीर में अलकायदा से संबंधित आतंकी संगठन अंसार-उल-गजवा-ए-हिंद के कमांडर जाकिर मूसा ने शनिवार को अल हूर मीडिया के जरिये नया ऑडियो संदेश जारी कर कश्मीर मसले का हल बातचीत या संयुक्त राष्ट्र की सिफारिशों से नहीं बल्कि शरिया और कुरान में बताया है।शनिवार रात जारी 15 मिनट 52 सेकेंड का मूसा का यह इस साल का पहला ऑडियो संदेश है। मूसा ने कश्मीर के लोगों और व्यापारियों से सीसीटीवी कैमरे का इस्तेमाल न करने का आग्रह करते हुए कहा कि इससे उनकी दुकानों और घरों के बाहर की गतिविधियां कैद हो जाती हैं।

रायपुर। हाथियों का उग्र दल माना जाने वाला 'लोनर्स ग्रुप' राज्य मुख्यालय रायपुर की ओर एक बार फिर बढ़ रहा है। हालांकि, यह दल अभी महासमुंद जिले की सीमा में है। उसे रायपुर की सीमा में प्रवेश करने के लिए महानदी को पार करना होगा। इधर, प्रभावित क्षेत्रों में वन विभाग ने अलर्ट जारी कर दिया है। लोगों को आगाह किया जा रहा है कि वो सुरक्षित स्थानों पर ही रहें, हाथियों के पास न जाएं।वन विभाग के बीट गार्ड इन हाथियों पर नजर रखे हुए हैं, क्योंकि हाथियों ने नदी पार कर लिया तो उन्हें, लौटाना मुश्किल होगा। हाथियों के इस दल का नामकरण वन विभाग ने लोनर्स(उग्र दल) के रूप में किया है। इस ग्रुप में 46 हाथी हैं। मुख्य दल कोरबा मंडल में है, मगर 14 हाथी रास्ता भटककर रायपुर की सीमा पर बहने वाली महानदी तक आ गए हैं। हाथियों का यह दल बीते पांच वर्ष में 55 लोगों को पैरों से रौंदकर मार चुका है।

Page 1 of 3029

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें