कारोबार

कारोबार (1638)

भारती एयरटेल और वोडाफोन सहित सात दूरसंचार ऑपरेटरों के मोबाइल फोन ग्राहकों की संख्या मार्च में 56.8 लाख बढ़कर 89.52 करोड़ के पार पहुंच गई। इसमें दिसंबर, 2016 तक के नई कंपनी रिलायंस जियो के आंकड़े भी शामिल हैं। यदि जियो को अलग किया जाए तो मार्च, 2017 के अंत तक कुल मोबाइल ग्राहकों की संख्या 82.31 करोड़ बैठेगी।सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीओएआई) के आंकड़ों के अनुसार मार्च, 2017 के अंत तक मोबाइल कनेक्शनों की संख्या 89.52 करोड़ को पार कर गई है। मार्च महीने में शुद्ध रूप से ग्राहकों की संख्या में 56.8 लाख का इजाफा हुआ।समीक्षाधीन महीने में भारती एयरटेल ने 30 लाख नए ग्राहक बनाए। उसके कुल ग्राहकों की संख्या 27.36 करोड़ हो गई। एयरटेल की बाजार हिस्सेदारी भी बढ़कर 33.25 प्रतिशत हो गई।वोडाफोन के ग्राहकों की संख्या 20.90 करोड, आइडिया सेल्युलर के 19.53 करोड़ रही। रिलायंस जियो के ग्राहकों की कुल संख्या 7.21 करोड़ रही। माह के दौरान टेलीनॉर के ग्राहकों की संख्या 11.3 लाख घटी है। टेलीनॉर के कारोबार का एयरटेल ने अधिग्रहण किया है।

जून माह में ट्रेन से संबंधित सभी प्रश्नों के उत्तर एक मेगा एप के जरिए मिल सकेंगे जिसका नाम हिंदरेल रखा जा सकता है। इस मेगा एप में रेलवे के अभी तक के सारे एप शामिल किए जाएंगे। भारतीय रेलवे एक ऐसा नया एप बना रहा है जो कि ट्रेनों के आने, जाने, लेट होने , रद्द होने, प्लेटफॉर्म नंबर, रनिंग स्टेटस और सीट उपलब्धता के बारे में पूरी जानकारी देगा।इसके अलावा इससे टैक्सी, लाने ले जाने की सुविधा, रिटायरिंग रूम, होटल, टूर पैकेज, ई कैटरिंग और यात्रा से जुड़ी अन्य जरूरतों को भी पूरा किया जा सकता है। रेलवे ये सारी सुविधाएं सेवा प्रदाताओं के साथ राजस्व साक्षाकरण मॉडल के तौर पर उपलब्ध कराएगा। रेलवे के पास ट्रेन के जुड़ी भरोसेमंद सूचनाएं नहीं मिलने की यात्रियों की शिकायतों का अंबार रहता है खास तौर पर ट्रेनों के लेट होने के संबंध में।रेलवे बोर्ड के सदस्य मोहम्मद जमशेद ने स्वीकार किया कि ट्रेनों के लेट होने से जुड़ी सटीक जानकारियां देने में समस्याएं हैं। लेकिन अब नया एप इन मुददों का निपटारा कर सकेगा। उन्होंने कहा, नया एप जून में लांच किया जाएगा जो न सिर्फ सूचनाएं देगा लेकिन इसके जरिए ट्रेनों पर भी निगाह रखी जा सकेगी।वर्तमान में भारतीय रेलवे कई ऐसे एप चला रही है जो विभिन्न प्रकार की सेवाएं देती हैं। इसमें सीएमएस एप फॉर कम्पेन मैनेजमेंट सिस्टम शामिल हैं। इस एप के नाम के बारे में पूछे जाने पर जमशेद ने कहा,हमें उसे एक उचित नाम देना है लेकिन उस पर निर्णय नहीं हुआ है।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि भारत में पहली बार आर्थिक सुधारों को व्यापक जन समर्थन प्राप्त हुआ है। हाल के चुनाव नतीजे इसका संकेत देते हैं। जेटली ने यहां उनके सम्मान में अमेरिका में भारत के राजदूत नवतेज सरना द्वारा दिए गए भोज में कहा कि हमारी अर्थव्यवस्था के बारे में आज अहम बात यह है कि जहां तक आर्थिक सुधारों की बात है तो शायद पहली बार उसे इतने बड़े पैमाने पर जन समर्थन प्राप्त हुआ है।उन्होंने कहा कि अतीत में सरकारों ने जो भी सुधार किए वे विभिन्न चरणों में किए गए और सरकारें हमेशा यही महसूस करती रहीं कि उन्हें उसकी राजनीतिक कीमत चुकानी होगी, इसलिए वह कुछ सुधारों को आगे बढ़ाने बाद चुप बैठ जाती थीं।उन्होंने ट्रंप प्रशासन के अधिकारियों, राजनयिकों, कोरपोरेट नेताओं, विचारकों और भारतीय अमेरिकियों को संबोधित करते हुए कहा, निश्चित तौर पर दुनियाभर में लोग इस बात को लेकर आशंकित थे कि भारत कुछ कदमों को उठाने में कितना समय लेगा। मैं समझता हूं कि वह दौर अब पीछे छूट चुका है।वित्त मंत्री ने कहा कि बार बार के चुनावों में यही संकेत मिलता है लोग सुधारों के प्रति ज्यादा आकांक्षी एवं उसके पक्ष में हैं। उन्होंने कहा कि पिछले तीन साल में भारत ने सात से आठ फीसदी की वृद्धि दर हासिल की है जबकि इस दौरान दुनिया मंदी की दौर में रही। उन्होंने कहा कि यह वह वृद्धि दर है जिसे हमने पूरी तरह कायम रखा है। इस दौरान हमारे सारे अन्य आर्थिक मापदंड पूरी नियंत्रण में जान पड़ते हैं।उन्होंने कहा कि हमने पिछले कुछ सालों में देखा है, 7-8 फीसदी वृद्धि दर अब भारत में सामान्य बात हो गई। हमने 7.2 फीसदी की दर से विकास किया, फिर 7.9 फीसदी की दर से वृद्धि की, अब 7.1 फीसदी रहने की संभावना है तथा अगले साल इसके और ऊपर जाने की उम्मीद है।

इंडियन रेलवे अपनी सभी ट्रेनों से AC-2 कोच खत्म करने की योजना बना रही है। वहीं, रेलवे इसकी जगह AC-3 कोच बढ़ाएगी। हाल में रेलवे की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार सिर्फ AC-3 कोच ही सबसे ज्यादा मुनाफा कमा कर देता है। इसीलिए माना जा रहा है कि रेलवे नॉन-एसी स्लीपर कोच की संख्या घटाकर भी AC-3 कोच बढ़ाए जा सकते हैं और कम रिस्पॉन्स के चलते 143 ट्रेनों में फ्लैक्सी फेयर सिस्टम को भी वापस लिया जा सकता है। इसकी जगह सभी ट्रेनों के बेसिक फेयर में 10 से 15 फीसदी तक की बढ़ोतरी होने की उम्मीद है।
ट्रेनों से हटाये जाएंगे AC-2 कोच:-रेलवे के सूत्रों से मिली जानकारी में बताया है कि 13 हजार पैसेंजर ट्रेनों में धीरे-धीरे AC-2 कोच कम होंगे और फिर इन्हें खत्म कर दिया जाएगा। जिन पैसेंजर ट्रेनों में अभी 20 या 22 कोच लगते हैं, उन्हें बढ़ाकर 24 करने का फैसला हुआ है। ऐसी ट्रेनों में जो एक्स्ट्रा कोच बढ़ाए जाएंगे, वो AC-3 के ही रहेंगे। यह भी पढ़े: 5 साल में पहली बार रेलवे के लिए बड़ी खुशखबरी, एक साल में यात्रियों की संख्या 7 करोड़ बढ़ी
रेलवे इसीलिए उठा रहा है ये कदम:-रेलवे के पिछले साल के आंकड़ों के मुताबिक AC-3 कोच ने उसे सबसे ज्यादा कमाई करके दी है। इसीलिए रेलवे अधिकारियों का कहना है कि एसी-2 के लिए उसी समय मांग होती है। जब एसी-3 में जगह नहीं होती। स्लीपर में चलने वाले करीब 30-40 फीसदी यात्री अब एसी-3 का सफर चाहने लगे हैं।यह भी पढ़े: संसदीय समिति का रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास कार्यों में तेजी लाने पर जोर
SMS पर दी जाएगी ट्रेन लेट होने की सूचना:-मंथली सीजनल टिकट का किराया भी बढ़ाया जा सकता है। जल्दी ही टिकट कैंसल करने के नियमों में भी बदलाव किया जाएगा। ट्रेन लेट होने पर पैसेंजर्स को इसकी जानकारी एसएमएस पर दी जाएगी। चार दर्जन से अधिक ट्रेनों की पहचान कर उन्हें समय से चलाने, उन्हें अप टू टाइम बनाने को लेकर भी कदम उठाए जाएंगे। भारतीय रेलवे ने डाली पुराने कुंओं में नई जान, पानी पर हर जोन में होगी प्रति महीना 22 लाख रुपए की बचत
फ्लैक्सी फेयर हो सकता है ख़त्म:-राजधानी, शताब्दी, दुरंतो ट्रेनों में फ्लैक्सी फेयर सिस्टम का भी रेलवे रिव्यू कर रहा है। इस सिस्टम को बंद करने और इसके बदले में ऑप्शनल सिस्टम लाने पर सोचा जा रहा है। यह भी सोचा जा रहा है कि सभी ट्रेनों के बेसिक फेयर में 10% से 15% का इजाफा किया जाए। मंथली सीजन टिकटों के रेट भी बढ़ाए जाएं।रेलवे के मुताबिक, पिछले साल 9 सितंबर से 31 अक्टूबर के बीच राजधानी, दुरंतो और शताब्दी एक्सप्रेस में 5 हजार 871 बर्थ खाली रही थीं। फ्लैक्सी फेयर सिस्टम को ही इसकी वजह माना गया था।

पेट्रोलियम मंत्रालय पेट्रोल व डीजल की होम डिलीवरी शुरू करने पर विचार कर रहा है ताकि पेट्रोल पंपों पर भीड़ को कम किया जा सके। मंत्रालय ने सोशल मीडिया टिवटर पर यह जानकारी दी। इसके अनुसार पहले बुकिंग करवाने पर पेट्रोल व डीजल की होम डिलीवरी शुरू की जा सकती है।इसके अनुसार हर दिन 3.5 करोड़ लोग देश भर में 59,595 पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल डीजल खरीदने जाते हैं। इस कारण जहां पेट्रोल पंपों पर भीड़ लगती है वहीं अनेक सड़कों पर भी जाम लग जाता है। पेट्रोल पंपों से सालाना 2500 करोड़ रुपये का ईंधन खरीदा जाता है। मंत्रालय अब चाहता है कि इसमें से कुछ हिस्से की होम डिलीवरी शुरू की जाए।इसके तहत एक मई से चुनींदा शहरों में पेट्रोल व डीजल के दाम में दैनिक बदलाव के साथ इनकी होम डिलीवरी पर भी विचार किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि देश पेट्रोलियम उत्पादों का दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता है।

मार्च माह के 4जी स्पीड के आंकड़ों में नई दूरसंचार सेवाप्रदाता रिलायंस जियो ने शीर्ष स्थान पाया है। कंपनी की औसत 4जी डाउनलोड स्पीड 16.48 मेगाबिट प्रति सेकेंड (एमबीपीएस)रही जो उसकी प्रतिद्वंदी कंपनी आइडिया सेल्युलर और भारती एयरटेल की इसी अवधि की औसत डाउनलोड से लगभग दोगुनी रही।दूरसंचार क्षेत्र नियामक भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने अपनी मासिक रपट में यह जानकारी दी है। रपट के अनुसार मार्च में जियो की औसत डाउनलोड स्पीड 16.48 एमबीपीएस रही। इसके मुकाबले आइडिया की औसत डाउनलोड स्पीड 8.33 एमबीपीएस और एयरटेल की 7.66 एमबीपीएस रही।आम भाषा में इसे ऐसे समझा जा सकता है कि 16 एमबीपीएस की स्पीड पर कोई व्यक्ति एक बॉलीवुड फिल्म को पांच मिनट में डाउनलोड कर सकता है। समीक्षावधि में वोडाफोन की औसत डाउनलोड स्पीड 5.66 एमबीपीएस, रिलायंस कम्युनिकेशंस की 2.64 एमबीपीएस, टाटा डोकोमो की 2.52 एमबीपीएस, बीएसएनएल की 2.26 एमबीपीएस और एयरसेल की 2.01 एमबीपीएस रही।ट्राई मासिक आधार पर अपनी माईस्पीड एप्लीकेशन के माध्यम से यह आंकड़े जुटाती है। इसी बीच एक निजी कंपनी ओपन सिग्नल ने अपने सवेर्क्षण में दावा किया है कि भारती एयरटेल 11.5 एमबीपीएस की औसत 4जी डाउनलोड स्पीड के साथ सबसे तेज 4जी नेटवर्क है जबकि 3.92 एमबीपीएस की औसत स्पीड के साथ रिलायंस जियो चौथे स्थान पर रहा है।ओपन सिग्नल ने दो मेट्रो शहर दिल्ली और मुंबई एवं दो राज्य कनार्टक और तमिलनाडु से यह आंकड़े जुटाए हैं। यह आंकड़े उसने दिसंबर 2016 से फरवरी 2017 के बीच 1.3 अरब डाटा केंद्रों से जुटाए जिसके 93464 उपयोक्ता हैं। इसके अलावा एयरटेल ने अपने विज्ञापन में सबसे तेज 4जी नेटवर्क होने का दावा किया है जिसका रिलायंस जियो ने विरोध किया है।भारतीय विज्ञापन मानक परिषद ने एयरटेल के विज्ञापन में किए गए दावे को भ्रामक बताया है जिसके चलते उसने कंपनी से 11 अप्रैल तक विज्ञापन को वापस लेने या उसमें सुधार करने के लिए कहा है। एयरटेल ने परिषद से इस निर्णय पर पुनर्विचार का आग्रह किया है।

पेट्रोलियम मंत्रालय ने पेट्रोल पंप मालिकों के एक वर्ग द्वारा रविवार को पेट्रोल पंप बंद रखने के फैसले पर आपत्ति जताई है। इनमें से ज्यादातर पेट्रोल पंप दक्षिण भारत के हैं। मंत्रालय का कहना है कि इस तरह के कदम से आम जनता को असुविधा होगी।मंत्रालय ने कहा कि भारतीय पेट्रोलियम डीलरों के गठजोड़ ने अपने इस फैसले के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक दिन ईंधन इस्तेमाल न करने…
गर्मियां दस्तक दे चुकी हैं और ऐसे में फैशनेबल होने के साथ ही आपको अपनी सेहत और सहज कपड़ों का भी ध्यान रखना होगा। तेज गर्मी में बाहर निकलते हुए ऐसे कपड़ों का चयन करें जिससे तेज धूप में भी आपको सहजता महसूस हो। यहां हम आपको डिजाइनर्स के मुताबिक कुछ ऐसे टिप्स बता रहे हैं जिनसे आप गर्मियों में भी फैशनेबल दिखाई देंगे। आगे की स्लाइड में पढ़ें इन…
दक्षिण कोरियाई कार निमार्ता कंपनी हुंडई मोटर्स इंडिया ने सेडान श्रेणी में आज अपनी एक्सेंट का नया संस्करण पेश किया। इसकी दिल्ली शोरूम में कीमत 5.38 लाख रुपये से 8.42 लाख रुपये के बीच होगी। कंपनी ने इसके साथ ही 2018 तक अपनी हाइब्रिड कार पेश करने की भी घोषणा की है। नये वाहनों को पेश करने के लिए कंपनी अगले चार साल में 5,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी।कंपनी…
श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने आज कहा कि वित्त मंत्रालय ने कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) पर 2016-17 के लिये 8.65 प्रतिशत ब्याज को मंजूरी दे दी है। इस मंजूरी के बाद ईपीएफओ यह ब्याज अपने चार करोड़ अंशधारकों के खातों में डाल सकेगा। मंत्री ने कहा, वित्त मंत्रालय ने 8.65 प्रतिशत ब्याज को मंजूरी दे दी है। अब इस बारे में सूचना आएगी। औपचारिक चचार् पूरी हो गयी है।उन्होंने आगे…
Page 1 of 117

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें