कारोबार

कारोबार (2138)

देश की प्रमुख मोबाइल नेटवर्क कंपनियों में से एक वोडाफोन इंडिया ग्राहकों के लिए एक नया रोमिंग प्लान लेकर आई है। इस प्लान का नाम 'अनलिमिटेड सुपर प्लान 176' है जो मुफ्त रोमिंग देगा।वोडाफोन का नया प्लान मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में प्रीपेड ग्राहकों के लिए है। इस प्लान के तहत इन दो राज्यों में रोमिंग फ्री दी जाएगी। मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में वोडाफोन इंडिया के कारोबार प्रमुख मोहित नरूला ने कहा, 'भारत का दूसरा सबसे बड़ा सर्किल होने के कारण मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ सात भारतीय राज्यों की सीमाओं से जुड़ा है। यहां के उपभोक्ता इन राज्यों में अक्सर यात्रा करते हैं, ऐसे में यह सुपर प्लान उपभोक्ताओं को रोमिंग पर मुफ्त कॉलिंग की सुविधा प्रदान करेगा।'उन्होंने कहा, 'इसके तहत वोडाफोन मात्र 176 रुपये में रोमिंग पर अनलिमिटेड लोकल और नेशनल कॉलिंग और 28 दिनों के लिए रोज़ाना 1जीबी का 2जी इंटरनेट भी उपलब्ध कराएगा।उन्होंने बताया कि वोडाफोन का यह ऑफर मध्यप्रदेश—छत्तीसगढ़ सर्किल के सभी प्रमुख वोडाफोन स्टोर्स, मिनी स्टोर्स, मल्टी ब्राण्ड रीटेल आउटलेटस और माय वोडाफोन ऐप पर उपलब्ध है।

 

 

बैंक खाता खुलवाने, मोबाइल नंबर लेने और रेल-हवाई टिकट बुक कराने सहित कई जगहों पर अब आधार का उपयोग होने लगा है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपकी अनुमति के बगैर कौन और कब इसका इस्तेमाल कर रहा है? आपको याद भी नहीं होगा आपने कहां-कहां इसका डिटेल दिया है।मगर अब आप पूरी डि‍टेल जान सकते हैं कि‍ आपके आधार का इस्तेमाल कहां हो रहा है। यूनीक आइडेंटि‍फि‍केशन अथॉरि‍टी ऑफ इंडि‍या (UIDAI) ने इसे चेक करने की सुवि‍धा दी है। UIDAI आपके आधार को मैनेज करती है। आप अपने आधार के इस्‍तेमाल की पड़ताल इस तरह कर सकते हैं
1 आधार ऑथेंटि‍केशन हि‍स्‍ट्री पेज पर https://resident.uidai.gov.in/notificationaadhaar लिंक पर जाएं
2 यहां अपना आधार नंबर और फोटो में दि‍या हुआ सि‍क्‍योरि‍टी कोड डालें
3 इसके बाद वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) जनरेट करने के लि‍ए क्‍लि‍क करें
4 आपके रजि‍स्‍टर्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी आएगा
5 ओटीपी को भरें और सबमि‍ट कर दें। ओटीपी भरने से पहले आपको वो समय सीमा भी चुनना होगा, जि‍सका डि‍टेल आपको चाहि‍ए
6 इसके बाद आपको तारीख और समय के हि‍साब से पूरी डि‍टेल मि‍ल जाएगी कि‍ आपके आधार को कहां- कहां इस्तेमाल कि‍या गया है। इससे आप जान सकते हैं आपके आधार को वेरि‍फाई करने के लि‍ए UIDAI के पास कि‍तनी बार रि‍क्‍वेस्‍ट आई है
आधार लॉक करने का भी विकल्प
अगर आपको कुछ गड़बड़ दि‍खती है तो आप इसकी तुरंत शि‍कायत कर सकते हैं। आप अपनी आधार की जानकारी को लॉक भी कर सकते हैं।
यह होगा फायदा
इससे आप ये भी पता लगा पाएंगे कि‍ कोई आपके आधार का गलत इस्‍तेमाल नहीं कर रहा। कि‍सी ऐसी जगह तो आपके आधार का इस्तेमाल नहीं हो रहा जिसकी मंजूरी आपने नहीं दी है।

बैंकों में जमा राशि या निवेश का अपने आयकर रिटर्न (आईटीआर ) में उल्लेख नहीं करने वालों की अब खैर नहीं। ऐसी संपत्ति अब बेनामी संपत्ति मानी जाएगी। साथ ही जेल भी जानी पड़ सकती है। आयकर विभाग ने ऐसे मामलों की जांच अब बेनामी संपत्ति के आधार पर शुरू कर दी है।
गलत जानकारी पर पांच साल की जेल
आयकर विभाग की जांच में अगर यह बेनामी संपत्ति साबित हुई तो कार्रवाई बेनामी कानून के तहत ही की जाएगी। नए कानून के तहत बेनामी संपत्ति रखनेवालों को सात साल तक की कैद हो सकती है। साथ ही संपत्ति के 10 फीसदी तक का जुर्माना भी लग सकता है। इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति गलत जानकारी देता है तो उसे पांच साल की जेल हो सकती है। उल्लेखनीय है कि अब तक ऐसे मामलों को कर चोरी के मामलों के दायरे में लाकर जांच की जाती थी। लेकिन अब बेनामी कानून के तहत जांच होगी।
ऐसे हुआ शक
सूत्रों के मुताबिक आयकर जांच में यह बात सामने आई है कि नोटबंदी के दौरान कई लोगों ने अपने साथ दूसरों के खातों में भारी मात्रा में नकदी जमा कराई और बाद में इसे निकाल लिया। इसी तरह से निवेश भी भारी मात्रा में किया गया मगर इन लोगों ने इसका उल्लेख आयकर रिटर्न में नहीं किया।
आयकर विभाग भेज रहा नोटिस
आयकर विभाग ने ऐसे लोगों की पूरी सूची तैयार की है जिन्होंने बैंकों में जमा राशि या निवेश को आयकर रिटर्न में नहीं दिखाया है। इसमें कंपनियां भी शामिल हैं। ऐसे लोगों और कंपनियों आयकर विभाग की ओर से नोटिस भेजे जा रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि सबसे पहले इन लोगों से इस बात का सबूत मांगा जाएगा कि इन्होंने बैंकों में जो राशि जमा कराई और निवेश किया, वह उनका ही है। सबूत नहीं देने वाले लोगों और कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई होगी।
24 टीमें कर रहीं निगरानी
आयकर विभाग ने रिटर्न में संपत्ति छुपाने वालों की जांच के लिए खास तैयारी की है। विभाग ने बेनामी संपत्ति का पता लगाने के लिए 24 खास टीमें तैनात हैं। साथ ही आयकर विभाग ने बेनामी संपत्ति पर कार्रवाई के लिए विशेषीकृत वित्तीय लेन-देन (एसएफटी) का दायरा भी बढ़ा दिया है।


नई दिल्ली - नोटबंदी के बाद अगले 53 दिनों के भीतर रेटिंग एजेंसियों की ओर से 2000 रुपए के 2272 नकली नोट जब्त किए गए हैं। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के अनुसार यह जानकारी सामने आई है। गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने बीते साल 8 नवंबर को नोटबंदी का फैसला लिया था जिसके बाद 500 और 1000 रुफए के पुराने नोट अमान्य कर दिए गए थे और ये उस वक्त बाजार में प्रचलित कुल मुद्रा का 86 फीसद हिस्सा थे। इसी के कुछ दिन बाद आरबीआई की ओर से 2000 रुपए और फिर कुछ दिन बाद 500 रुपए के नए नोट जारी किए गए थे।
नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की ओर से हाल ही में जारी की गई रिपोर्ट जो 30 नवंबर, 2017 को जारी हुई है, में सामने आया है कि वर्ष 2016 में 2000 रुपये के कुल 2272 फर्जी (फेक) नोट जब्त किये गए हैं। जबकि 2016 के नवंबर में ही 2000 और 500 रुपये के नए नोट बाजार में जारी किये गये थे।
महज 53 दिनों में, 8 नवंबर से 31 दिसंबर 2016 के बीच पुलिस और सरकारी एजेंसियों ने 2000 रुपये के 2272 फेक नोट जब्त किये थे। उस दौरान लोग बैंकों के बाहर लंबी लाइनों में लगकर अपने पुराने नोटों को बदलवा रहे थे। 2000 रुपये के सबसे ज्यादा नकली नोट गुजरात (1300) से जब्त किये गये। वहीं, पंजाब (548), कर्नाटक (254), तेलंगाना (114), महाराष्ट्र (27) और राजस्थान में (6) नोट जब्त किये गये हैं।
जानकारी के लिए बता दें कि 2000 रुपये के नए नोट उन कुल 281,839 नकली नोटों का हिस्सा था जो कि देशभर से नोटबंदी के बाद जब्त किये गये थे। गौरतलब है कि पीएम मोदी ने नोटबंदी का फैसला देश से कालेधन, टेरर फंडिंग और नकली नोट की समस्या से निपटने के लिए किया था।
पिछले साल अन्य नकली नोटों में से 1000 रुपये के 82494 नोट, 500 रुपये के 132227 नोट, 100 रुपये के 59713 नोट और 50 रुपये के 2137 नोट जब्त किये गये थे। यह जानकारी केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह की ओर से जारी की गई एनसीआरबी की वार्षिक पब्लिकेशन रिपोर्ट में सामने आई है।

 


नई दिल्ली - ईपीएफ-95 योजना के अंतर्गत आने वाले हजारों पेंशनधारियों ने गुरुवार को अपनी मांगों को लेकर एक मार्च का आयोजन किया। ईपीएफओ के पेंशनर्स ने मांग है कि उनकी न्यूयनतम पेंशन को बढ़ाकर 7500 रुपए कर दिया जाए। गौरतलब है कि रिटायरमेंट फंड बॉडी कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) की ओर से संचालित इस योजना के तहत पेंशनर्स को मौजूदा समय में 1000 रुपए की न्यूनतम पेंशन मिल रही है।
ऑल इंडिया ईपीएस-95 पेंशनर्स संघर्ष समिति की ओर से जारी बयान में कहा गया, “आज पेंशनर्स ने अपने सम्मासन और अधिकार के लिए रामलीला मैदान से जंतर मंतर तक मार्च निकाला है। इस मार्च में 22 राज्योंम के हजारों प्रदर्शनकारियों ने हिस्सा। लिया।”
समिति के राष्ट्रीय संयोजक ने अशोक राउत ने बताया, “अगर ईपीएफओ हमारी मांग पूरी नहीं करता है तो हम हर मंत्री, सांसद और विधायक से मिलेंगे और इसे राष्ट्रीहय आंदोलन बना देंगे। मौजूदा समय में पेंशनर्स को 2500 रुपए से भी कम मासिक पेंशन मिल रही है जो उनकी रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्तज नहीं है। तो यह असंगठित क्षेत्र के 17 करोड़ लोगों और उनके भविष्य की बात है।”
गौरतलब है कि ईपीएफओ ने हाल ही में एक नई सर्विस भी शुरू की है जिसकी मदद से सबस्क्राइबर्स अपने तमाम पुराने पीएफ खातों को नए यूएएन के साथ आसानी से मर्ज करवा सकते हैं। यह उन लोगों के लिए राहतभरी खबर हैं जिनके एक से अधिक पीएफ खाते हैं।


नई दिल्ली - देश की सबसे बड़ी वाहन कंपनी टाटा मोटर्स ने अपनी कॉम्पैक्ट सेडान टिगोर के इलेक्ट्रिक संस्करण को गुरुवार पेश कर दिया। कंपनी ने अपने साणंद कारखाने में इस इलेक्ट्रिक संस्करण को विशेष रूप से एनर्जी एफिशियेंसी सर्विसेज (ईईएसएल) के लिए बनाया है।
रतन टाटा ने दिखाई झंडी
इलेक्ट्रिक टिगोर की पहली खेप को झंडी दिखाए जाने के अवसर रतन टाटा, टाटा समूह के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन तथा टाटा मोटर्स के प्रबंध निदेशक गुएंतर बुशचेक मौजूद थे। रतन टाटा ने झंडी दिखाकर इसको रवाना किया। इस अवसर पर चंद्रशेखरन ने कहा कि हम ई मोबिलिटी के भविष्य के निर्माण के लिए मिलकर काम कर रहे हैं और मुझे पूरा भरोसा है कि ग्राहक इस इलेक्ट्रिक मॉडल को पसंद करेंगे। उल्लेखनीय है कि सरकार वायु प्रदूषण तथा तेल आयात पर लगाम लगाने के लिए 2030 तक केवल इलेक्ट्रिक कारों के इस्तेमाल का लक्ष्य लेकर चल रही है।
सबसे कम बोली लगाकर बाजी मारी
कंपनी ईईएसएल की 10,000 ई कारों की निविदा में सबसे कम दर वाली बोली लगाते हुए विजेता के रूप में उभरी। हालांकि, बाद में महिंद्रा एंड महिंद्रा को भी 150 ई वेरिटोज की आपूर्ति ईईएसएल को करने का मौका दिया गया। ईईएसएल को आर्डर के पहले खंड की आपूर्ति दिसंबर के आखिर तक की जानी है।

 

नई दिल्ली - सुपरमार्केट में खरीदारी के बाद महीने के अंत में भुगतान की सुविधा तलाश रहे हैं तो आपके लिए खुशखबरी है। ऑनलाइन सुपरमार्केट ग्रोफर्स ने वालेट सेवा सिंपल के साथ गठजोड़ कर एक नई पहल के तहत किराना सामान के अपने खरीदारों के लिए पोस्ट पेड योजना पेश की है। इसमें उसके ग्राहक महीने भर की अपनी खरीदारी का एक बार में भुगतान कर सकते हैं। कभी भी…
नई दिल्ली - आरबीआई ने इस साल की अपनी आखिरी मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक में ब्याज दरों को यथावत (पहले की ही दर पर बरकरार) रखने का फैसला किया है। आरबीआई ने रेपो रेट को 6 फीसद पर बरकरार रखा है। इससे पहले अक्टूबर में हुई बैठक में भी आरबीआई ने रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया था। ऐसे में अब आपको सस्ते कर्ज के लिए एमपीसी…
नई दिल्ली - प्रमुख विमानन कंपनी जेट एयरेवज ने यात्रियों के लिए एक नया ऑफर पेश किया है। कंपनी ने एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया है कि कंपनी अंतरराष्ट्रीय टिकटों पर 30 फीसद तक की छूट दे रही है। यह सेल सात दिनों तक चेलगी। ऑफर के तहत एमस्टरडैम, लंदन, पेरिस, बैंकॉक, हॉन्ग कॉन्ग और सिंगापुर की टिकटें सस्ती दरों (डिस्काउंट) पर खरीदी जा सकती हैं।इस सेल का लाभ जेट…
नई दिल्ली - हाल ही में लॉन्च हुआ पेटीएम बैंक अब अपने विस्तार की योजना बना रहा है। इस योजना के तहत वह आने वाले तीन सालों में 3000 करोड़ रुपए का निवेश करेगा ताकि वो अपने ऑफलाइन-वितरण नेटवर्क का विस्तार कर पाए। इसके लिए भरोसेमंद स्थानीय साझेदारों की मदद से नगदी लेन-देन के केंद्र स्थापित किए जाएंगे।पेटीएम देशभर में 1,00,000 "पेटीएम का एटीएम" जोड़ने की योजना बना रहा है…
Page 1 of 153

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें