हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आरक्षण मुद्दे पर राष्ट्रीय राजधानी में संसद की ओर मार्च करने की योजना बनाने वाले राज्य के आंदोलनकारी जाट नेताओं के साथ रविवार को वार्ता की। इस बातचीत के बाद जाटों ने अपना आंदोलन 15 दिनों के लिए टाल दिया है।मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि राष्ट्रीय आयोग के पिछड़ा वर्ग के अध्यक्ष और सदस्यों की नियुक्ति के बाद केन्द्र शुरू करेगा जाट आरक्षण की प्रक्रिया। जाट नेता यशपाल मलिक ने बताया कि हमने सरकार को भरोसा दिलाया है कि उनका कल दिल्ली कूच का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया है। अब जाट कल दिल्ली नहीं जाएंगे।खट्टर से यहां मुलाकात से पहले ऑल इंडिया जाट आरक्षण संघर्ष समिति (एआईजेएएसएस) के अध्यक्ष यशपाल मलिक ने कहा कि उनका आंदोलन शांतिपूर्ण होगा और वे वार्ता के बाद अगले कदम का फैसला करेंगे। मलिक ने यहां संवाददाताओं से कहा कि प्रदर्शन शांतिपूर्ण होगा। हमारा प्रदर्शन 50 दिनों तक शांतिपूर्ण रहा। हमने सात मांगे की है और हम यहां खुले मन से मुख्यमंत्री और दूसरों से मिलने आए हैं। उन्होंने कहा कि हमारा मानना है कि वार्ता से मुद्दे का समाधान होगा, लेकिन हम बैठक के नतीजों के आधार पर अगले कदम का फैसला करेंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या वह आंदोलन टालेंगे, अगर हम सभी मुद्दों पर सहमति पर पहुंचे तो मैं आपको सूचित करूंगा।जाट समुदाय के संसद का घेराव करने की योजना से पहले बातचीत का यह प्रस्ताव आया है। वहीं दिल्ली मेट्रो सेवा का पूरा नेटवर्क अभी सामान्य है और आज रात आठ बजे से 12 स्टेशन बंद हो जाएंगे। इससे मेट्रो के इंटरचेंज में कोई दिक्कत नहीं आएगी। वहीं जाटों के दिल्ली में आने से कई जगह जाम लगना शुरू हो गया है। मयूर विहार में जहां ट्रैफिक जाम लगना शुरू हो गया है। वहीं कश्मीरी गेट की ओर ट्रैफिक थोड़ा धीमा है।दिल्ली में एहतियात के तौर पर सेना को बुला लिया गया है। धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है और हरियाणा के रोहतक, क्षज्जर तथा सोनीपत जैसे संवेदनशील जिलों में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है।मुख्यमंत्री ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा, हम मुद्दे के हल के लिए प्रतिबद्ध हैं। खट्टर केन्द्रीय कानून एवं न्याय राज्य मंत्री पीपी चौधरी और केन्द्रीय मंत्री बीरेन्द्र सिंह के साथ जाट नेताओं को बात करने के लिए बुलाया है। उन्होंने कहा, सरकार इस मुददे को हल करने के लिए गंभीर है। राज्य में भाईचारा और शांति कायम रखना हमारी पहली प्राथमिकता है।राज्य के पुलिस महानिदेशक केपी सिंह ने बताया कि राज्य से गुजरने वाले सभी मार्ग एवं राजमार्ग खुले हुए हैं और सुरक्षा के सभी कदम उठाए गए हैं ताकि जनता खासतौर पर छात्र ,जो कि सीबीएससी की परीक्षा दे रहे हैं, वह बिना किसी भय के यात्रा कर सकें। आंदोलन की अगुवाई कर रही अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति (एआईजेएएसएस) राष्ट्रीय राजधानी में कल घेराव करने की अपनी योजना पर अड़ी हुई है। यह आंदोलन आज 50वें दिन में प्रवेश कर गया।एआईजेएएसएस के अध्यक्ष यशपाल मलिक ने कल कहा था कि मामले को हल करने के लिए केन्द्र को हस्तक्षेप करना चाहिए। मलिक ने दावा किया था कि राज्य सरकार भ्रमित है और मामले के हल के लिए गंभीर नहीं दिखाई दे रही है। वरिष्ठ मंत्री राम विलास शर्मा के नेतृत्व में हरियाणा के मंत्रिमंडीय पैनल ने 16 मार्च को पानीपत में जाटों से बातचीत की थी, इसके बाद शमार् ने कहा था कि जाट समुदाय के साथ एक समझौता हो गया है और यह गतिरोध शीघ्र समाप्त हो जाएगा।बैठक के बाद शर्मा और मलिक दोनों ने ही कहा था कि बैठक सार्थक रही है लेकिन बाद में मलिक ने घोषणा की कि वे 17 मार्च को नयी दिल्ली में खट्टर के साथ बैठक करेंगे हालांकि खटटर ने बाद में कहा कि जाट नेता ने यह एकपक्षीय घोषणा की है। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने आज कहा, पहले जो भी असमंजस पैदा हुआ था उसे दूर कर लिया जाएगा। 16 मार्च की बैठक में जो भी निर्णय हुआ, हम उससे आगे बढ़ने का प्रयास करेंगे।खट्टर ने आज की मुलाकात के लिए अपने अधिकांश तय कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है। खट्टर के मीडिया सलाहकार अमित आर्य ने कहा, मुख्यमंत्री के अधिकतर कार्यक्रम रद्द कर दिए गए हैं। अगर शाम को मुख्यमंत्री को कुछ समय मिलता है तो वह सूरजकुंड एग्री लीडरशिप समिट में जा सकते हैं। जाट समुदाय के कल दिल्ली रैली और संसद घेराव की योजना के मददेनजर हरियाणा अलर्ट पर है।गौरतलब है कि आरक्षण के अलावा जाट पिछले वर्ष प्रदर्शन के दौरान जेल में बंद किए गए लोगों को रिहा करने, प्रदर्शन के दौरान दर्ज किए गए मामलों को वापस लेने और आंदोलन में हिस्सा लेने के दौरान घायल हुए तथा मारे गए लोगों के परिजनों को सरकारी नौकरी देने की मांग कर रहे हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें