नई दिल्ली। आइपीएल 2018 में किंग्स इलेवन पंजाब की सह- मालिकन प्रीति जिंटा का गुस्सा खूब चर्चा में हैं। पहले अपनी टीम के मेंटर वीरेंद्र सहवाग के साथ उनकी बहस की खबरों ने सुर्खियां बटोरी तो अब एक मंत्री जी पर उनके भड़कने की खबर है।पंजाब की टीम का होम ग्राउंड अब मोहाली से इंदौर शिफ्ट हो गया है और इस मैदान पर बुधवार रात को मुंबई इंडियंस और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच मैच खेला गया था। इस रोमांचक मैच में प्रीति की टीम को 3 रन से हार का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्हें तो इस हार से पहले ही गुस्सा आ गया था।
मंत्री जी ने किया ये काम:-इस मैच को देखने के लिए मध्य प्रदेश सरकार के नेता और शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह परिवार सहित भोपाल से इंदौर आए। लेकिन फ्रेंचाइजी ने वीवीआइपी पास देने की बजाय उन्हें गैलरी में बैठने के पास दिए जिस पर वह भड़क गए। जिसके बाद उन्होंने स्टेडियम से सटे हुए तीन गेटों पर ताले लगवा दिए। ये तीनों रास्तें उसी स्कूली शिक्षा के मैदान से होकर गुजरते हैं, जिनके मंत्री कुंवर विजय शाह हैं। साथ ही मंत्री ने स्कूल के मैदान में पार्किंग न करने देने का भी आदेश दे दिया।
प्रीति ने इस तरह उतारा गुस्सा:-मैच से पहले प्रीति ज़िंटा इस बात को लेकर काफी भड़क गईं और उन्होंने मीडिया के सामने ही प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपना गुस्सा निकाला। दरअसल मध्य प्रदेश सरकार के एक मंत्री जी को वीआईपी टिकट नहीं मिला, जिस पर गुस्सा होकर मंत्री जी ने स्टेडियम की तरफ गुजरने वाले रास्ते बंद करवा दिए और अपने विभाग की जमीन पर पार्किंग पर भी रोक लगा दी। इस बात को लेकर प्रीति को काफी गुस्सा आ गया। उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में मध्य प्रदेश सरकार के अफसरों और अधिकारियों के काम करने के तरीके पर सवाल उठाए। वहीं किंग्स इलेवन पंजाब के सीईओ सतीश मेनन ने बताया कि हर मैच में अधिकारी 60 से 70 लाख रुपये तक के टिकट की मांग करते हैं।इस मैच को लेकर सभी एक-दूसरे से नाराज हैं, फैंस, प्रशासन, फ्रेंचाइजी और नेता जी। फैंस इसलिए नाराज हैं क्योंकि मोहाली में सबसे कम का टिकट 500 रुपये का था, जबकि इंदौर में सबसे कम टिकट की कीमत 900 रुपये का। प्रशासन इसलिए नाराज है क्योंकि प्रीति जिंटा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन पर सवाल उठाए। पुलिस इसलिए नाराज है क्योंकि फ्रेंचाइजी टीम ने उन्हें मांग के आधार पर टिकट नहीं दिए और मंत्री जी इसलिए नाराज हैं क्योंकि उनको वीआईपी गैलरी का टिकट नहीं मिला। वहीं इन सारे बवालों को लेकर फ्रेंचाइजी टीम नाराज है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें