खेल

खेल (4166)


नई दिल्ली - पाकिस्तान क्रिकेट टीम के ओपनर बल्लेबाज फखर जमां ने बेहद कम समय में विश्व क्रिकेट में अपना नाम खूब रोशन किया है। फखर जमां फिलहाल पाकिस्तान की टी20 और वनडे क्रिकेट टीम की तरफ से खेल रहे हैं। अपनी टीम के लिए क्रिकेट के दोनों ही प्रारूप में वो जमकर रन बना रहे हैं। पाकिस्तान के लिए फखर ने जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे मुकाबले में वो काम कर दिया जो पाकिस्तान के वनडे क्रिकेट इतिहास में कोई भी बल्लेबाज नहीं कर पाया था।
फखर जमां ने लगाया दोहरा शतक
पाकिस्तान क्रिकेट टीम के ओपनर बल्लेबाज फखर जमां ने वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक लगाया। वो पाकिस्तान के पहले ऐसे बल्लेबाज बन गए जिन्होंने वनडे क्रिकेट में ये कमाल किया। हालांकि फखर विश्व वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी नहीं हैं। विश्व क्रिकेट की बात करें तो फखर से पहले पांच बल्लेबाज ये कमाल कर चुके हैं। इस उपलब्धि को हासिल करने वाले वो दुनिया के छठे बल्लेबाज बन गए।
जिम्बाब्वे के खिलाफ फखर ने 148 गेंदों का सामना करते हुए अपना दोहरा शतक (200) पूरा किया। अपनी इस पारी के दौरान उन्होंने 24 चौके और 5 छ्क्के लगाए। जिम्बाब्वे के खिलाफ फखर ने इस मैच में 156 गेंदों का सामना करते हुए नाबाद 210 रन बनाए। उनका स्ट्राइक रेट इस पारी के दौरान 134.61 का रहा। फखर ने इस मुकाबले में पहले विकेट के लिए इमाम-उल-हक के साथ मिलकर 304 रन की साझेदारी की और ये पहले विकेट के लिए वनडे क्रिकेट इतिहास की अब तक की सबसे बड़ी साझेदारी रही। फखर ने दूसरे विकेट के लिए आसिफ अली के साथ मिलकर नाबाद 95 रन की साझेदारी की। फखर की बेहतरीन पारी के दम पर पाकिस्तान ने जिम्बाब्वे के खिलाफ 50 ओवर में एक विकेट पर 399 रन का बड़ा स्कोर खड़ा किया। ये पाकिस्तान का वनडे क्रिकेट में सबसे बड़ा स्कोर रहा। इससे पहले पाकिस्तान ने वनडे क्रिकेट में सबसे बड़ा स्कोर वर्ष 2010 में बांग्लादेश के खिलाफ (385 रन) बनाया था।
इन बल्लेबाजों ने वनडे में लगाया है दोहरा शतक
फखर जमां दुनिया के छठे खिलाड़ी बन गए हैं जिन्होंने वनडे क्रिकेट में ये कमाल किया। वनडे क्रिकेट में सबसे पहले शतक लगाने वाले खिलाड़ी थे क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर जिन्होंने 24 फरवरी 2010 को ग्वालियर में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नाबाद 200 रन बनाए थे। इसके ठीक बाद यानी 8 दिसंबर 2011 को भारतीय ओपनर बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने इंदौर के होल्कर स्टेडियम में वेस्टइंडीज के खिलाफ 219 रन की पारी खेली। भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा तीन बार वनडे में दोहरा शतक लगा चुके हैं। आइए एक नजर डालते हैं वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले बल्लेबाजों पर।
वर्ष 2010- सचिन तेंदुलकर (भारत)- 200* रन
वर्ष 2011- वीरेंद्र सहवाग (भारत)- 219 रन
वर्ष 2013- रोहित शर्मा (भारत)- 209 रन
वर्ष 2014- रोहित शर्मा (भारत)- 264 रन
वर्ष 2015- क्रिस गेल (वेस्टइंडीज)- 215 रन
वर्ष 2015- मार्टिन गप्टिल (न्यूजीलैंड)- 237* रन
वर्ष 2017- रोहित शर्मा (भारत)- 208* रन
वर्ष 2018- फखर जमां (पाकिस्तान)- 210* रन
वनडे में कमाल की औसत से बल्लेबाजी कर रहे हैं फखर जमां
फखर जमां ने 7 जून 2017 को पाकिस्तान के लिए वनडे क्रिकेट में अपना डेब्यू किया था। बर्मिंघम में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपने पहले वनडे मैच में उन्होंने 31 रन की पारी खेली थी। उन्हें वनडे में शतक लगाने के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ा और उन्होंने इसी वर्ष भारत के खिलाफ ओवल में 114 रन की पारी खेली और अपने वनडे करियर का पहला शतक लगाया। ये चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल मैच था और फखर की इस पारी के दम पर पाकिस्तान ने पहली बार चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब अपने नाम किया था।
इस मैच के बाद फखर पूरी दुनिया की नजर में आ गए। इसके बाद फखर अपनी टीम के लिए लगातार अच्छा प्रदर्शन करते रहे। वनडे करियर में अपना दोहरा शतक लगाने के लिए उन्होंने सिर्फ 16 मैचों का इंतजार किया। अपने वनडे करियर के 17वें मैच में ही उन्होंने दोहरा शतक लगा दिया और साबित किया कि वो किस आला दर्जे के बल्लेबाज हैं। फखर ने अपने करियर में अब तक कुल 17 मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 75.38 की औसत से 980 रन बनाए हैं।

 


नई दिल्ली - पाकिस्तान क्रिकेट टीम के ओपनर बल्लेबाज इमाम उल हक के लिए जिम्बाब्वे दौरा काफी सफल साबित हो रहा है। एक बल्लेबाज के तौर पर वो लगातार निखर रहे हैं और टीम के लिए रन भी बना रहे हैं। जिम्बाब्वे के खिलाफ चौथे वनडे मुकाबले में भी इमाम ने शतक लगाया और फखर के साथ मिलकर पहले विकेट के लिए विश्व रिकॉर्ड साझेदारी कर दी।
इमाम उल हक ने लगाया शतक
जिम्बाब्वे के खिलाफ पाकिस्तान के ओपनर बल्लेबाज इमाम उल हक ने 122 गेंदों पर 113 रन बनाए। अपनी पारी में उन्होंने 8 चौके लगाए और उनका स्ट्राइक रेट 92.62 का रहा। इमाम ने पहले विकेट के लिए फखर जमां के साथ मिलकर पहले विकेट के लिए विश्व रिकॉर्ड साझेदारी करते हुए 304 रन बनाए। इस मैच में फखर ने दोहरा शतक लगाया। इन दोनों बल्लेबाजों की धाकड़ बल्लेबाजी के दम पर पाकिस्तान ने जिम्बाब्वे के खिलाफ चौथे वनडे मुकाबले में 50 ओवर में 399 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया।
वनडे में इमाम उल हक का तीसरा शतक
इमाम उल हक धीरे-धीरे पाकिस्तान क्रिकेट टीम में अपनी जगह पुख्ता करते जा रहे हैं। उन्होंने अपनी टीम के लिए अब तक सिर्फ 8 वनडे मैच खेले हैं लेकिन इतने ही मैचों में उन्होंने तीन शतक बना दिया है। इमाम ने पाकिस्तान की तरफ से वनडे क्रिकेट में अपना डेब्यू अबूधाबी में श्रीलंका के खिलाफ 18 अक्टूबर 2017 को किया था। अपने पहले ही मैच में उन्होंने 100 रन बना डाले थे। श्रीलंका के खिलाफ सीरीज के बाद उन्हें जनवरी में न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे में मौका दिया गया लेकिन वो एक मैच में सिर्फ 2 रन ही बना पाए। एक बार फिर वो लगभग पांच महीनों तक पाक टीम से बाहर रहे। उन्हें जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे सीरीज में आजमाया गया और यहां पर उन्होंने अपने पहले ही मैच में 128 रन बना डाले। जिम्बाब्वे के खिलाफ दूसरे व तीसरे मैच में उन्होंने 44, 0 रन की पारी खेली। लेकिन चौथे वनडे में उन्होंने इस वनडे सीरीज का दूसरा और अपने वनडे करियर का तीसरा शतक लगाया।
इमाम का वनडे करियर
इमाम उल हक का वनडे करियर फिलहाल काफी छोटा है। उन्होंने अब तक सिर्फ 8 वनडे मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 62 की बेहतरीन औसत से कुल 434 रन बनाए हैं। इसमें तीन शतक भी शामिल है और 128 रन उनका वनडे में बेस्ट स्कोर है।


नई दिल्ली - भारत के रामकुमार रामानाथन ने कनाडा के वासेक पोस्पिसिल को सीधे सेटों में हराकर पहली बार एटीपी सेमीफाइनल में जगह बना ली है, जबकि लिएंडर पेस डबल्स क्वॉर्टर फाइनल में हारकर न्यूपोर्ट हॉल ऑफ फेम ओपन ग्रासकोर्ट टूर्नामेंट से बाहर हो गए। चेन्नई के 23 वर्षीय के रामानाथन ने 1 घंटे 18 मिनट तक चले मुकाबले में पोस्पिसिल को 7-5, 6-2 से हराया।
अब उसका सामना अमेरिका के टिम स्मिजेक से होगा। पिछले साल दुनिया के आठवें नंबर के खिलाड़ी डोमिनिक थियेम को हराने वाले रामानाथन ने पांच ऐस लगाए और तीन ब्रेक प्वॉइंट बनाए। पेस और अमेरिका के उनके जोड़ीदार जैमी सेरेतानी को जीवन नेदुंचेझियान और ऑस्टिन क्राइसेक ने 6-3, 7-6 से हराया।
अब जीवन और ऑस्टिन का सामना स्पेन के मार्सेलो अरेवालो और मैक्सिको के मिगुल एंजेल रेयेस वारेला की चौथी वरीयता प्राप्त जोड़ी से होगा। दिविज शरण और उनके जोड़ीदार जैकसन विथ्रो ने ऑस्ट्रेलिया के मैथ्यू एबडेन और उक्रेन के सर्जेइ स्टाखोवस्की को 7-6, 6-3 से मात दी। अब उनका सामना न्यूजीलैंड के अर्टेम सिटाक और इस्राइल के जोनाथन एलरिच से होगा। अर्टेम और जोनाथन ने भारत के पूरव राजा और ब्रिटेन के केन स्कुपस्की को 4-6, 6-3, 10-8 से मात दी।


नई दिल्ली - बीसीसीआइ ने गुरुवार की रात अपने वेबसाइट पर गलती से भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर-बल्लेबाज महेंद्र सिंह धौनी को टीम इंडिया का कप्तान बता दिया। हालांकि इस गलती को बाद में सुधार दिया गया लेकिन इससे पहले बीसीसीआइ की ये गलती सोशल मीडिया पर ट्रोल हो गई। क्रिकेट फैंस ने बीसीसीआइ की इस गलती पर कई मजेदार कमेंट्स भी किए।
दरअसल हुआ ये कि बीसीसीआइ ने अपनी वेबसाइट पर धौनी की प्रोफाइल में 'कैप्टन टीम इंडिया' लिख दिया। इसे देखते ही लोगों को मजे लेने का मौका मिल गया और खूब टिप्पणी भी की गई। आपको बता दें कि धौनी ने टेस्ट क्रिकेट से वर्ष 2014 में ही संन्यास ले लिया था। इसके बाद वर्ष 2017 में उन्होंने वनडे और टी20 टीम की कप्तानी भी छोड़ दी थी। कप्तानी छोड़ने के बाद वो क्रिकेट के समिति ओवरों के प्रारूप में खेलना जारी रखा। धौनी फिलहाल टीम इंडिया का अहम हिस्सा हैं और वो टीम के युवा खिलाड़ियों के लिए मेंटर की भूमिका भी निभा रहे हैं। कप्तान विराट भी धौनी से अहम वक्त पर सलाह लेते दिख जाते हैं। टीम के कोच शास्त्री भी धौनी को बेहद पसंद करते हैं और उन्हें टीम के लिए काफी अहम मानते हैं।
इस पोस्ट को देखकर क्रिकेट फैंस ने मजेदार कमेंट किए। एक फैन ने लिखा कि वो दो वर्ष पहले भारतीय टीम की कप्तानी छोड़ चुके हैं लेकिन बीसीसीआइ के अभी भी लगता है कि वो टीम के कप्तान हैं। एक फैन ने लिखा कि ऐसी बात सामने आ रही है कि धौनी रिटायर हो रहे हैं लेकिन बीसीसीआइ को अच्छी तरह से पता है कि कौन कप्तान है। धौनी अब भी टीम इंडिया के बॉस हैं।


नई दिल्ली - पाकिस्तान और जिम्बाब्वे के बीच चौथे वनडे में पाकिस्तानी ओपनर्स फखर जमां और इमाम उल हक ने विरोधी गेंदबाजों का वो हाल किया जिससे वह लंबे समय तक नहीं भूल पाएंगे। मेजबान टीम के गेंदबाज पाकिस्तान का एक विकेट लेने के लिए तरस गए।
ना केवल फखर ने दोहरा शतक और इमाम ने शतक लगाए बल्कि पहले विकेट के लिए रिकॉर्ड साझेदारी की। इन दोनों बल्लेबाजों ने वनडे इतिहास की सर्वश्रेष्ठ साझेदारी का रिकॉर्ड अपने नाम किया। इन दोनों बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 304 रन की साझेदारी की।
इससे पहले वनडे क्रिकेट में ओपनिंग विकेट के लिए सर्वश्रेष्ठ साझेदारी का रिकॉर्ड श्रीलंका के उपुल तरंगा और सनथ जयसूर्या के नाम था। इस जोड़ी ने इंग्लैंड के खिलाफ साल 2006 में 286 रन की साझेदारी की थी। वहीं इस लिस्ट में दूसरा नंबर ऑस्ट्रेलिया के डेविड वॉर्नर और ट्रेविस हेड का आता हैं जिन्होंने साल 2017 में पाकिस्तान के खिलाफ ये साझेदारी की थी।
किसी भी विकेट के लिए बेस्ट साझेदारी का वर्ल्ड रिकॉर्ड वेस्टइंडीज के क्रिस गेल और मारलॉन सैमुअल्स के नाम है। इन दोनों बल्लेबाज ने 2015 के वर्ल्डकप में जिम्बाब्वे के खिलाफ ही दूसरे विकेट के लिए 372 रन की साझेदारी की थी।
पाकिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। गेंदबाजी करने आए जिम्बाब्वे के गेंदबाजों का क्या हाल होने वाला था उन्हें इस बात का इल्म नहीं था। इन दोनों बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 304 रन की साझेदारी की। इस दौरान फखर ने अपने वनडे करियर का पहला दोहरा शतक लगाया, ऐसा कारमाना करने वाले वह पाकिस्तान के पहले और दुनिया के छठे बल्लेबाज बने। फखर ने 24 चौके और 5 छक्के की मदद से अपने 200 रन पूरे किए।
फखर के अलावा इमाम उल हक ने भी सीरीज में अपना दूसरा शतक और कुल मिलाकर करियर का तीसरा वनडे शतक लगाया। उन्होंने 122 गेंद पर 113 रन की पारी खेली। इस दौरान उन्होंने 8 चौके लगाए। जिम्बाब्वे को पहला विकेट 42वें ओवर में मिला, जब वेलिंगटन मासाकाद्जा ने इमाम को मुसकंडा के हाथों कैच आउट करवाया।


नई दिल्ली - इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय टीम की असली परीक्षा अब टेस्ट सीरीज में शुरू होने वाली है। दोनों देशों के बीच टेस्ट सीरीज की शुरुआत एक अगस्त से एजबेस्टन में होगी। भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले तीन टेस्ट के लिए भारतीय टीम का एलान किया था जिसमें आर अश्विन समेत रवींद्र जडेजा और कुलदीप यादव को टीम में स्पिनर के तौर पर जगह दी गई है।
टीम की घोषणा के बाद भारतीय टीम के सबसे अनुभवी स्पिनर अश्विन ने इंग्लैंड टूर को लेकर अपनी बेरकरारी जाहिर की। जब अश्विन से पूछा गया कि वहां के कंडीशन के साथ वो खुद का तालमेल कैसे बिठाएंगे इस पर उन्होंने कहा कि वहां की परिस्थिति को समझना एक बड़ी चुनौती होगी।
इंग्लैंड टूर के बारे में अश्विन ने कहा कि वो शानदार जगह है और मुझे वहां क्रिकेट खेलना काफी पसंद है। हमारी टीम काफी शानदार है और ये हम पर निर्भर करता है कि हमें जो परिस्थिति मिलेगी उसमें हम किस तरह का प्रदर्शन करते हैं। अश्विन इंग्लैंड के खिलाफ टी20 और वनडे क्रिकेट सीरीज के लिए भारतीय टीम का हिस्सा नहीं थे। अश्विन ने कहा कि इस टेस्ट सीरीज में मैं अपने अनुभव का पूरा इस्तेमाल करना चाहता हूं। मैंने अब तक जितने भी टेस्ट मैच खेले हैं और उससे जो मुझे अनुभव मिला है मैं उसका बेस्ट इस्तेमाल करना चाहता हूं।
अश्विन ने भारत के लिए जून में अपना आखिरी टेस्ट मैच अफगानिस्तान के खिलाफ खेला था। उन्होंने भारत के लिए अब तक कुल 58 मैच खेले हैं जिसमें उनके नाम पर 316 विकेट हैं।

साओ पाउलो - ब्राजील के सुपरस्टार फुटबॉलर नेमार ने अपने भविष्य को लेकर लग रही अटकलों को खारिज करते हुए कहा कि वो पेरिस सेंट जर्मेन (पीएसजी) के साथ ही रहेंगे। ऐसी खबरें आ रही थीं कि नेमार पीएसजी का दामन छोड़ सकते हैं और रियाल मैड्रिड के साथ जुड़ सकते हैं। हाल ही में क्रिस्टियानो रोनाल्डो रियाल मैड्रिड का साथ छोड़कर जुवेंटस से जुड़े हैं।ऐसे में माना जा रहा…
नई दिल्ली - श्रीलंका के पूर्व कप्तान और इस समय श्रीलंकन टीम के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी एंजेलो मैथ्यूज ने टेस्ट क्रिकेट में एक बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली है। मैथ्यूज ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट की पहली पारी में 8 रन बनाते ही ये बड़ी उपलब्धि अपने नाम की। मैथ्यूज ने तेज गेंदबाज के लुंगी नगिडी की गेंद पर चौका मारकर ये कारनामा किया। साल 2009 में टेस्ट करियर…
नई दिल्ली। इंग्लैंड में भारतीय टीम टी-20 और वनडे सीरीज़ खेल चुकी है और अब बारी है क्रिकेट से सबसे बड़े फॉर्मेट यानि की टेस्ट मैच की। पांच टेस्ट मैच की सीरीज़ का पहला मैच 1 अगस्त को बर्मिंघम के मैदान पर खेला जाएगा। कोहली एंड कंपनी के लिए ये सीरीज़ किसी अग्निपरीक्षा से कम नहीं होगी, क्योंकि इंग्लैंड की धरती पर टेस्ट मैचों में भारतीय टीम का रिकॉर्ड काफी…
नई दिल्ली। भारत ने पहला विश्व कप 25 जून 1983 को जीता था। उस टीम के कप्तान कपिल देव थे, लेकिन उस टीम में एक ऐसा खिलाड़ी भी मौजूद था, जिसने एक बार जैवलिन थ्रो में नेशनल रिकॉर्ड बनाया भी था। 19 जुलाई 1955 को रॉजर बिन्नी का जन्म हुआ था और वो भारत की तरफ से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने वाले पहले एंग्लो इंडियन क्रिकेटर थे।1983 विश्व कप में लिए…
Page 1 of 298

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें