उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की पराजय राहुल और पार्टी के गलत निर्णयो का नतीजा : जुनेद क़ाज़ी

16 March 2017
Author 

 

न्यूयॉर्क (हम हिन्दुस्तानी)-इंडियन नेशनल ओवरसीज कांग्रेस यूएसए के पूर्वअध्यक्ष जुनेद काजी ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की शर्मनाक पराजय के बाद अब पार्टी को आत्म मंथन करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जब तक पार्टी में पुराने चेहरो को दोहराने की परम्परा खत्म नही होगी तब तक पार्टी को किसी चमत्कार की उम्मीद नही करनी चाहिए ।

 

जुनेद क़ाज़ी ने कहा कि राहुल अभी अपरिपक्य हैं यह एक सच्चाई है। उन्होंने कहा उत्तर प्रदेश में कांग्रेस कार्यकर्त्ता पिछले पांच वर्षो से जिस पार्टी की सरकार के खिलाफ लड़ रहा था कांग्रेस ने उसी पार्टी के सामने झुककर गठबंधन किया। उन्होंने कहा कि राहुल गाँधी को याद होना चाहिए कि समाजवादी पार्टी सरकार से उत्तर प्रदेश में खाद्य सुरक्षा कानून लागू करवाने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने विधानसभा का घेराव किया था जिसमे हुए लाठीचार्ज में सैकड़ो कार्यकर्त्ता घायल हुये थे ।

 

इतना ही प्रदेश में खाद्य सुरक्षा कानून लागू करवाने के लिए मेरठ में आयोजित प्रदर्शन में कांग्रेस नेताओं ने गिरफ्तारी दी थी। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करना पार्टी की एक बड़ी भूल थी इसे पार्टी और स्वयं कांग्रेस उपाध्यक्ष को स्वीकार करना चाहिए।

 

उन्होंने कहा कि पूरे चुनाव के दौरान कांग्रेस उपाध्यक्ष आलू के चिप्स और पाइनएप्पल के जूस पर बोलते रहे, कहीं उन्होंने आलू को अमेरिका भेजने की बात की तो कहीं उन्होंने एक्सपोर्ट करने की सलाह दे दी। ये सभी चीजें गरीबो के मतलब की नहीं हैं। न गरीब एक्सपोर्ट करता है और न ही जूस की फेक्ट्री चलाता है। उन्होंने कहा कि राहुल के भाषणों में आम आदमी से जुड़े मुद्दे नदारद रहे। यह भी एक कारण है कि मध्यम और गरीब वर्ग पार्टी से दूर हो रहा है।

 

जुनेद क़ाज़ी ने कहा कि राहुल गाँधी ने अपने भाषण में कहीं गरीबी से लड़ने की बात नही कही, कहीं उन्होंने उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर जनता को भरोसा नही दिलाया, उन्होंने अपने भाषण में प्रदेश में नियमित विधुत आपूर्ति की बात नही कही । यहां तक कि राहुल गाँधी ने अपने भाषण को कांग्रेस के घोषणा पत्र पर केंद्रित करने की जगह चिप्स और पाइनएप्पल जूस पर केंद्रित किया जो जनता को समझ नही आया।

 

जुनेद क़ाज़ी ने कहा कि एक राष्ट्रीय पार्टी को क्षेत्रीय पार्टी के आगे गठबंधन के लिए झुकना और मात्र 105 सीटों पर समझौता करना पार्टी के लिए बड़े अपमान की बात है। उन्होंने कहा कि यदि गठबंधन ही करना था तो इस पर पहले विचार क्यों नही किया गया और जल्दबाज़ी में शीला दीक्षित को मुख्यमंत्री के तौर पर प्रोजेक्ट कर “27 साल यूपी बेहाल यात्रा” की क्या आवश्यकता थी ।

 

जुनेद क़ाज़ी ने कहा कि गठबंधन के मुद्दे पर कांग्रेस के रणनीतिकार प्रशांत किशोर बुरी तरह फेल हुए हैं । उन्होंने कहा कि यदि यह गठबंधन समाजवादी पार्टी की जगह राष्ट्रीय लोकदल या बहुजन समाज पार्टी के साथ किया गया होता तो कांग्रेस की ऐसी दुर्गति नही होती। उन्होंने कहा कि पिछले चुनाव में कांग्रेस राष्ट्रीय लोकदल के साथ गठबंधन किया था जिसके कारण वह 28 सीटों तक पहुँच पाई।

 

जुनेद क़ाज़ी ने कहा कि पार्टी अब ऐसे स्थिति में पहुँच गयी है जहाँ से उबरने में समय लगेगा लेकिन नामुमकिन नही है। उन्होंने कहा कि पार्टी को चाहिए कि चुनाव में नए चेहरो को मौका दे और पुराने लोगों से सलाहकार के रूप में काम ले । उन्होंने कहा कि जल्द ही मध्यप्रदेश , गुजरात और राजस्थान में भी विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, पार्टी को चाहिए कि उत्तर प्रदेश में की गयी अपनी गलतियों को न दोहराये ।

88 VIEWS
Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें