द हेग - युक्रेन में चल रहे युद्ध के दौरान फ्लाइट एमएच17 में किये गए मिसाइल हमले के तीन साल पूरे हो चुके हैं। हमले में करीब 298 लोग मारे गए थे। मारे लोगों के लगभग 2,000 रिश्तेदारों ने इस अवसर पर इकट्ठे होकर उनकी याद में बनाए गए स्मारकों का अनावरण किया साथ ही उनकी याद में कुल 298 पेड़ लगाए जिन्हें 'उम्मीद' और 'भविष्य' का प्रतीक कहा गया। जानकारी के मुताबिक, 17 जुलाई 2014 को मलेशियन एयरलाइन एमएच17 एम्सटर्डम से क्वालालंपुर जा रही थी जब ये हमला हुआ।
डच किंग विलियम-अलेक्जेंडर और रानी मैक्सिमा ने भी एक विशेष समारोह में सरकारी और अंतरराष्ट्रीय अधिकारियों के साथ मिलकर एम्स्टर्डम के शिफोल हवाई अड्डे के पास विजफुइज़ेन पार्क में स्मारकों को श्रद्धांजलि अर्पित की। एक परिवार ने कहा, इस आयोजन का मतलब पीड़ितों को केवल सम्मान देना नहीं है बल्कि हम एक ऐसे जगह की स्थापना करना चाहते हैं जहां 298 यात्रियों की यादों को सहेज कर रख जा सके।
त्रासदी की तीसरी वर्षगांठ पूरे होने पर भी अब तक किसी भी दोषी को गिरफ्तार नहीं किया जा सका है हालांकि इस महीने नीदरलैंड में जांच की जाने की घोषणा की गई थी। इससे पहले डच की अगुवाई वाली जांचकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला था कि हमले में उपयोग किये गए मिसाइलों को रूस से रूसी विद्रोहियों द्वारा लाया गया था।
फाउंडेशन ने कहा, प्रत्येक पीड़ित के नाम एक पेड़ लगाया जा रहा है। इसके अलावा जंगल के बीचोंबीच आंख के आकार में 11 अलग अलग पेड़ लगाए गए जो आकाश की तरफ देखता प्रतीत हो रहा है, जहां आंखों के पुतलियों में उन सभी पीड़ितों के नाम लिखे गए हैं। इसके साथ ही 16 वर्षीय गैरी के नाम एक सेब के पेड़ लगाया गया जिसकी बॉडी का अब तक कोई पता नहीं चल सका है। गैरी के पिता ने कहा, हम गैरी को भूलना नहीं चाहते हैं और इस पेड़ के रुप में वो हमेशा हम सबके साथ रहेंगे। इन पेड़ों को देखकर हम अपने प्रियजनों को याद कर पायेंगे।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें