दुनिया

दुनिया (3263)


दमिश्क - सीरिया की राजधानी दमिश्क के निकट स्थित घोउटा क्षेत्र में लगातार पांचवें दिन भी हवाई हमला जारी रहा। सरकारी फौजों की ओर से किए जा रहे हमले में रविवार से अभी तक तीन सौ लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। साढ़े आठ साल से चल रहे गृह युद्ध में यह सबसे बड़ा हमला बताया जा रहा है। संयुक्त राष्ट्र और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने सरकार से हमला रोकने की अपील की है।
सीरिया में संयुक्त राष्ट्र के राजदूत स्टाफन डी मिसटुरा ने कहा कि सुरक्षा परिषद को पूर्वी घोउटा क्षेत्र में हमला रोकने के लिए प्रस्ताव लाना चाहिए। मानवाधिकार संगठन और बचाव एजेंसियों का कहना है कि सीरिया और रूसी सेना हेलीकॉप्टर से बम सहित कई तरह के विस्फोटक बरसा रही है। इससे कई बाजार और अस्पताल ध्वस्त हो गए हैं। जान बचाने के लिए लोग भूमिगत ठिकानों में छुपे हैं।
स्थानीय निवासियों और विपक्ष के नेताओं का कहना है कि सरकार जानबूझकर नागरिकों को निशाना बना रही है। हालांकि, सीरिया और रूस ने नागरिकों पर हो रहे हमले से इन्कार किया है। उनका कहना है कि विद्रोही खुद को बचाने के लिए आम नागरिकों का इस्तेमाल कर रहे हैं।
मालूम हो कि घोउटा क्षेत्र में करीब चार लाख लोग रहते हैं। यह दमिश्क के निकट विद्रोहियों के कब्जे वाला यह एक मात्र क्षेत्र है। घोउटा के अतिरिक्त सीरियाई सेना कुर्दो के कब्जे वाले अलेप्पो में भी घुस गई है। लेकिन, सीरियाई कुर्द संगठन वाइपीजी ने इससे इंकार कर दिया है।


टोरंटो - कनाडा के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री उज्जल दोसांज ने कहा है कि कनाडा के राजनेता खालिस्तान समर्थकों के मुद्दे पर भारत की संवेदनशीलता को समझने में नाकाम रहे हैं। उनका यह बयान कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रुडो के भारत दौरे के समय आया है, जब उन पर खालिस्तान समर्थक लोगों से मिलने के आरोप लगे हैं।
दोसांज ने कहा, 'भारत खालिस्तानी गतिविधियों को लेकर बहुत संवेदनशील है। क्योंकि 1947 में देश का बंटवारा हुआ था और उस समय 1.4 करोड़ लोग मारे गए थे। भारतीय किसी भी हालत में अब दूसरा बंटवारा नहीं होने देंगे।' दोसांज ने भारत सरकार को भी इस मुद्दे को ठोस तरीके से कनाडा सरकार के सामने न रखने के लिए आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि अगर कनाडा भारत के साथ मधुर संबंध बनाए रखना चाहता है, तो उसे अलगाववादियों को महिमामंडित करने से बचना होगा।
कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो इन दिनों भारत दौरे पर हैं। कनाडा के पीएम के लिए आयोजित डिनर पार्टी में भारतीय मंत्री पर जानलेवा हमले के दोषी को आमंत्रित किया गया। गुरुवार को इस कार्यक्रम का आयोजन दिल्ली में कनाडा के हाई कमीशन ने कराया, जहां पर सिख अलगाववादी जसपाल अटवाल को बतौर मेहमान न्योता भेजा गया था। बाद में कनाडाई पीएमओ की ओर से पत्रकार को दिए गए जवाब में साफ किया गया कि अटवाल को निमंत्रण रद कर दिया गया है।
गौरतलब है कि अटवाल ने साल 1986 में भारतीय कैबिनेट मंत्री मलकीत सिंह सिद्धू पर वैंकुअर के द्वीप पर हमला किया था। आतंकी घोषित किए जा चुके खालिस्तानी जसपाल अटवाल जो प्रतिबंधित अंतरराष्ट्रीय सिख युवा संघ में सक्रिय है ने कथित रुप से कनाडाई प्रधानमंत्री से मुंबई में मुलाकात की। बताया जाता है कि जसपाल अटवाल ने जस्टिन ट्रूडो की पत्नी सोफी ट्रूडो से 20 फरवरी को मुंबई में आयोजित एक कार्यक्रम में मुलाकात की। उसने इस दौरान सोफी के साथ फोटो के लिए पोज भी दिए।


ढाका - बांग्लादेश करीब एक लाख रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थियों को बंगाल की खाड़ी में स्थित एक निर्जन टापू पर बसाने की तैयारी कर रहा है। हालांकि देश के कई शीर्ष अधिकारियों ने ऐसी आशंका जताई है कि इस द्वीप पर ये लोग फंस सकते हैं, क्योंकि इस पर बाढ़ का खतरा रहता है।
ज्ञात हो कि बौद्ध बहुल म्यांमार के रखाइन प्रांत में पिछले साल अगस्त में हिंसा भड़कने के बाद से करीब सात लाख रो¨हग्या मुस्लिमों ने बांग्लादेश में पलायन किया था। ये लोग म्यांमार की सीमा के करीब बांग्लादेश के कॉक्स बाजार जिले के शिविरों में ठहरे हैं। इन शिविरों में पहले से ही करीब तीन लाख शरणार्थी रह रहे हैं। नए शरणाथियों के आने से जगह की किल्लत हो गई है।
हाल ही में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा था कि कॉक्स बाजार के शरणार्थी शिविरों से भीड़ कम करने की खातिर रोहिंग्या के लिए एक द्वीप पर अस्थायी व्यवस्था की जाएगी। बांग्लादेशी मीडिया के अनुसार, द्वीप पर शरणार्थियों के रहने के लिए चल रही तैयारियों में ब्रिटिश और चीनी इंजीनियर मदद कर रहे हैं। शरणार्थियों के लिए मानसून से पहले शिविर तैयार कर लिए जाएंगे। इस क्षेत्र में अप्रैल से बारिश शुरू हो जाती है और बाढ़ का खतरा रहता है।
'पासपोर्ट, आइडी कार्ड देने की योजना नहीं'
प्रधानमंत्री हसीना के सलाहकार एचटी इमाम ने कहा कि म्यांमार लौटने के इच्छुक या किसी अन्य देश में शरण पाने वाले शरणार्थियों को वहां जाने की अनुमति होगी। लेकिन हम इन्हें बांग्लादेशी पासपोर्ट या आइडी कार्ड नहीं देंगे। द्वीप पर पुलिस का एक थाना भी बनाया जाएगा, जिसमें 40 से 50 सशस्त्र जवान तैनात रहेंगे।


इस्‍लामाबाद - सीमा नियंत्रण रेखा पर पाकिस्‍तान की ओर से जारी सीजफायर उल्‍लंघन का जवाब भारत की ओर से दिया जा रहा है जिससे तिलमिलाए पाकिस्‍तान ने इस माह चौथी बार भारत के उपउच्‍चायुक्‍त जेपी सिंह को तलब किया है। पाक की ओर से उल्‍टा भारत पर सीजफायर उल्‍लंघन का आरोप लगाया जा रहा है।
डायरेक्‍टर जनरल मोहम्‍मद फैसल ने सिंह को समन किया और 22 फरवरी को रावलकोट/सतवाल सेक्‍टर में सीजफायर उल्‍लंघन की निंदा की। पाक के अनुसार, इस फायरिंग में पुंछ नदी के तट पर क्रश प्‍लांट में एक श्रमिक की मौत हो गयी। फैसल ने कहा, रोक लगाने के लिए कहने के बावजूद भारत की ओर से एलओसी पर फायरिंग जारी है। बता दें कि इससे पहले 5,15 और 20 फरवरी को भारत के उपउच्‍चायुक्‍त को तलब किया गया था। पिछले माह, भारतीय दूत को पांच बार 15,18, 19, 20 और 21 जनवरी को समन किया गया।
फैसल ने कहा, आबादी वाले क्षेत्रों पर जानबूझकर हमला करना वास्तव में दयनीय और अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार के साथ मानवीय कानूनों के विपरीत है। फैसल ने भारत से 2003 में हुए सीजफायर उल्‍लंघन की व्‍यवस्‍था व सीजफायर उललंघन की बार-बार हो रही घटनाओं की जांच के लिए कहा है। उन्‍होंने भारत और पाकिस्‍तान में यूएन मिलिट्री ऑब्‍जर्वर ग्रुप को अनुमति देने का भी आग्रह किया है ताकि ये यूएनएससी रिज्‍योलूशंस के अनुसार अपनी अनिवार्य भूमिका निभा सके।


अबुजा - नाइजीरिया में आतंकी संगठन बोको हराम के हमले के बाद से लापता लड़कियों में से 76 को सेना ने बचा लिया है। जबकि दो अन्य लड़कियों को मृत मिली हैं। बोको हराम आतंकियों ने सोमवार शाम पूर्वोत्तर नाइजीरिया के योबे प्रांत के दाप्ची में हमला किया था। इसके बाद से यहां के एक स्कूल से 91 लोग लापता हो गए थे। इनमें से 13 अब भी लापता बताए जा रहे हैं।
स्थानीय अधिकारियों और निवासियों ने बताया कि बचाई गई लड़कियां बुधवार शाम गांव में लौट आई हैं। इन लड़कियों में से एक के पिता बाबागना उमर ने कहा, 'ईश्वर की कृपा से लड़कियां लौट आई हैं। उनके लौटने की हर कोई खुशी मना रहा है, लेकिन इसके बीच दुखद बात यह है कि दो लड़कियों की मौत हो गई।'
पुलिस और प्रांतीय सरकार के अधिकारी लड़कियों के लापता होने की घटना पर स्पष्ट बयान नहीं दे रहे हैं। वे सिर्फ इतना कह रहे हैं कि सेना ने बोको हराम के चंगुल से कई लड़कियों को बचाया। ज्ञात हो कि 2014 में नाइजीरिया के चिबूक इलाके से 270 स्कूली लड़कियों को अगवा कर लिया गया था। इस घटना के बाद नाइजीरिया में बोको हराम के बढ़ते आतंक ने दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचा था।


वाशिंगटन - पाकिस्तान के तीन करीबी सहयोगी देशों ने एकजुट होकर अमेरिका के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। जानकारी के मुताबिक, चीन, सऊदी अरब और तुर्की इन तीनों देश मिलकर संयुक्त राज्य अमेरिका के ट्रंप प्रशासन के द्वारा इस्लामाबाद को टेरर-वित्तीय निगरानी सूची में डाले जाने के फैसले को असफल करने को लेकर एकजुट हो गए हैं। अमेरिकी मीडिया की एक रिपोर्ट से ये जानकारी सामने आई है।
हालांकि पाकिस्तान ने एक प्रकार की जीत का दावा किया है, कहा है कि, अमेरिका वित्तीय एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की पेरिस की बैठक के दौरान अप्रत्यक्ष रुप से सक्रिय था, ताकि पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई कर सकें। वॉल स्ट्रीट जर्नल जिसने इस बारे में सबसे पहले सूचना दी थी ने कहा, यह एक ट्रंप प्रशासन और सऊदी अरब के बीच एक असहमति थी।
FATF की बैठक में नहीं मिली थी मंजूरी
आतंकवाद पर दुनिया भर के राष्ट्रों के आलोचना का शिकार हो रहा पाकिस्तान अब इस दाग से अपना दामन छुड़ाने के लिए सारे जुगत भिड़ाने का प्रयास कर रहा है। आपको बता दें कि कुछ समय पहले अमेरिका ने टेरर फंडिंग को लेकर पाकिस्तान को निगरानी वाले देशों की सूची में डालने की पहल शुरू की थी, जिसे हाल ही में हुई FATF (फायनांशियल एक्शन टास्क फोर्स) के बैठक में मंजूरी नहीं मिली।
पेरिस की संस्था ने दिया 3 माह का मोहलत
आतंकी गतिविधियों का सफाया करने के लिए निगरानी रखने वाली पैरिस की एक संस्था ने पाकिस्तान को इसके लिए 3 महीने का समय दिया है। बता दें कि इस सूची के ज़रिए अमेरिका पाकिस्तान नजर रखेगा कि कहीं पाकिस्तान आतंकी संगठनों को किसी प्रकार का वित्तीय मदद तो नहीं कर रहा है। आपको बता दें कि आतंकियों के लिए सुरक्षित पनाह देने वाले पाकिस्तान को अमेरिका ने हाल ही में सैन्य सहायता पर प्रतिबंध लगा दी थी।
पाक विदेश मंत्री ने जताई थी खुशी
पेरिस की संस्था के मुताबिक 3 महीने तक पाकिस्तान को इस सूची में शामिल नहीं किया जाएगा। इसकी जानकारी देते हुए पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'हमारी मेहनत रंग लाई। अमेरिका की पाकिस्तान को निगरानी वाले देशों की सूची में डालने की पहल को लेकर 20 फरवरी को जो मीटिंग हुई, उसमें पाकिस्तान को नामित करने के लिए सर्वसम्मति नहीं मिली।'

इस्‍लामाबाद - नवाज शरीफ को पाकिस्‍तान सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा झटका दिया है। पाकिस्तान की सत्ताधारी पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष नवाज शरीफ को सुप्रीम कोर्ट ने पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए अयोग्य ठहराया है। इसका मतलब यह है कि नवाज अब पार्टी के अध्‍यक्ष पद भी काबिज नहीं रह पाएंगे।पाक सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि पार्टी अध्‍यक्ष रहते हुए नवाज शरीफ ने जिनतेजो…
सैन फ्रांसिस्‍को - ट्विटर ने बुधवार को सॉफ्टवेयर बोट्स द्वारा पावर्ड अकाउंट्स पर कार्रवाई की घोषणा की जो फर्जी तौर पर किसी शख्‍स को बढ़ा-चढ़ा कर बताता है या दूसरे शब्‍दों में प्रमोट करता है। 2016 के अमेरिकी चुनावों के दौरान इसी तरह की गतिविधि देखी गयी थी जिसके लिए सोशल प्‍लेटफार्म को दोषी बताया गया था।...इसलिए उठाया गया ये कदमझूठी और गलत जानकारियों के साथ अफवाहों के प्रसार को…
लंदन - साइबेरियाई ठंडी हवांए और बर्फ के कारण ब्रिटेन में जमा देने वाली ठंड पड़ रही है। यह आइसलैंड से भी अधिक ठंडी जगह होने वाली है। अधिक ठंडे मौसम को देखते हुए अधिकारियों ने बुजुर्गों व मरीजों से घर के भीतर रहने को कहा है।यहां बुधवार से पारा गिरना शुरू हो गया है। अगले पंद्रह दिनों तक देश में भारी हिमपात को लेकर अलर्ट जारी है।मौसम विज्ञानी मार्टिन…
वाशिंगटन - अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बेटे डोनाल्ड ट्रंप जूनियर का भारत दौरा निजी है। वह आधिकारिक तौर पर वहां नहीं गए हैं। अमेरिका के एक संगठन ने इस दौरे को लेकर आपत्ति जताई थी।अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हीदर नौअर्ट ने कहा, 'ट्रंप जूनियर एक नागरिक के रूप में निजी हैसियत से भारत गए हैं, न कि अमेरिका सरकार के अधिकारी के…
Page 1 of 234

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें