articles

नई दिल्ली (हम हिंदुस्तानी)- डॉक्टर नीलम महेंद्र को अटल बिहारी वाजपेयी पत्रकारिता सम्मान- 2018 से सम्मानित किया गया।चर्चित वेबसाइट प्रवक्ता. कॉम की ओर से यह सम्मान उनके लेखन के लिए दिया गया।प्रवक्ता के दस वर्ष पूर्ण होने पर यह कार्यक्रम दिल्ली में कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में आयोजित हुआ।कार्यक्रम की अध्यक्षता इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कलाकेंद्र के सदस्य सचिव डॉक्टर सच्चिदानंद जोशी ने की इस अवसर पर बतौर विशिष्ट अतिथि अमर उजाला के…
कृति :- शालेय पत्रिका बाल अभिव्यक्ति ( स्वच्छता ही सेवा विषेषांक)प्रकाशक :- बाल केबिनेट शासकीय नवीन प्राथमिक विद्यालय(शाला सिद्धि)नयापुरा माकनीजनशिक्षा केन्द्र नागदाजिला धार मध्यप्रदेशप्रेरणा स्रोत:- गोपाल कौशलसहायक अध्यापक, नेशनल मोटिवेटर,नवोदय क्रान्ति भारतसमीक्षक:- राजेश कुमार शर्मा"पुरोहित"कवि,साहित्यकार( राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त शिक्षक) शासकीय नवीन प्राथमिक विद्यालय नयापुरा माकनी द्वारा प्रकाशित बाल अभिव्यक्ति का यह पञ्चम विषेषांक स्वच्छता ही सेवा पर आधारित है।शाला प्रबन्धन समिति एवम बाल केबिनेट शिक्षिका मनीषा चौहान के सहयोग से…
-राज शेखर भट्ट, देहरादूनये मीटू-मीटू क्या है, ये मीटू-मीटू। अब तो हर-हर मानुष को पता चल गया है कि मीटू क्या है और जो एक वायरस की तरह फैल रहा है। इस वायरस का डंक सबसे पहले राजनीति की चादर और फिल्म इंडस्ट्री के तकिये पर पड़ा है। खुलेआम चर्चा चल रहा है कि इसने तब मेरे साथ ये किया और उसने अब मेरे साथ वो किया। वर्तमान में तो…
-विनोद कुमार विक्की करमजलू लेखक संघ (कलेस) जगत में नवोदित साहित्यकार झल्लू उधारी पर काफी संगीन आरोप लगाए गए।जिसकी सुनवाई हेतू कलेस महासचिव ओलझोल जुगाड़िया की उपस्थिति में झल्लू उधारी पर मुकदमा चलाया गया। 1आरोप-झल्लू क्या ये सच है कि तुम वरिष्ठों को बगैर पढ़े बगैर गुने साहित्यकार का उपाधि धारण कर लिए हो!झल्लू- हम कहाँ रखे महराज उ त पेपरवे वाला अपने मन से मेरे नाम के साथ लिख…
-सलीम रज़ा, देहरादूनपुरूषों के लिये साल के बकाया ये दो महीने शुभ बीतते नहीं दिख रहे हैं और शायद आने वाला नया साल भी अच्छा गुजर जाये तो फिलहाल इस बारे में अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी। लेकिन जिस तरह का मीटू नाम का जिन्न बोतल से बाहर निकला है, उसने पूरे पुरूष समाज को अपने विकराल और सशक्त पंजों में दबोच लिया है। जिसके दर्द से पूरा पुरूष समाज…
-इं. ललित शौर्यरावण जी यमलोक में बैठे –बैठे बड़ा बोरिंग फील कर रहे हैं। वो कई सौ सालों से यमलोक में ही हैं। उन्हें यहाँ बिलकुल भी मजा नहीं आता । क्योकिं न तो यहाँ सोने की लंका है ना ही सुरा ना ही सुंदरी. रावण को यहाँ खुलकर अट्टहास करने की भी छूट नहीं है। उसके दस के दस सिर हमेशा झुके ही रहते हैं। उनमें पहले वाली रौनक…
... सुरेन्द्र कुमार (लेखक एवं विचारक) भारत गरीबी और भुखमरी को दूर कर विकासशील से विकसित देशों की श्रेणी में शामिल होने के लिए भले ही जोर-शोर से प्रयास कर रहा है। परंतु 'वैश्विक भूख सूचकांक' पर इन प्रयासों का असर फिलहाल विपरीत ही दिखाई दे रहा हैं। बीते गुरुवार को ग्लोबल हंगर इंडेक्स-2018 द्वारा जारी आँकड़ों के मुताबिक भारत 119 देशों की सूची में 103वें स्थान पर फिसल गया…
-प्रकाश दर्पेदेश के कुछ प्रान्तों में चुनाव का बिगुल बजते ही माहौल गरमा गया । कुछ समय पूर्व ही इन राज्यों के विकास के लिए लाखों करोड़ों के पेकेज की घोषणा से इसके संकेत मिले तो सारे दल चोकन्ने हो गए। राजनीतिक दलो के चरणबद्ध कार्यक्रम शुरू हो गए। अपना आलस छोड़ राजनीति के सारे खिलाड़ी काम में जुट गए। कल तक जो दिग्गज एक दूसरे के दुर्गुण बताने में…
-बाल मुकुन्द ओझा (वरिष्ठ लेखक एवं पत्रकार) इस वर्ष 16 अक्टूबर को विश्व खाद्य दिवस हम ऐसे समय में मनाने जारहे है जब भारत निरंतर भूख और गरीबी के दल दल में फंसता जा रहा है। सरकार लाख दावे करे मगर जमीनी हकीकत से मुंह नहीं मोड़ सकते। भारत पिछले पांच सालों से वैश्विक भूख रैंकिंग में निरंतर पिछड़ता जा रहा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में भूख एक…
-सलीम रज़ाहम कई दशक पहले से सुनते चले आ रहे थे कि कलयुग में वे सारे काम होंगे जिसे समाज में हिकारत की नज़रों से देखा जाता है।लेकिन आज इस घोर कलयुग में शर्म को भी शर्मसार करने वाले हादसे एक के बाद एक होते चले जा रहे हैं और हम आज भी अपने वेद पुराणों का हवाला देकर नई परपाटी और नई प्रथा को नकार रहे है।ं अब इस…
Page 1 of 87

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें