articles

-बाल मुकुंद ओझा (वरिष्ठ लेखक एवं पत्रकार)मशहूर शायर बशीर बद्र ने कहा था -दुश्मनी जम के करो पर इतनी गुंजाईश रहे, कल जो हम दोस्त बन जाये तो शर्मिंदा न हो। केंद्र की राजनीति में प्रधानमंत्री मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने एक दूसरे पर व्यक्तिगत हमले कर हालत इस कद्र बिगाड़ लिए की दोनों एक दूसरे को फूटी आँखे नहीं सुहाते, बोलचाल तो दूर की बात है। यही…
-डॉ प्रदीप उपाध्यायवे बहुत ही भोले हैं।सीधे-सादे लोगों को लोग दुनिया कुछ भी बोलती रहती है लेकिन वे बुरा नहीं मानते।प्यार की भाषा ही बोलते-समझते हैं।उनकी मम्मी भी चाहती हैं कि वे छोटे-बड़ो के बीच हिल-मिलकर रहें,दुनियादारी सीखें और खानदान का नाम रोशन करें।आखिर कोई ऊंगली पकड़कर कब तक चलाता रहेगा और इसीलिए उनपर भरोसा नहीं होने पर भी उन्हें खेलने के लिए भेज दिया और वे खेले भी अच्छा…
-डॉ प्रदीप उपाध्यायउनको कितना विश्वास हो चला था।वे मानकर चल रहे थे कि इस बार तो वह दगा नहीं देगी।उनके साथ बेवफाई नहीं करेगी और सीधे बाहें फैलाकर उनके गले का हार बन जाएगी।पिछली बार जो गलती उसने की थी ,उसे न दोहराते हुए अपने पिछले व्यवहार की माफी भी मांगेगी।मैंने उनकी बात को बीच में ही काटते हुए कहा भी था कि अभी आप पूरी तरह से परिपक्व भी…
- योगेश कुमार गोयल आज भी भले ही विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंटएवरेस्ट पर चढ़ना दुनिया का सबसे बड़ा कारनामा माना जाता है किन्तु वास्तविकता यही है कि यह सपना चंदपर्वतारोहियों का ही पूरा हो पाता है। प्रतिवर्ष हजारों लोग माउंटएवरेस्ट को छूने की कोशिश करते हैं किन्तु उनमें से गिने-चुने लोग ही चोटी तक पहुंचने में सफल हो पाते हैं और कुछ एवरेस्टफतेह करने की चाहत में अपनी…
- योगेश कुमार गोयल लोकसभा चुनाव में पिछली बार के 31 फीसदी मतों के मुकाबले इस बार 50 फीसदी से भी अधिक मत हासिल कर देश की हिन्दी पट्टी की 226 लोकसभा सीटों में से 202 पर परचम लहराते हुए भाजपा ने जिस प्रकार अपने ही बलबूते पर 303 सीटें हासिल की और पूर्ण बहुमत के साथ लगातार दूसरी बार सरकार बनाने में सफल हुई, उसमें अगर किसी का सम्पूर्ण…
-बाल मुकुन्द ओझा (वरिष्ठ लेखक एवं पत्रकार )आसमान में आग उगलता सूरज और तवे सी तपती धरती ने मैदानी क्षेत्र को झुलसा कर रख दिया है।गर्मी के रौद्र रूप धारण कर लेने से समूचा उत्तर भारत त्राहि त्राहि कर रहा है। अल सुबह से रात तक राहत नहीं मिलने से मानव जीवन व्याकुल हो रहा है। सवेरे नलों में छत पर रखी टंकी से गर्म पानी आने से शौच के…
... सुरेन्द्र कुमार (लेखक विचारक और शिक्षक) हिमाचल प्रदेश। विगत कुछ वर्षों से हम देख रहे हैं कि दुनिया में वायु प्रदूषण का दुष्प्रभाव दिन प्रति दिन अपना रौद्र रूप दिखाने को आतुर हो रहा है। परिणामस्वरूप ग्लोबल वार्मिग जैसी विकराल समस्या पनप रही है। इसलिए इस बार 05 जून को चीन के चच्यांग में मनाए गए विश्व पर्यावरण दिवस की थीम 'वायु प्रदूषण' रखी गई थी। क्योंकि हाल ही…
-राजकुमार झांझरीप्रधानमंत्री वही नरेन्द्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष भी वही अमित शाह, पार्टी भी वही भारतीय जनता पार्टी! वक्त का फासला भी बहुत ज्यादा नहीं, महज 3 माह। विगत साल भर में एक के बाद एक 5 राज्यों की सत्ता खोने वाली भारतीय जनता पार्टी ने महज 3 महीनों में ऐसा कौन सा चमत्कार कर दिया कि देश के सभी राजनीतिक विश्लेषकों की गणना तथा एक्जीट पोल के सारे आंकड़ों को…
-विकास शाहजहाँपुरी(उ0प्र0)आजकल अधिकतर युवा बाइक चलाते समय यातायात नियमों का ज़रा सा भी पालन नहीं करते हैं।याद रखना मौत हमेशा युवाओं को ही मोहब्बत भरी नजरों से देखती है।कब कोई युवा जोश में अपना होश खो दे।और मेरे गले लग जाये।घर से निकलते समय हेलमेट नहीं लगाएंगे,कहीं उनका हेयरस्टाइल न ख़राब हो जाये।जब कि ज्यादा तर मौतें हेलमेट न पहनने की वजह से होती हैं।इस बात पर कोई ध्यान नहीं…
-अमित डोगरा ,पीच.डी ( शोधार्थी ) विश्व पर्यावरण दिवस एक अभियान है जो दुनिया भर में कुछ सकारात्मक पर्यावरणीय बदलाव लाने के लिए स्थापित किया गया है ताकि जीवन को बेहतर और प्राकृतिक बनाया जा सके। पर्यावरण के मुद्दे अब एक बड़े मुद्दे हैं, जिनसे सभी को अवगत होना चाहिए और ऐसे मुद्दों को हल करने के लिए अपने सकारात्मक प्रयास करने चाहिए। छात्रों के रूप में किसी भी देश…
Page 1 of 89

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें