- योगेश कुमार गोयल*
गत दिनों भारतीय वायुसेना का एक और मिग विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। दरअसल मिग-27यूपीजी विमान ने उतरलाईवायुसेना अड्डे से उड़ान भरी ही थी कि उसके इंजन में एकाएक खराबी आ गई राजस्थान में जोधपुर के पास दुर्घटना का शिकार हो गया। हालांकि इस हादसे में पायलट बाल-बाल बच गया और सूझबूझ का परिचय देते हुए उसने विमान को घनी आबादी वाले इलाके से दूर जंगल में ले जाकर किसी बड़े हादसे को भी टाल दिया लेकिन मिग-27 के इस हादसे के बाद एक बार फिर मिग विमानों के बार-बार होते हादसों को लेकर सवाल उठने लगे हैं। इस साल के शुरूआती तीन महीनों में वायुसेना यह 9वां विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ है। जहां तक मिग हादसों की बात है तो पिछले ही महीने 8 मार्च को राजस्थान के बीकानेर जिले में एक मिग-21 दुर्घटना का शिकार हुआ था जबकि फरवरी माह में पाकिस्तान के लड़ाकू विमान एफ-16 को मार गिराये जाने के बाद विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान का मिग-21क्रैश हो गया था। एक के बाद एक लगातार हो रहे मिग हादसों के कारण भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल इन विमानों को लेकर गंभीर सवाल उठने लगे हैं।
पांच दशक पुराने इन मिग विमानों को बदलने की मांग लंबे समय से हो रही है किन्तु वायुसेना के लिए लड़ाकू विमानों की कमी के चलते इनकी सेवाएं लेते रहना वायुसेना की मजबूरी रही है। वायुसेना का कहना है कि 2030 तक चरणबद्ध तरीके से मिग विमानों को भी हटाया जाएगा लेकिन सवाल यह है कि क्या तब तक मिग इसी प्रकार दुर्घटनाग्रस्त होते रहेंगे और हम अपने लड़ाकू पायलटों को खोते रहेंगे? ऐसे हादसों में करीब 200 लड़ाकू पायलट मौत के मुंह में समा चुके हैं। भारतीय वायुसेना को 1964 में पहला सुपरसोनिकमिग-21 विमान प्राप्त हुआ था और भारत ने रूस से 872मिग विमान खरीदे थे, जिनमें से अधिकांश क्रैश हो चुके हैं। सरकारी आंकड़ों के अनुसार 1971 से 2012 के बीच 482मिग विमानों की दुर्घटना में 171फाइटरपायलट, 39 आम नागरिक, 8सैन्यकर्मी तथा विमान चालक दल के एक सदस्य की मौत हुई। हालांकि वायुसेना के पास अब जो मिग विमान हैं, उन्हें तकनीकी रूप से उन्नत किया जा चुका है किन्तु फिर भी ये बार-बार दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं। केन्द्र सरकार द्वारा मार्च 2016 में संसद में यह जानकारी दी गई थी कि वर्ष 2012 से 2016 के बीच भारतीय वायुसेना के कुल 28 विमान दुर्घटनाग्रस्त हुए, जिनमें एक चौथाई अर्थात् 8मिग-21 विमान थे और इनमें से भी 6मिग-21 विमान ऐसे थे, जिन्हें अपग्रेड कर ‘मिग-21बायसन’ का दर्जा दिया गया था। कुछ समय पहले तक वायुसेना के पास करीब 120मिग21 विमान थे, जिनमें से अधिकांश क्रैश हो गए हैं और फिलहाल केवल 40-45मिग-21 ही बचे हैं। 1960 के दशक में भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल किए गए मिग विमान सोवियत रूस में बने हैं। रूस में निर्मित इन विमानों के निरन्तर दुर्घटनाग्रस्त होते जाने का प्रमुख कारण यही बताया जाता रहा है कि ये विमान रूस की पुरानी तकनीक से निर्मित हैं और अब इनके असली पुर्जे नहीं मिल पाते।
पिछले कुछ ही वर्षों में मिग विमानों की इतनी दुर्घटनाएं हो चुकी हैं कि अब इन्हें वायुसेना के ही कुछ अधिकारी तथा इन विमानों को उड़ाने वाले पायलट ‘फ्लाइंगकॉफिन’ अर्थात् ‘हवा में उड़ने वाला ताबूत’ कहने लगे हैं। हालांकि मिग अपने समय के उच्चकोटि के लड़ाकू विमान रहे हैं लेकिन अब ये विमान इतने पुराने हो चुके हैं कि सामान्य उड़ान के दौरान ही क्रैश हो जाते हैं। करीब एक दशक पहले मिग विमानों को बायसन मानकों के अनुरूप अपग्रेड करना शुरू कर इनमें राडार, दिशासूचक क्षमता इत्यादि बेहतर की गई किन्तु अपग्रेडेशन के बावजूद हकीकत यही है कि इन विमानों की उम्र बहुत पहले ही पूरी हो चुकी है। आज के समय में ऐसे अत्याधुनिक लड़ाकू विमानों की जरूरत है, जो छिपकर दुश्मन को चकमा देने, सटीक निशाना साधने, उच्च क्षमता वाले राडार, बेहतरीन हथियार, ज्यादा वजन उठाने की क्षमता इत्यादि सुविधाओं से लैस हों जबकि मिग का न तो इंजन विश्वसनीय है और न ही इनसे सटीक निशाना साधने वाले उन्नत हथियार संचालित हो सकते हैं।
सही मायनों में मिग विमानों को 1990 के दशक में ही सैन्य उपयोग से बाहर कर दिया जाना चाहिए था। दरअसल हर लड़ाकू विमान की एक उम्र होती है और मिग विमानों की उम्र करीब 20 साल पहले ही पूरी हो चुकी है लेकिन हम इन्हें अपग्रेड कर इनकी उम्र बढ़ाने की कोशिश करते रहे हैं और तमाम ऐसी कोशिशों के बावजूद इनकी कार्यप्रणाली प्रायः धोखा देती रही है, जिसका नतीजा मिग विमानों की अक्सर होती दुर्घटनाओं के रूप में बार-बार देखा भी जाता रहा है। रक्षा विशेषज्ञों के अनुसार अपनी वायुसेना को गंभीरता से लेने वाले देशों में भारत संभवतः आखिरी ऐसा देश है, जो आज भी मिग-21 का इस्तेमाल करता है। रक्षा विशेषज्ञों की मानें तो मिगविमान 1960 व 1970 के दशक की टैक्नोलॉजी के आधार पर निर्मित हुए थे जबकि अब हम 21वीं सदी के भी करीब दो दशक पार कर चुके हैं और पुरानी तकनीक वाले ऐसे मिग विमानों को ढ़ो रहे हैं, जिनका आधुनिक तकनीक से निर्मित लड़ाकू विमानों से कोई मुकाबला नहीं है।
आज स्थिति यह है कि ये विमान अब सामान्य उड़ानों के दौरान भी हादसों के शिकार हो रहे हैं। जहां तक राफेल विमानों की बात है तो इन्हें लेकर कुछ रक्षा विशेषज्ञ मानते हैं कि चूंकि ये बेहद उच्चस्तरीय, जटिल तथा परिष्कृत किस्म के विमान हैं जबकि युद्धक मोर्चे पर छोटे, हल्के और सस्ते लड़ाकू विमानों की ज्यादा जरूरत होती है, ऐसे में राफेलमिग विमानों की जगह नहीं ले सकते। हमारी वायुसेना के पास हर प्रकार के लड़ाकू विमानों की काफी कमी है। संसदीय समिति की एक रिपोर्ट के अनुसार वायुसेना के पास लड़ाकू विमानों के केवल 31 दस्ते (स्क्वाड्रन) ही हैं जबकि जरूरत 42 दस्तों की है और नए विमान आने की रफ्तार काफी धीमी है। ऐसे में अगर मिग-21, मिग-27 और मिग-29 विमानों के 14 दस्ते भी परिचालन से बाहर हो जाते हैं तो वायुसेना के पास लड़ाकू विमानों के बहुत कम दस्ते रह जाएंगे। ऐसे में रक्षा सौदों में पारदर्शिता बरतते हुए वायुसेना की इन जरूरतों को जल्द से जल्द पूरा किया जाना वायुसेना को मजबूत बनाए रखने के लिहाज से बेहद जरूरी है।
*(लेखक वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं)

114, गली नं. 6, वेस्ट गोपाल नगर, एम. डी. मार्ग, नजफगढ़, नई दिल्ली-110043.
फोन: 9416740584, 9034304041.
ई मेल: mediacaregroup@gmail.com

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें