नई दिल्ली। इथियोपिया हादसे के बाद अब भारत ने भी बोइंग 737 मैक्स विमानों के परिचालन पर रोक लगा दी है। यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने भी बोइंड 737 मैक्स विमानों के परिचालन को तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित कर दिया है। डीजीसीए के एक वरिष्ठ अधिकारी ने जानकारी दी है कि आज शाम 4 बजे तक बोइंग 737 मैक्स 8 के सभी विमान खड़े कर दिए जाएंगे।नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने देर रात ट्वीट कर बताया, ''डीजीसीए ने बोइंग 737 मैक्स विमानों को तत्काल प्रभाव से परिचालन से हटाने का फैसला लिया है। सुरक्षा के लिए जरूरी बदलाव किए जाने तक इन विमानों को इस्तेमाल नहीं किया जाएगा।''प्रभु ने कहा कि विमानन सचिव को सभी विमानन कंपनियों के साथ बैठकर उन्हें आपातकाली योजना बनाने के लिए कहा है, ताकि यात्रियों को किसी तरह की असुविधा का सामना नहीं करना पड़े।इथियोपिया के अलावा अब तक ब्रिटेन, सिंगापुर, चीन, फ्रांस, आयरलैंड, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, इंडोनेशिया और मलेशिया समेत 18 देश बोइंग 737 मैक्स 8 की सेवा को अस्थायी रूप से प्रतिबंधित कर चुके हैं।इससे पहले नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने विमानन नियामक डीजीसीए को घरेलू विमानन कंपनियों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे बोइंग 737 मैक्स विमानों की सुरक्षा जांच करने के लिए कहा था।जेट एयरवेज और स्पाइसजेट की बेड़े में 737 मैक्स विमान शामिल है। प्रतिबंध के बाद इन कंपनियों को अपने बेड़े से इन विमानों को हटाना पड़ सकता है।गौरतलब है कि इथियोपिया एयरलाइंस के विमान क्रैश में 157 लोगों की मौत हो गई थी। एयरलाइंस का विमान रविवार को अदिस अबाबा से नैरोबी के लिए उड़ान भरते समय हादसे का शिकार हो गया था।अभी तक की रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन, ब्रिटेन, जर्मनी, फ्रांस, मेक्सिको, ब्राजील, अर्जेंटीना, इंडोनेशिया, तुर्की, आयरलैंड, ऑस्ट्रेलिया, इथियोपिया, दक्षिण अफ्रीका, मलेशिया, सिंगापुर, ओमान, मोरक्को और मंगोलिया में इस विमान पर प्रतिबंध लगाया गया है।दुनिया के कई देशों में लगातार प्रतिबंधित किए जाने का असर कंपनी का शेयर धाराशायी हो चुका है। न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में लगातार दूसरे दिन बोइंग का शेयर क्रैश कर गया।मंगलवार को कंपनी का स्टॉक खुलते के साथ ही 8 फीसद से अधिक तक टूट गया। पिछले दो दिनों में बोइंग का शेयर करीब 15 फीसद तक टूटते हुए 370 डॉलर तक आ चुका है। इससे पहले सोमवार को स्टॉक 5.33 फीसद की गिरावट के साथ 400.1 डॉलर पर बंद हुआ।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें