Editor

Editor

नई दिल्ली। बीते कई दिनों से करीना कपूर खान और सैफ अली खान के छोटे बेटे जेह अली खान काफी चर्चा में बने हुए हैं। कभी जेह की तस्वीरें तो कभी उनका असली नाम सोशल मीडिया पर कई दिनों से छा रहा है। लेकिन अब हाल ही में करीना और सैफ के छोटे नवाब फोटोग्राफर्स के कामरा में कैद हुए हैं। जेह की ये पहली तस्वीरें अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही हैं।सैफ और करीना के फैंस लंबे समय से उनके दूसरे बेटे की तस्वीरों का इंतजार कर रहे थे। सभी लोग देखना चाहते थे कि तैमूर के छोटे भाई क्यूटनेस में उनसे कहीं कम या ज्यादा तो नहीं। हालांकि अब लोगों का इंतजार खत्म हो गया है क्योंकि सैफ और करीना के छोटे बेटे की तस्वीरें सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही हैं। दरअसल सैफ और करीना को पहली बार अपने छोटे बेटे के साथ मुंबई में स्पॉट किया गया है।कई सेलिब्रिटी जर्नलिस्ट ने सैफ और करीना के छोटे बेटे की पहली तस्वीरें और वीडियो शेयर की हैं। जिनमें सैफ करीना के छोटे नवाब अपने पिता की गोद में नजर आ रहे हैं। जेह बी तैमूर की तरह ही बेहद क्यूट हैं। इन तस्वीरों को देख हर कोई जेह की तारीफ कर रहा है। सामने आए एक वीडियो में सैफ और करीना गाड़ी में से उतरते हुए दिखाई देते हैं। सैफ की गोद में नन्हें जेह नजर आए जिसे लेकर सैफ जल्दी से बिल्डिंग के अंदर चले गए। पीछे- पीछे करीना भी अंदर गईं। लेकिन जाने से पहले करीना ने पैपराजी के सामने कुछ सेकंड पोज दिया और फिर अंदर चली गईं।एक झलक में देखने पर जैह अली खान बेहद ही प्यारे नजर आए। बता दें कि बीते कई दिनों से जेह के नाम को लेकर काफी बवाल मचा हुआ है। करीना कपूर खान ने कुछ दिन पहले ही अपने प्रेग्नेंसी बाइबिल लॉन्च की है। जिसमें जैह की तस्वीर के नीचे उनका नाम 'जहांगीर' लिखा गया है। जिसे लेकर काफी दिनों से बवाल मचा हुआ है। हालांकि अब करीना ने खुद इस मामले पर चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने कहा कि इस मामले में नेगिटिविटी नहीं होनी चाहिए क्योंकि हम दो बच्चों के बारे में बात कर रहे हैं।

नई दिल्ली। छोटे पर्दे से बॉलीवुड तक का सफर तय करने वाली एक्ट्रेस मौनी रॉय हमेशा ही अपनी तस्वीरों और वीडियो को लेकर चर्चा में बनीं रहती हैं। मौनी एक्टिंग के अलावा सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव रहती हैं। वह लगभग हर दिन ही अपनी सीजलिंग तस्वीरें और वीडियो पोस्ट पर अपने कातिलाना अंदाज से फैंस को दीवाना बनाती रहती हैं। इसी बीच मौनी रॉय ने एक बार फिर अपनी खूबसूरत तस्वीरें और वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में उनका ग्लैमरस लुक फैंस को काफी पसंद आ रहा है।मौनी रॉय ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपनी कई सारी तस्वीरें और वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि ग्रे कलर की बिकिनी में रिवीलिंग पोज देती दिख रही हैं। वहीं इस दौरान वह कई अलग-अलग एंगल में पोज देती दिख रही हैं। वीडियो में आप देख सकते हैं कि वह कभी मिरर सेल्फी लेती दिख रही हैं, तो कभी वह बीच पर लेट कर पोज मारती नजर आ रही हैं। इस दौरान उनका हॉट एंड ब्यूटीफुल लुक देख फैंस काफी खुश नजर आ रहे हैं। एक्ट्रेस की ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर ताबड़तोड़ वायरल हो रही हैंवहीं इस वीडियो पर न सिर्फ मौनी के फैंस बल्कि सेलेब्से भी कमेंट की उनकी तारीफ कर रहे हैं। मौनी के इस वीडियो पर 'नागिन' फेम रक्षंदा खान खुद को कमेंट करने से रोक नहीं पाईं। उन्होंने कमेंट कर लिखा, 'तुम्हारी जैसी लड़की मिलना मुश्किल है!' वहीं 'रक्षंदा खान के अलावा एक्ट्रेस आशा नेगी ने कॉमेंट कर लिखती हैं, 'प्लीज हमें मत मारो'। अबतक इस वीडियो को 2 लाख, 32 हजार से ज्यादा लाक्स मिल चुके हैं।हाल ही में मौनी रॉय ने कुछ तस्वीरें शेयर की थीं। इन तस्वीरों में हरे रंग की साड़ी पहनी हुई थीं। उनका ये सेमी ट्रेडिशनल लुक उनके फैंस को काफी पसंद आया था। मौनी ने हरे रंग की साड़ी के साथ मैचिंग झुमके भी पहने हुए हैं। खास बात ये है कि फोटोशूट के दौरान मौनी ने इस साड़ी के साथ ब्लाउज नहीं पहना था।

नई दिल्ली। बिग बॉस फेस जैस्मिन भसीन सोशल मीडिया पर काफी पॉपुलर हैं। उनके फोटोज और वीडियोज शेयर होते जमकर वायरल होते हैं। हाल ही में जैस्मिन का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वो अपने फैन के साथ हैं पर फिर उनके साथ अचानक ही कुछ ऐसा हुआ जिससे एक्ट्रेस के होश उड़ गए।

सेल्फी लेते समय फैन ने की ये हरकत:-एक्ट्रेस जैस्मिन भसीन के सोशल मीडिया पर खूब छाई रहती हैं। वो अपने मुख्तलिफ अंदाज से फैन्स के दिलों पर राज करती हैं। जैस्मिन की दीवानगी ही है कि फैन्स उन्हें जहां भी देखते हैं सेल्फी लेने के लिए बेताब हो जाते हैं। सोशल मीडिया पर इनदिनों एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें एक फैन ऐसे ही जैस्मिन के साथ सेल्फी लेते-लेते कुछ गलत हरकत कर देता है।हुआ ये कि सेल्फी लेते वक्त एक फैन अचानक जैस्मिन भसीन को किस कर देती है। जिसपर जैस्मिन के रिएक्शन देखने लायक है. जैस्मिन भसीन का ये वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।

सोशल मीडिया पर मिला ये रिएक्शन;-जैस्मिन भसीन के इस वायरल वीडियो में आ;प साफ देख सकते हैं कि एक्ट्रेस अस्पताल के बाहर मीडिया रिपोर्टर द्वारा स्पॉट होती हैं। जहां उनकी एक फैन सेल्फी खिंचवाने के लिए उनके पास आती है और अचानक जैस्मिन को किस कर लेती है। जिसपर जैस्मिन हैरान रह जाती है। जैस्मिन का ये वीडियो देख उनके फैन्स बड़े मजेदार रिएक्शन दे रहे हैं।

अली गोनी को कर रही हैं डेट;-जैस्मिन अपनी लव लाइफ को लेकर काफी चर्चा में रहती हैं। पिछले काफी समय से वो एक्टर अली गोनी को डेट कर रही हैं। दोनों का प्यार बिग बॉस के घर में ही परवान चढ़ा था। जैस्मिन के वर्कफ्रंट की बात करें तो वे 'दिल से दिल तक', 'बेलन वाली बहू', 'नागिन' और 'तू आशिकी' जैसे सीरियल में काम कर चुकी हैं।

नई दिल्लीl किम शर्मा ने पोल डांस का वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया हैl इसे काफी पसंद किया जा रहा थाl हालांकि किम शर्मा के एक्स ब्वॉयफ्रेंड युवराज सिंह ने ट्रोल कर दिया हैl किम शर्मा का यह वीडियो वायरल हो गया हैl किम शर्मा ने गुरुवार को इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया थाl इसमें वह पोल डांसिंग सीखती नजर आ रही हैंlकिम शर्मा को पोल पर झूलते हुए देखा जा सकता हैl उन्होंने ब्लैक कलर की स्पोर्ट्स ब्रा और पिंक शॉर्ट्स पहन रखी हैl उनके बाल बंधे हुए हैंl वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने लिखा है, 'आरिफा पोल के साथ बीच सप्ताह में स्पिनिंगl' किम शर्मा के एक्स ब्वॉयफ्रेंड और क्रिकेटर युवराज सिंह ने उन्हें ट्रोल करते हुए लिखा है, 'वाह क्या सूर है, कौन सा गाना गा रही है मैडमl' वहीं फिल्म मोहब्बतें में किम शर्मा के साथ काम कर चुकी प्रीति झंगियानी ने लिखा है, 'वाह, बढ़ियाl'किम शर्मा के इस वीडियो को काफी लोग पसंद कर रहे हैंl किम शर्मा फिल्म अभिनेत्री हैंl उन्होंने कई फिल्मों में काम किया हैl उनकी फिल्में काफी पसंद की गई हैl इन दिनों किम शर्मा टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस को डेट कर रही हैl वहीं युवराज सिंह ने अभिनेत्री हेजल किच से शादी कर ली हैl युवराज सिंह इसके पहले भी किम शर्मा को ट्रोल कर चुके हैंl पिछले साल उन्होंने एक पोस्ट पर लिखा था, 'गांव बसा नहीं, बस्ता लेकर पहुंच गई मैडमl' इसपर किम शर्मा ने प्रतिक्रिया देते हुए लिखा था, 'इंग्लिश में बात करें।' किम शर्मा और लिएंडर पेस ने अभी तक अपने रिश्ते को सार्वजनिक नहीं किया हैl हालांकि दोनों की कई तस्वीरें ऑनलाइन लीक हुई हैlकिम शर्मा का नाम कई कलाकारों से साथ जुड़ चुका हैl किम शर्मा ने अभी तक शादी नहीं की हैl उनका नाम हर्षवर्धन राणे के साथ भी जुड़ चुका हैl 

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी को रुद्राक्ष कन्वेंंशन सेंटर समेत 1475 करोड़ की सौगात देने सुबह पहुंच गए। सुबह 10:30 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर वायुसेना का विमान बाबतपुर एयरपोर्ट पर पहुंचा तो उनका स्‍वागत करने के लिए शासन प्रशासन के शीर्ष अधिकारी मौजूद रहे। पीएम को लेकर भारतीय वायुसेना का विमान एप्रन पर पहुंचा तो विमान से उतरने के बाद राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने उनकी अगवानी की। आगवानी के बाद सभी से मुलाकात करने के बाद पीएम चॉपर हेलीकॉप्टर से बीएचयू की ओर सुबह 10.50 बजे रवाना हो गए और उनका हेलिकाप्‍टर बीएचयू के आइआइटी टेक्‍नो ग्राउंड पर सुबह 11.02 बजे पहुंच गया। इसके बाद सीएम का संबोधन हुआ और पीएम ने सुबह 11. 27 बजे सभी योजनाओं को जनता को समर्पित किया। संबोधन के बाद पीएम बीएचयू के एमसीएच का निरीक्षण करने पहुंचे और कोरोना की तीसरी लहर से बचाव की तैयारियों का जायजा लेने के बाद साथ 18 कोरोना वारियर्स से बात की। इसके बाद पीएम ने दोपहर दो बजे जापान के सहयोग से बने रुद्राक्ष कन्‍वेंशन सेंटर का लोकार्पण किया। इसके बाद प्रधानमंत्री दोपहर बाद 3:45 बजे नई दिल्‍ली के लिए रवाना हो गए।
रुद्राक्ष का लोकार्पण कर बोले पीएम : काशी के प्रबुद्ध जनों को पीएम ने संबोधित किया। बताया कि लंबे समय बाद आपके बीच आने का मौका मिला है। बनारस का मिजाज ऐसा है कि अरसा भले लंबा हो जाए लेकिन शहर मौका मिलने पर एक साथ रस भरकर दे देता है। काशी ने बुलाया तो एक साथ विकास कार्यों की झड़ी लगा दी। महादेव के आशीर्वाद से काशीवासियों ने विकास की गंगा बहा दी है। सैकड़ों करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्‍यास हुआ है। काशी का वैभव आधुनिक स्‍वरुप के अस्‍तित्‍व में आ रहा है। बाबा की नगरी थमती और रुकती नही है। स्‍वभाव को सिद्ध किया है। कोरोना में दुनिया ठहर गई तो काशी संयमित हुई अनुशासित हुई लेकिन स्रजन और विकास की धारा बहती रही। काशी के विकास के आयाम इंटरनेशनल सेंटर रुद्राक्ष आज इसी रचनात्‍मकता और गतिशीलता का परिणाम है। काशी के हर जन को बधाई देता हूं। भारत के परम मित्र जापान और पीएम के साथ जापान के राजदूत को भी धन्‍यवाद देता हूं। जापान के पीएम का संदेश देखा। उनकी वजह से यह उपहार मिला है। जापानी पीएम उस समय चीफ सेक्रेटरी थे और तबसे इसमें व्‍यक्तिगत तौर पर शामिल रहे। इस आयोजन में एक और व्‍यक्ति जिनको भूल नहीं सकता। शिंजो आबे जी, मुझे याद है जब वह पीएम के तौर पर काशी आए थे तो रुद्राक्ष के आइडिया पर लंबी चर्चा की। उन्‍होंने तुरंत अधिकारियों को निर्देश दिया और जापान के कल्‍चर पर परफेक्‍शन और प्‍लानिंग के साथ काम किया और आज भव्‍य इमारत काशी की शोभा बढ़ा रही है। भविष्‍य की संभावनाओं का स्रोत है। अपने पन पर जापान से ऐसे ही सांस्‍कृतिक संबंध की रूपरेखा खींची थी। विकास के साथ दोनों देशों के रिश्‍तों में मिठास का अध्‍याय लिखा जा रहा है। रुद्राक्ष के साथ ही गुजरात में भी जापान में जापानी गार्डन और एकाडमी का लोकार्पण हुआ था। वैसे ही जैन गार्डन भी दोनों देशों के बीच सुगंध फैला रहा है। जापान भारत के सबसे विश्‍वसनीय दोस्‍तों में एक है। पूरे क्षेत्र में नैचुरल पार्टनर में एक हैं। विकास और इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर में जापान हमारा साझेदार है। हाईस्‍पीड रेल, कारीडोर जापान के सहयोग से न्‍यू इंडिया की ताकत बन रहे हैं। हमारा विकास हमारे उल्‍लास के साथ जुड़ा होना चाहिए। विकास सर्वमुखी सबके लिए और सबको जोड़ने वाला होना चाहिए। पुराणों में कहा गया है कि सबके हित के लिए सबके कल्‍याण के लिए आंसुओं से गिरा रुद्राक्ष है, उनकी अंश्रुबूंंद मानव प्रेम का प्रतीक है। रुद्राक्ष भी दुनिया को आपसी प्रेम कला संंस्‍कृति से जोड़ने का काम करेगा। काशी सबसे पुराना शहर है। सीर से सारनाथ ने सबकुछ संजोकर रखा है। ठुमरी दादरा ख्‍याल कजरी चैती जैसी बनारस की चर्चित विख्‍यात गायन शैलियां सारंगी पखावज शहनाई हो बनारस के रोम रोम से गीत संगीत कला झरती है। घाटों पर कलाएं विकसित हुईं। बनारस गीत संगीत और धर्म आध्‍यात्म विज्ञान का केंद्र है। कल्‍चरल इवेंट के लिए बनारस आइडियल लोकेशन है। लोग देश विदेश से आना चाहते हैं। सुविधा मिले तो कला जगत के लोग बनारस को प्राथमिकता देंगे। रुद्राक्ष इन्‍हीें को साकार करेगा और केंद्र बनेगा। बनारस में कवि सम्‍मेलन के फैन दुनिया में हैं। इस सेंटर में 1200 लोगों के बैठने की सुविधा है, पार्किंग और दिव्‍यांगों के लिए सुविधा है। हैंडीक्राफ्ट और शिल्‍प को पहचान मिल रही है। कारोबारी गतिविधि भी बढ़ रही है। इसका उपयोग बिजनेस में किया जा सकता है। काशी का पूरा क्षेत्र साक्षात शिव हैं। सारी विकास परियोजनाओं से काशी का श्रंगार हो रहा है तो बिना रुद्राक्ष के कैसे पूरा हो सकता था। अब रुद्राक्ष काशी ने धारण कर लिया है तो शोभा बढ़ेगी। इसका पूरा उपयोग करना है। सांस्‍कृतिक सौंदर्य प्रतिभा को इससे जोड़ना है। भारत जापान को भी इससे मजबूती मिलेगी। महादेव के आशीर्वाद से काशी की पहचान बनेगा यह केंद्र। जापान सरकार, प्रधानमंत्री का आभार व्‍यक्‍त करता हूं और बाबा आप सभी को खुश स्‍वस्‍थ और सजग रखें। कोरोना प्रोटोकाल का पालन करें। हर हर महादेव। धन्‍यवाद।
रुद्राक्ष कन्‍वेंशन सेंटर का लोकार्पण : दोपहर 1.50 बजे रुद्राक्ष इंटरनेशनल कन्‍वेंशन सेंटर पहुंचकर पीएम नरेंद्र मोदी ने परिसर में रुद्राक्ष का एक पौधा रोपकर इस भवन का औपचारिक रूप से उद्घाटन किया। इस दौरान जापान सरकार की ओर से प्रतिनिध के रूप में भारत में जापान के राजदूत सातोशी सुजुकी भी मौजूद रहे। भवन का लोकार्पण करने के बाद पूरे परिसर का पीएम ने निरीक्षण करने के बाद प्रबुद्ध जनों को संबाेधित भी किया। इस दौरान जापानी निर्माण प्रतिनिधि मंडल भी मौजूद रहा। आयोजन के दौरान प्रधानमंत्री को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने रुद्राक्ष पर आधारित मॉडल भेंट करने के साथ रुद्राक्ष पर ही बने अंगवस्‍त्र को भेंट किया। वहीं रुद्राक्ष पर बने एक वृत्‍तचित्र को भी सीएम के संबोधन के बाद दिखाया गया। वहीं जापान के प्रधानमंत्री योशिहुदे सुगा का रिकार्डेड वीडियो संबोधन भी इस दौरान सुनाया गया। जिसमें जापान के पीएम ने भारत जापान के संबंधों पर अपने विचार रखते हुए इसे आगे भी जारी रखने के प्रति अपनी वचनबद्धता दोहराई।
कोरोना से लड़ने की तैयारियों का लिया जायजा : लोगों को संबोधित करने के बाद पीएम बीएचयू एमसीएच विंग गए और 18 कोरोना योद्धाओं से मुलाकात की। इस दौरान उन्‍होंने कोरोना की तीसरी लहर से बचाव के लिए चल रही तैयारियों को लेकर विशेषज्ञों से बात कर तैयरियों का निरीक्षण किया। कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए चिकित्‍सा और स्‍वास्‍थ्‍य की तैयारियों को लेकर आधुनिक मशीनों, लैब, आक्‍सीजन, बेड की उपलब्‍धता और कोरोना की दवाओं पर शोध को लेकर विशेषज्ञों से उनके अनुभवों पर बात कर तैयारियों की सराहना की। कोरोना की तीसरी लहर में बच्‍चों के लिए चल रही विशेष तैयारियों से भी पीएम इस दौरान अवगत हुए। वहीं मातृ शिशु स्‍वास्‍थ्‍य को समर्पित एमसीएच विंग की आधुनिक सुविधाओं का भी उन्‍होंने निरीक्षण किया। यहां पर सौ बेड का विशेष विंग महिला और शिशु स्‍वास्‍थ्‍य पर आधारित निर्मित किया गया है। इसी प्रकार का जिला अस्‍पताल में भी 50 बेड का वार्ड तैयार किया गया है। इस प्रकार जिले में कुल 150 नए महिला-शिशु स्‍वास्‍थ्‍य पर आधारित बेड आधुनिक सुविधाओं के साथ सेवा देने के लिए तैयार हैं।
बोले प्रधानमंत्री : पीएम ने सुबह 11.35 बजे मंच से जनता को संबोधित किया और लंबे समय बाद लोगों से सीधा संवाद करने की वजहों को कोरोना काल बताते हुए जनता का अभिवादन करते हुए भोजपुरी में संवाद किया। कहा क‍ि बीमारियों से जूझने के दौरान सौ साल में पूरी दुनिया में आई सबसे बड़ी आफत है। इसलिए कोरोना से निपटने में यूपी के प्रयास उल्‍लेखनीय है। काशी के साथियों और शासन प्रशासन संग कोरोना योद्धाओं की टीम का आभारी हूं। कभी आधी रात को फोन किया तो लोग मोर्चे पर तैनात मिले। आपने प्रयासों में कोई कमी नहीं छोड़ी। इसी का नतीजा है कि यूपी में हालत संंभलने लगा है। यूपी में सबसे अधिक टेस्टिंग हो रही है। यूपी पूरे देश में सबसे अधिक वैक्‍सीनेशन का राज्‍य है। सबको मुफ्त वैक्‍सीन मिल रही है। गरीब किसान नौजवान को फ्री वैक्‍सीन लगाई जा रही है। मेडकिल कालेज चार गुना हो चुका है। संंसाधनों में तेजी से इजाफा हो रहा है। बनारस में ही चौदह आक्‍सीजन प्‍लांट का लोकार्पण हुआ है। बच्‍चों के लिए विशेष आक्‍सीजन और आइसीयू विकसित करने का बीड़ा यूपी सरकार ने उठाया है। कोरोना की स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं का विशेष पैकेज घोषित किया है। पूर्वांचल मेडिकल का हब बन रहा है। महिलाओं और बच्‍चों की चिकित्‍सा से जुड़े अस्‍पताल बनारस को मिले हैं। सौ बेड बीएचयू और 50 बेड जिला अस्‍पताल में जुड़ रहे हैं। नेत्र संस्‍थान में आंखों से जुड़ी बीमारियों का लाभ भी मिल पाएगा। काशी मौलिक पहचान के साथ ही विकास के पथ पर तेजी से अग्रसर है। आठ हजार की परियोजनाओं पर काम चल रहा है। यह काशी को और जीवंत कर रहे हैं।मां गंगा की स्‍वच्‍छता के लिए भी प्रयास हो रहा है। पंचक्रोशी मार्ग सुधार से गांवों की स्थिति और पूर्वांचल में भी सुधार आएगा। गोदौलिया में मल्‍टीलेवर पार्किंग से किचकिच कम होगी। लहरतारा से चौकाघाट तक राहत मिलेगी। जन सुविधाओं का काम पूरा हो जाएगा। यूपी के किसी भी परिवार को परेशान नहीं होना पड़े इसलिए हर घर जल अभियान पर काम हो रहा है। सीसीटीवी सर्विलांस, स्‍क्रीन और इसपर प्रसारण पूरे शहर में संभव हो पाएगा। रो रो सेवा और क्रूज बोट का संचालन होने से पर्यटन में इजाफा होगा और नाविक साथियों को लाभ मिलेगा। डीजल से नावें सीएनसी में हो रही हैं। पर्यावरण और पर्यटन में लाभ होगा खर्च भी कम होगा। रुद्राक्ष को भी काशीवासियों काे सौंपने जा रहा हूं। विश्‍व स्‍तरीय साहित्‍याकार, संगीतकारों ने विश्‍व स्‍तर पर धूप मचाई है। उनकी कलाओं के प्रदर्शन के लिए कोई सुविधा नहीं दी है। अब सभी को अपनी कला दिखाने के लिए एक आधुनिक मंच मिल रहा है। पुरातन वैभव की समृद्धि ज्ञान की गंगा से जुड़ी है। काशी के ज्ञान विज्ञान में विकास निरंतर जरूरी है। आधुनिक शिक्षा केंद्र युवाओं के लिए काशी की भूमिका को और मजबूत करेंगे। सीपैट सेंटर के लिए बधाई देता हूं। दुनिया के बड़े निवेशक आत्‍मनिर्भर भारत के महायज्ञ से जुड़ रहे हैं। यूपी इसमें अग्रणी होकर उभर रहा है। पहले यूपी में कारोबार मुश्किल था, आज मेक इन इंडिया में यूपी की भूमिका बढ़ी है। सड़क, रेल और हाइवे संपर्क में सुधार से जीवन आसान हो रहा है। कारोबार में भी इससे सहूलियत मिली है। यूपी को चौड़ी और आधुनिक सड़कों का काम तेजी से चल रहा है। डिफेंस कारीडोर, पूर्वांचल, बुंदेलखंड, लिंक या गंगा एक्‍सप्रेस हो इससे यूपी के विकास को बुलंदी मिलेगी। इन पर गाड़‍ियां ही नहीं इनके इर्द गिर्द आत्‍मनिर्भर भारत के लिए औद्योगिक इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर भी बढ़ेंगे। कृषि आधारित उद्याेगोंं की भूमिका भी बढ़ेगी। मंडियों को समृद्ध और विकल्‍प देना सरकार की प्राथमिकता है। कृषि से जुड़े कारोबार को लेकर काम लगातार चल रहा है। वाराणसी पूर्वांचल पेरिशेबल कार्गो सेंटर, राइस सेंटर, पैकेजिंग सब किसानों को लाभ मिल रहा है। बनारसी लंगड़ा यूरोप से खाड़ी तक मिठास फैला रहा है। क्षेत्र को एग्रो हब बनने में मदद मिलेगी। काशी में फल सब्‍जी निर्यात से सभी को लाभ मिलेगा। विकास कार्यों की लिस्‍ट लंबी है जल्‍दी खत्‍म नहीं होगा। समय का अभाव होता है तो सोचना पड़ता है कि किसकी चर्चा करुं और किसे छोड़ दूं। यह सब यूपी सरकार की निष्‍ठा का प्रमाण है। ऐसा नहीं है कि 2017 से पहले यूपी के लिए योजनाएं नहीं थीं। 2014 में सेवा करने का मौका मिला तक भी दिल्‍ली से इतने ही प्रयास होते थे। तब लखनऊ में उनमें रोड़ा लग जाता था। आज योगी जी खूब मेहनत कर रहे हैं। काशी के लोग देखते हैं कि योगी जी खूब ऊर्जा लगाकर कामों को गति देते हैं। हर जिले में सीएम जाते हैं। यही वजह है कि यूपी में बदलाव के यह प्रयास आज आधुनिक यूपी बनाने में तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। यूपी में माफ‍िया और आतंकवाद पर अब कानून का शिकंजा है। बहन बेटियों की सुरक्षा को लेकर मां बाप चिंता में थे वह हालात बदल गया है। बहन बेटियों पर आंख उठाने वाले कानून से बच नहीं पा रहे हैं। यूपी में सरकार आज भ्रष्‍टाचार और भाई भतीजावाद से नहीं विकास वाद से चल रहा है। आज यूपी में जनता की योजना का लाभ जनता से मिल रहा है। आज यूपी में नए उद्याेगों का निवेश हो रहा है। विकास प्रगति की यात्रा में यूपी का जन जन की भागीदारी शामिल है। सबको फ्री टीका लग रहा है, सभी को कोरोना का टीका जरूर लगाएं और कोरोना से सबको बचाएं। सभी पर मां गंगा और बाबा विश्‍वनाथ का आशीर्वाद बना रहे।

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीएचयू में सुबह 11.35 बजे मंच से जनता को संबोधित करना शुरू किया तो 12:05 मिनट तक लगातार जनता को संबोधित करते रहे। पीएम के लगभग आधे घंटे के संबोधन के दौरान कुछ महत्‍वपूर्ण बिंदुओं में समझिए यूपी के विकास पर आधारित उनकी कुछ प्रमुख बातें- 

1- स्‍थानीय बोली में संवाद : पीएम नें हर हर महादवे के साथ संबोधन का समापन किया तो शुरुआत में काशिका और भोजपुरी में लोगों संग संवाद कर अपने काशी संग सात साल के संबंधों को ताजा किया। 

2- कोरोना से शुरुआत और समापन : पीएम ने बीमारियों से जूझने के दौरान सौ साल में पूरी दुनिया में आई सबसे बड़ी आफत है। इसलिए कोरोना से निपटने में यूपी के प्रयास उल्‍लेखनीय है। काशी के साथियों और शासन प्रशासन संग कोरोना योद्धाओं की टीम का आभारी हूं। कभी आधी रात को फोन किया तो लोग मोर्चे पर तैनात मिले। आपने प्रयासों में कोई कमी नहीं छोड़ी। इसी का नतीजा है कि यूपी में हालत संंभलने लगा है। यूपी में सबसे अधिक टेस्टिंग हो रही है। यूपी पूरे देश में सबसे अधिक वैक्‍सीनेशन का राज्‍य है। सबको मुफ्त वैक्‍सीन मिल रही है। गरीब किसान नौजवान को फ्री वैक्‍सीन लगाई जा रही है।

 

3- स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं में इजाफा : इंसेफ्लाइटिस सहित कई बीमारियों की चर्चा की। बताया कि आज प्रदेश में मेडिकल कालेज चार गुना हो चुका है। संंसाधनों में तेजी से इजाफा हो रहा है। बनारस में ही चौदह आक्‍सीजन प्‍लांट का लोकार्पण हुआ है। बच्‍चों के लिए विशेष आक्‍सीजन और आइसीयू विकसित करने का बीड़ा यूपी सरकार ने उठाया है। कोरोना की स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं का विशेष पैकेज घोषित किया है। पूर्वांचल मेडिकल का हब बन रहा है। महिलाओं और बच्‍चों की चिकित्‍सा से जुड़े अस्‍पताल बनारस को मिले हैं। सौ बेड बीएचयू और 50 बेड जिला अस्‍पताल में जुड़ रहे हैं। नेत्र संस्‍थान में आंखों से जुड़ी बीमारियों का लाभ भी मिल पाएगा। 

4- काशी की परंपराओं का मान : 'काशी रुकती नहीं है थकती नहीं है' कहतर काशी की महिमा का बखान किया। कहा कि काशी मौलिक पहचान के साथ ही विकास के पथ पर तेजी से अग्रसर है। आठ हजार की परियोजनाओं पर काम चल रहा है। यह काशी को और जीवंत कर रहे हैं। मां गंगा की स्‍वच्‍छता के लिए भी प्रयास हो रहा है।

5- काशी में विकास : पंचक्रोशी मार्ग सुधार से गांवों की स्थिति और पूर्वांचल में भी सुधार आएगा। गोदौलिया में मल्‍टीलेवर पार्किंग से किचकिच कम होगी। लहरतारा से चौकाघाट तक राहत मिलेगी। जन सुविधाओं का काम पूरा हो जाएगा। यूपी के किसी भी परिवार को परेशान नहीं होना पड़े इसलिए हर घर जल अभियान पर काम हो रहा है। सीसीटीवी सर्विलांस, स्‍क्रीन और इसपर प्रसारण पूरे शहर में संभव हो पाएगा। रो रो सेवा और क्रूज बोट का संचालन होने से पर्यटन में इजाफा होगा और नाविक साथियों को लाभ मिलेगा। डीजल से नावें सीएनसी में हो रही हैं। पर्यावरण और पर्यटन में लाभ होगा खर्च भी कम होगा।

 6- रुद्राक्ष से मिलेगा कला संस्‍कृति का लाभ : रुद्राक्ष को भी काशीवासियों काे सौंपने जा रहा हूं। विश्‍व स्‍तरीय साहित्‍याकार, संगीतकारों ने विश्‍व स्‍तर पर धूप मचाई है। उनकी कलाओं के प्रदर्शन के लिए कोई सुविधा नहीं दी है। अब सभी को अपनी कला दिखाने के लिए एक आधुनिक मंच मिल रहा है। पुरातन वैभव की समृद्धि ज्ञान की गंगा से जुड़ी है। काशी के ज्ञान विज्ञान में विकास निरंतर जरूरी है। आधुनिक शिक्षा केंद्र युवाओं के लिए काशी की भूमिका को और मजबूत करेंगे। सीपैट सेंटर के लिए बधाई देता हूं।

 

7-यूपी में विकास का दौर : यूपी के विकास का खाका खींचते हुए योजनाओं के पूरा होने की जानकारी दी। बताया कि दुनिया के बड़े निवेशक आत्‍मनिर्भर भारत के महायज्ञ से जुड़ रहे हैं। यूपी इसमें अग्रणी होकर उभर रहा है। पहले यूपी में कारोबार मुश्किल था, आज मेक इन इंडिया में यूपी की भूमिका बढ़ी है। सड़क, रेल और हाइवे संपर्क में सुधार से जीवन आसान हो रहा है। कारोबार में भी इससे सहूलियत मिली है। यूपी को चौड़ी और आधुनिक सड़कों का काम तेजी से चल रहा है। इससे युवाओं को भी रोजगार मिल सकेगा और पलायन रुकेगा।

8- पूर्वांचल का विकास : डिफेंस कारीडोर, पूर्वांचल, बुंदेलखंड, लिंक या गंगा एक्‍सप्रेस हो इससे यूपी के विकास को बुलंदी मिलेगी। इन पर गाड़‍ियां ही नहीं इनके इर्द गिर्द आत्‍मनिर्भर भारत के लिए औद्योगिक इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर भी बढ़ेंगे। कृषि आधारित उद्याेगोंं की भूमिका भी बढ़ेगी। मंडियों को समृद्ध और विकल्‍प देना सरकार की प्राथमिकता है। कृषि से जुड़े कारोबार को लेकर काम लगातार चल रहा है। वाराणसी पूर्वांचल पेरिशेबल कार्गो सेंटर, राइस सेंटर, पैकेजिंग सब किसानों को लाभ मिल रहा है। बनारसी लंगड़ा यूरोप से खाड़ी तक मिठास फैला रहा है। क्षेत्र को एग्रो हब बनने में मदद मिलेगी। काशी में फल सब्‍जी निर्यात से सभी को लाभ मिलेगा।

9- यूपी सरकार को दिया क्र‍ेडिट : पीएम ने कहा कि यूपी सरकार की निष्‍ठा का प्रमाण है। ऐसा नहीं है कि 2017 से पहले यूपी के लिए योजनाएं नहीं थीं। 2014 में सेवा करने का मौका मिला तक भी दिल्‍ली से इतने ही प्रयास होते थे। तब लखनऊ में उनमें रोड़ा लग जाता था। आज योगी जी खूब मेहनत कर रहे हैं। काशी के लोग देखते हैं कि योगी जी खूब ऊर्जा लगाकर कामों को गति देते हैं। हर जिले में सीएम जाते हैं। यही वजह है कि यूपी में बदलाव के यह प्रयास आज आधुनिक यूपी बनाने में तेजी से आगे बढ़ रहे हैं।

10- कानून व्‍यवस्‍था पर जोर : यूपी में माफ‍िया और आतंकवाद पर अब कानून का शिकंजा है। बहन बेटियों की सुरक्षा को लेकर मां बाप चिंता में थे वह हालात बदल गया है। बहन बेटियों पर आंख उठाने वाले कानून से बच नहीं पा रहे हैं। यूपी में सरकार आज भ्रष्‍टाचार और भाई भतीजावाद से नहीं विकास वाद से चल रहा है। आज यूपी में जनता की योजना का लाभ जनता से मिल रहा है। कानून में सुधार से आज यूपी में नए उद्याेगों का निवेश हो रहा है। विकास प्रगति की यात्रा में यूपी का जन जन की भागीदारी शामिल है। 

नई दिल्ली। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि नई पीढ़ी का कौशल विकास एक राष्ट्रीय आवश्यकता है और आत्मानिर्भर भारत के लिए एक प्रमुख आधार भी है। विश्व युवा कौशल दिवस के अवसर पर बोलते हुए, पीएम मोदी ने कहा कि कोविड-19 महामारी से दुनिया के सामने आई चुनौतियों ने विश्व युवा कौशल दिवस के महत्व को बढ़ा दिया है।पीएम मोदी ने कहा कि यह दूसरी बार है जब हम इस दिन को कोरोना महामारी के बीच मना रहे हैं। कौशल हमें सिखाता है कि कैसे हम काम को उसके वास्तविक रूप में कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि दुनिया के लिए एक स्मार्ट और कुशल मानव शक्ति समाधान भारत दे सके, ये हमारे नौजवानों की कौशल रणनीति के मूल में होना चाहिए। इसको देखते हुए ग्लोबल स्किल गैप की मैपिंग जो की जा रही है, वो प्रशंसनीय कदम है।प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत अब तक 1.25 करोड़ से अधिक युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा चुका है। उन्होंने जोर देकर कहा कि कौशल हासिल करना लोगों और देश दोनों के लिए जरूरी है, इस बात पर जोर देते हुए कि केवल कौशल वाले लोगों के पास ही विकास की गुंजाइश है।एम मोदी ने कहा नई पीढ़ी के युवाओं का स्किल डवलपमेंट, एक राष्ट्रीय जरूरत है, आत्मनिर्भर भारत का बहुत बड़ा आधार है। बीते 6 वर्षों में जो आधार बना, जो नए संस्थान बने, उसकी पूरी ताकत जोड़कर हमें नए सिरे से स्किल इंडिया मिशन को गति देनी है। हमारे पूर्वजों ने स्किल्स को महत्व देने के साथ ही उसे समाज के उल्लास का हिस्सा बनाया। हम विजयादशमी को शस्त्र पूजन करते हैं, अक्षय तृतीया को किसान फसल की कृषि यंत्रों की पूजा करते हैं। भगवान विश्वकर्मा की पूजा तो हर शिल्प से जुड़े लोगों के लिए बहुत बड़ा पर्व रहा है।

चंडीग। पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष को लेकर स्थिति करीब-करीब साफ हो गई है। पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने संकेत दिया है कि नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष हो सकते हैं।  रावत ने बताया कि पंजाब कांग्रेस को लेकर फार्मूला निकाल लिया गया है। मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू मिलकर पार्टी के लिए कार्य करेंगे। कैप्‍टन अमरिंदर के नेतृत्‍व में ही कांग्रेस अगला पंजाब विधानसभा चुनाव लड़ेगी।बता दें कि कई दिनों से चर्चाएं थीं कि कांग्रेस हाईकमान ने नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब इकाई का अध्‍यक्ष बनाने का फैसला कर लिया है। इसके बाद कयास लगाए जा रहे थे कि दो- तीन दिनों में इस बारे में घोषणा हो सकती है। इसके बाद आज सुबह से भी चर्चा भी कि आज ही इस बारे में घोषणा हो सकती है।रीश रावत ने कहा कि पंजाब में मूख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू मिलकर काम करेंगे। कांग्रेस अगले साल होेने वाला पंजाब विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election 2022) मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्‍व में ही लड़ेेगी। कैप्‍टन पंजाब में करीब साढ़े चार साल से हमारे मुख्‍यमंत्री हैं और हम चुनाव में उनके नेतृत्‍व में ही उतरेंगे।हरीश रावत ने कहा कि पंजाब कांग्रेस को लेकर एक फार्मूला तैयार कर लिया गया है। यदि नवजाेत सिंह सिद्धू पंजाब कांग्रेस के अध्‍यक्ष बनते हैं तो हमने दो कार्यकारी अध्‍यक्ष का फार्मूला भी तैयार किया है। पंजाब में पार्टी में सारा विवाद अब समाप्‍त हो जाएगा और सभी मिलकर 2022 के विधानसभा चुनाव में उतरेंगे।बता दें कि पंजाब कांग्रेस में कलह के बाद आलाकमान पार्टी में विवाद समाप्‍त कराने के लिए फार्मूला तैयार करने में जुटा था। इसको लेकर कैप्‍टन अमरिंदर सिंह, नवजोत सिंह सिद्धू, प्रताप सिंह बाजवा सहित राज्‍य के सांसदों , विधायकों और मंत्रियों के साथ कांग्रेस की तीन सदस्‍यीय कमेटी ने चर्चा की। इसके बाद नवजोत सिंह सिद्धू की कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा से भी मुलाकात हुई। मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह की कांग्रेस की कार्यवाहक राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष सो‍निया गांधी के साथ बैठक हुई।ताया जाता है कि पूरे मामले में फार्मूले पर मोहर राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर की राहुल गांधी के साथ बैठक के बाद लगी। प्रशांत किशोर पंजाब के सीएम कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के करीबी माने जाते हैं और उनके मुख्‍य राजनीतिक सलाहकार भी हैं। प्रशांत किशोर को पंजाब सरकार ने कैबिनेट रैंक दे रखा है। बताया जाता है कि पंजाब कांग्रेस अध्‍यक्ष के लिए नवजोत सिद्धू के नाम पर सहमति के लिए कैप्‍टन को  प्रशांत किशोर ने ही मनाया। प्रशांत किशाेर 2017 के विधानसभा चुनाव में कैप्‍टन अमरिंदर सिंह के मुख्‍य रणनीतिकार थे।

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने आज रक्षा अनुसंधान व विकास संस्थान (DRDO) की उपलब्धियों के बारे में बताया। रक्षा मंत्री ने कहा, 'DRDO ने पिछले कुछ समय में काफी काम किया है। इस संगठन ने सैन्य उपयोग में आने वाले रोबोट, 'NETRA' जैसे एप्लीकेशन, Chest एक्स रे से कोविड का पता लगाने वाले 'Atman AI' जैसे उपकरण विकसित किए हैं।'रक्षा मंत्री ने बताया, 'आज दुनिया तेजी से विज्ञान व तकनीक के क्षेत्र में आगे बढ़ रही है। हर क्षेत्र में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (AI) का उपयोग हो रहा है। रक्षा मंत्रालय इसमें कई स्तरों पर आगे रहा है। Public Grievances के संदर्भ में हम आज इस एप्लीकेशन की शुरुआत कर रहे हैं।' रक्षा मंत्री ने बताया कि इसलिए इसे राष्ट्र के सम्यक विकास के लिए स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, कौशल, निर्माण व रिटेल जैसे क्षेत्रों भी AI की संभावनाएं तलाशनी चाहिए। इसके लिए तकनीकी अध्ययन का संचालन होना चाहिए।उल्लेखनीय है कि रक्षा मंत्री ने रक्षा विभाग, प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग और IIT कानपुर के संयुक्त प्रयासों से निर्मित आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित शिकायत विश्लेषण आवेदन का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने बताया, 'ये महत्वपूर्ण पहल है जिसमें वैज्ञानिक ज्ञान, टेक्नोलॉजी से हम सिटीजन सेंट्रिक रिफॉर्म्स की ओर आगे बढ़ रहे हैं। जब कोई कर्मचारी शिकायत सेल में अपनी कोई शिकायत दर्ज करा रहा होता है तो उस समय उसकी उम्मीद एक शिकायत तक ही नहीं बल्कि उसके लोकतांत्रिक अधिकार से जुड़ जाती है।'

नई दिल्‍ली। चीन से चल रहे भारत के तनाव के बीच ड्रैगन फिर से वास्‍तविक नियंत्रण रेखा के करीब अपनी सेना के लिए स्‍थायी ढांचा बना रहा है। इस तरह के ढांचे के बन जाने से चीन की सेना भारत के साथ विवादित इलाके में कुछ ही देर में पहुंच सकती है। सरकार के वरिष्‍ठ सूत्रों के हवाले से एएनआई ने बताया है कि इस तरह का एक कैंप चीन की सीमा में अंदर और नाकुला लेक के ठीक पीछे बना है। ये इलाका उत्‍तरी सिक्किम में आता है, जो यहां से कुछ ही मिनट की दूरी पर स्थित है। ये वही जगह है जहांपर पिछले वर्ष चीन और भारत की सेना आमने सामने आ गई थी और दोनों के बीच काफी हिंसक झड़प भी हुई थी। इस वर्ष जनवरी में भी दोनों सेनाएं आमने सामने आ गई थीं।सूत्रों ने समाचार एजेंसी को बताया है कि इस तरह का ढांचा बन जाने के बाद चीन अपनी सेना के जवानों को फ्रंटलाइन एरिया में सीमा के बेहद नजदीक तैनात कर सकता है। सूत्र की मानें तो यहां पर सड़कों की बेहतर स्थिति की वजह से किसी भी इमरजेंसी की स्थिति में चीन की सेना के जवान यहां पर भारतीय जवानों से बेहद कम समय में पहुंच सकते हैं। इतना ही नहीं सीमा के निकट बन रहे इस स्‍थायी ढांचे की वजह से चीन के सैनिक सर्दियों के मौसम में भी बचे रह सकते हैं और ये उनके लिए काफी आरामदायक भी हैं। इसकी वजह से पूर्वी लद्दाख में चीन के जवानों को बढ़त मिल सकती है।आपको बता दें कि सर्दियों में यहां पर तैनात करीब 90 फीसद जवानों को दूसरी जगहों पर भेज दिया जाता है और दूसरे जवानों की यहां पर तैनाती की जाती है। इस स्‍थायी ढांचे के बन जाने से चीन के सैनिक यहां पर लंबे समय तक बने रह सकते हैं। गौरतलब है कि भारत और चीन के जवानों केी पेंगोंग लेक के इलाके में कई बार तीखी बहस हो चुकी है। कई बार भारतीय जवानों ने उनको चीन की सीमा में खदेड़ा हे।

Page 4 of 568

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">