नई दिल्ली - केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक आलोक वर्मा ने जांच एजेंसी के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना की ओर से अपने खिलाफ लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोप की हो रही छानबीन के सिलसिले में शुक्रवार को मुख्य सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) के.वी.चौधरी से मुलाकात की। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।
उन्होंने बताया कि वर्मा सीवीसी चौधरी की अध्यक्षता वाली समिति के समक्ष पेश हुए। इस समिति में सतर्कता आयुक्त शरद कुमार और टी.एम. भसीन सहित अन्य सदस्य शामिल हैं। हालांकि, इस बारे में अन्य कोई जानकारी नहीं दी गई।
उच्चतम न्यायालय ने 26 अक्टूबर को केंद्रीय सतर्कता आयोग से कहा था कि वह अस्थाना की ओर से वर्मा के खिलाफ लगाए गए आरोपों की जांच दो हफ्ते के भीतर पूरी करे। वर्मा और अस्थाना को केंद्र सरकार छुट्टी पर भेज चुकी है।सीबीआई निदेशक वर्मा ने बृहस्पतिवार को भी जांच के सिलसिले में चौधरी और कुमार से मुलाकात की थी।
आलोक वर्मा ने किया आरोपों से इनकार
केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक आलोक वर्मा ने केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (सीबीसी) के.वी. चौधरी से मुलाकात की। माना जा रहा है कि उन्होंने जांच एजेंसी के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना द्वारा उन पर लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों से इनकार किया है।
अधिकारियों ने बताया कि वर्मा दोपहर एक बजे केंद्रीय सतर्कता आयोग के कार्यालय पहुंचे और उन्होंने चौधरी और सतर्कता आयुक्त शरद कुमार से मुलाकात की। अधिकारियों ने कोई अन्य जानकारी नहीं दी। अधिकारियों ने कहा कि अस्थाना ने भी चौधरी और कुमार से मुलाकात की।
2 हफ्ते के भीतर जांच पूरी करे सीवीसी- सुप्रीम कोर्ट
उच्चतम न्यायालय ने 26 अक्तूबर को केंद्रीय सतर्कता आयोग से अस्थाना द्वारा वर्मा पर लगाए गए आरोपों की जांच दो सप्ताह के भीतर करने को कहा था। वर्मा और अस्थाना को केंद्र सरकार ने छुट्टी पर भेजा हुआ है।
उन्होंने कहा कि आयोग ने हाल में महत्वपूर्ण मामलों की जांच कर रहे सीबीआई के कुछ अधिकारियों से पूछताछ की थी। इन अधिकारियों के नाम सीबीआई प्रमुख वर्मा के खिलाफ भ्रष्टचार की अस्थाना की शिकायत में सामने आए थे। अधिकारियों ने कहा कि निरीक्षक से पुलिस अधीक्षक रैंक के सीबीआई अधिकारियों को बुलाया गया और एक वरिष्ठ सीवीसी अधिकारी के सामने उनका बयान दर्ज किया गया। जिन अधिकारियों के बयान दर्ज किए गए उनमें मोइन कुरैशी रिश्वत मामला, पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव से जुड़े आईआरसीटीसी घोटाला, मवेशी तस्करी मामला संभालने वाले अधिकारी भी शामिल हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें