जिस नहर को बचपन से ही बनते देखा। रोजाना एक से दो घंटे का समय जिस नहर के पानी के बीच खेल-खेल में गुजरता था, उसकी धार, लहर और गहराई को वह बखूबी जानती थी। वही नहर जब एकएक कर लोगों को लील रही थी तो 10 साल की शिवरानी लोनिया उसमें कूद पड़ी। पानी के बहाव से लड़-झगड़कर डूबते लोगों को वापस छीन लाई। मलाल केवल इस बात का है कि यदि थोड़ा और वक्त मिल जाता तो औरों की जिंदगी बचा लेते।मंगलवार सुबह का वक्त था आसमान में बादल छाए हुए थे बीच-बीच में हल्की बूंदाबांदी भी हो रही थी। शिवरानी ब्रश करके घर के बाहर कुर्सी में बैठी हुई थी। एक यात्री बस भरी हुई उसके आंखों के सामने से गुजरी। वह बस को देखती रही जैसे उसे कोई अंदेशा हो रहा हो। घर से करीब तीन सौ मीटर दूर सामने से आ रहे वाहन को साइड देने के दौरान पिछला पहिया फिसल गया और बस नहर में सामाने लगी। देखते ही शिवारानी दौड़कर पहुंची और बीच नहर में कूद गई। पानी का तेज बहाव था। लड़कियां, महिला और पुरुष मिलाकर 8 लोग पानी में बह रहे थे। 30 सेकंड से लेकर 1 मिनट के भीतर वह एक-एक कर डूबते लोगों का हाथ पकड़कर किनारे लगाने लगी। करीब आठ से दस मिनट के भीतर इन लोगों को नहर के किनारे खड़ा कर दिया।

घर में सब से पढ़ी-लिखी हैं शिवरानी: शिवरानी अपने परिवार में सबसे ज्यादा पढ़ी लिखी हैं। सरदार पटेल स्कूल में कक्षा बारहवीं की छात्रा है। बचपन से ही पढ़ाई में रुचि रही है। उसने हाई स्कूल तक की पढ़ाई पिपराव में किया है। बता दें कि शिवरानी चार भाई चार बहन है। बाकी के भाई बहन सातवीं आठवीं तक पढ़े लिखे हैं। शिवरानी के पिता राम नरेश लोनिया निजी कंपनी में मामूली नौकरी करते हैं। मां श्यामवती गृहिणी हैं।
 

बनना चाहती है पुलिस अधिकारी: शिवरानी ने कहा की वह पढ़ लिखकर पुलिस अधिकारी बनना चाहती है। गांव में आम लोगों की परेशानी, जरूरतें और मदद करने का जज्बा ही उसे इस सपने को पूरा करने की प्रेरणा देता रहता है।

पहले भी कर चुकी है मदद: नहर के किनारे शिवरानी का घर बना है वह आए दिन नहर में गिरने वालों की मदद करती रहती हैं। वह बताती हैं कि करीब तीन महीने पहले दोपहर एक बजे की घटना है। एक 23 वर्षीय युवक अपनी साइकिल से फैक्ट्री में ड्यूटी करने जा रहा था। साइकिल में ब्रेक की दिक्कत थी जिससे वह साइकिल समेत नहर में गिर गया। इस पूरे घटना को शिवरानी देख रही थी जैसे ही उसने साइकिल गिरते देखा वह दौड़ कर छलांग लगा दी जिससे उस युवक की जान बच गई।

बेजुबानों के बचाती रही है जान: मानवता के लिए शिवरानी एक मिसाल हैं। नहर के दोनों हिस्सों में कई गांव बसे हुए हैं। इस रास्ते से मवेशियों का आना जाना आए दिन बना रहता है। वे बताती हैं कि कई बार ऐसा हुआ है कि गाय, बकरी सहित अन्य पालतू पशु नहर में पानी पीने के लिए या फिर किसी अन्य कारण से गिर जाते थे। मैंने कईयों को डूबने से बचाया है।

नहीं भूलती है घटना: शिवरानी कहती हैं कि एक पल के लिए हादसा नहीं भूलता। मलाल रह गया कि थोड़ा वक्त मिलता तो और लोगों की भी जान बचा सकती थी

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें