Editor

Editor

नई दिल्‍ली। पीएम मोदी ने आज गुजरात में आयोजित निवेशकों के सम्‍मेलन को वर्चुअल तौर पर संबोधित किया। इस मौके पर उन्‍होंने केंद्र सरकार की स्‍क्रैप नीति को देश के विकास में अहम बताया है। पीएम मोदी ने इस सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि देश में आज नेशनल आटोमोबाइल स्‍क्रैपिंग नीति लान्‍च हो रही है, जो देश के आटोमोबाइल सेक्टर को एक नई पहचान देगी। खराब और प्रदूषण फैलाने वाले व्‍हीकल्‍स को वैज्ञानिक तरीके से सड़क से हटाने में ये नीति अहम भूमिका निभाएगी।

आने वाले 25 वर्ष काफी अहम;-उन्‍होंने कहा कि मोबिलिटी का देश के विकास में अहम योगदान है। 21वीं सदी का भारत कन्वेनिएंट और क्‍लीन लक्ष्‍य को लेकर चले, ये समय की मांग है। ये नीति तेज विकास के सरकार के कमिटमेंट को दर्शाती है। ये देश की आत्‍मनिर्भरता को भी आगे बढ़ेगी। उन्‍होंंने कहा कि आने वाले 25 वर्ष देश के लिए बेहद अहम हैं। आज मौजूद संपदा हमें धरती से मिल रही है, वो भविष्‍य में कम हो जाएगी और इसलिए भारत डीप ओशियन की नई संभावनाओं को तलाशने में लगा है। क्‍लाइमेट चेंज को हर कोई अनुभव कर रहा है। इसलिए देश को बड़े कदम उठाने भी जरूरी हैं। बीते वर्षों में ऊर्जा के सेक्‍टर में काफी तरक्‍की की है।  

वेस्‍ट टू वेल्‍थ की तरफ है नई स्‍क्रैप नीति :-पीएम ने नई स्‍क्रैप नीति को वेस्‍ट टू वेल्‍थ की दिशा में एक अहम कदम बताया है। उन्‍होंंने कहा कि इससे न सिर्फ रोजगार मिलेगा, बल्कि देश की अर्थव्‍यवस्‍था को भी तेजी मिलेगी। उन्‍होंंने बताया कि ये नीति हमारे जीवन से जुड़ी हुई है। पुरानी गाड़ियों की वजह से होने वाले हादसों को इस नीति के तहत रोका जा सकेगा। जिसके पास स्‍क्रैप सर्टिफिकेट होगा उसको रजिस्‍ट्रेशन के नाम पर दिया जाने वाला पैसा नई गाड़ी की खरीद पर नहीं लगेगा। साथ ही नई गाड़ी खरीदने वालों को कई दूसरी तरह की छूट भी मिलेंगी।   

अलंग को विश्‍व में नए रूप में पेश करना होगा  ;-अलंग का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि छोटे कारोबारियों को इस नई नीति से काफी फायदा होगा। स्‍थानीय इंडस्‍ट्री को भी इसका पूरा फायदा होगा। साइंटिफिक स्‍क्रैपिंग से देश के पास में रेयर मेटल का भंडार बढ़ेगा। सरकार की पूरी कोशिश है कि आटो इंडस्‍ट्री को कम से कम चीजों को बाहर से मंगवाने की जरूरत हो। इसके लिए इस इंडस्‍ट्री को भी कुछ और आगे बढ़कर उपाय करने होंगे। इसलिए पुराने प्रॉसेस को बदलना ही होगा। सरकार इसके लिए हर संभव मदद को तैयार है। हम ग्‍लोबल स्‍टैंडर्ड वाले व्‍हीकल्‍स अपने लोगों को देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। सर्कुलर इकोनॉमी भारत के लिए कोई नया शब्‍द नहीं है। अब इसको वैज्ञानिक तरीके से करना है। 

व्‍हीकल्‍स स्‍क्रैपिंग इन्फ्रास्‍ट्रक्‍चर तैयार करना होगा :-इससे पहले पीएम मोदी ने अपने ट्वीट कर कहा कि ये नीति अनफिट और प्रदूषण फैलाने वाली गाड़ियों को सड़क से हटाने में सहायक होगी। ये पूरी तरह से पयार्वरण के हित को देखते हुए बनाई गई है। इस सम्‍मेलन का सबसे बड़ा मकसद व्‍हीकल स्‍क्रैपिंग इन्फ्रास्‍ट्रक्‍चर तैयार करना है। ये भविष्‍य में बेहतर पर्यावरण के लिहाज से बेहद जरूरी है। बता दें कि इस सम्‍मेलन का मकसद केंद्र सरकार की नई स्‍क्रैपिंग नीति में निवेश को बढ़ाना है। इस मौके पर गुजरात के मुख्‍यमंत्री विजय रुपाणी के साथ केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी शामिल थे।

अमृतसर। अमृतसर के सबसे पॉश इलाकों में शामिल रंजीत एवेन्यू मेंं शुक्रवार सुबह एक हैंड ग्रेनेड बरामद हुआ है। हैंड ग्रेनेड मिलने की सूचना के बाद इलाके में दहशत फैल गई। मौके पर पुलिस पहुंच चुकी है। बम निरोधक दस्ता भी पहुंचा है, जो हैंड ग्रेनेड की जांच कर रहा है। अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि यह किसी की शरारत है या इसके पीछे आतंकियों का हाथ है। बता दें, स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर पुलिस अतिरिक्त सावधानी बरत रही है।बता दें, यह हैंड ग्रेनेड सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के अमृतसर दौरे से 24 घंटे पहले बरामद हुआ है। हैंड ग्रेनेड के मिलने से सुरक्षा बल व पुलिस सतर्क हो गई है। सूचना मिलते ही पुलिस कमिश्नर डा.  सुखचैन सिंह गिल, डीसीपी परमिंदर  सिंह भंडाल और डीपीसी मुखविंदर सिंह बड़ी संख्या में पुलिस बल के साथ मौके पर पहुुंच गए। बम हरे रंग का है और ज्यादा पुराना नहीं है। उसकी पिन निकली हुई है। पुलिस अधिकारियों ने बम निरोधक दस्ता मंगवाकर बम को सुरक्षित तरीके से कब्जे में लिया।पुलिस कमिश्रनर ने बताया कि किसी सुरक्षित स्थान पर जाकर बम को डिफ्यूज करवाया जाएगा। इसके बाद एक्सपर्ट से रिपोर्ट  ली जाएगी कि बम कितना पुराना है। जांच में सामने आया कि जिस गली से बम मिला वहां कभी सेना के रिटायर्ड कर्नल रहा करते थे। बताया जा रहा है कि शुक्रवार सुबह नगर निगम के कर्मी रंजीत एवेन्यू में सफाई अभियान चला रहे थे। इसी दौरान उन्होंने हैंड ग्रेनेड देखा। उन्होंने इसकी सूचना अपने अफसरों को दी, जिन्होंने पुलिस को सूचना दी। बता दें, अमृतसर पाकिस्तान सीमा से सटे क्षेत्र में कुछ दिन पूर्व ग्रेनेड के साथ आरडीएक्स टिफिन बम बरामद हुआ था। शनिवार और रविवार की रात को फेंके गए इस बम में दो से तीन किलो आरडीएक्स था, जबकि इसके साथ ही पुलिस ने पांच ग्रनेड और नौ एमएम के एक सौ से ज्यादा कारतूस भी बरामद किए हैं। यहां आरडीएक्स टिफिन बम के अलावा तीन डेटोनेटर भी बरामद हुए थे। बम को सोमवार सुबह एनआइए व एनएसडी कमांडो की देखरेख में डिफ्यूज किया गया।

नई दिल्ली। महिलाओं के बीच कोरोना रोधी वैक्सीनेशन के आंकड़ों में कमी वाली मीडिया रिपोर्ट पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने शुक्रवार को संज्ञान लिया। आयोग की ओर से राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को पत्र भेजा गया। इसमें कहा गया है कि वैक्सीनेशन में जेंडर के फासले को खत्म करने के उपाय किए जाएंगे।देशभर में जारी कोरोना वैक्सीनेशन के तहत महिला और पुरुष वर्ग में दिए गए डोज के बीच अंतर का जिक्र करते हुए NCW ने अपने पत्र में लिखा है कि यह सुनिश्चित किया जाए कि वैक्सीनेशन अभियान में महिलाएं पीछे न छूट जाएं। NCW ने कहा, 'वैक्सीनेशन में महिला व पुरुषों के बीच अंतर चिंता का विषय है इसलिए अध्यक्ष रेखा शर्मा ने सभी राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों को लिखकर कहा है कि इस फासले को खत्म किया जाए ताकि महिलाएं इसमें पीछे न रहें।'आयोग ने पत्र में यह भी लिखा कि कई परिवार ऐसे हैं जहां यदि महिलाएं घर से बाहर नहीं निकलतीं तब पुरुषों की तुलना में उनके स्वास्थ्य को कम प्राथमिकता दी जाती है। लेकिन घर में सबका ध्यान रखने वाली महिलाओं पर संक्रमण का खतरा अधिक है और इसलिए ही उन्हें सबसे पहले वैक्सीन की खुराक दिया जाना जरूरी है। सरकार के आंकड़ों के अनुसार अब तक 27,86,40,043 पुरुष और 24,75,03,625 महिलाओं को कोरोना वैक्सीन की खुराक मिल चुकी है।केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए देश भर में जारी कोरोना वैक्सीनेशन के तहत अब तक 52,95,82,956 डोज लगाई जा चुकी है जिसमें से 57,31,574 डोज पिछले 24 घंटों में लगाई गईं। मंत्रालय ने बताया कि केंद्र ने अब तक राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को वैक्सीन की 55.01 करोड़ से अधिक डोज उपलब्ध कराई है। राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों और निजी अस्पतालों के पास अभी वैक्सीन की 2.82 करोड़ से अधिक डोज इस्तेमाल के लिए शेष हैं।मंत्रालय की ओर से आज सुबह जारी डाटा के अनुसार देश में अब तक कुल पॉजिटिव केस की संख्या 3,21,17,826 हो गई और 4,30, 254 संक्रमितों की मौत हुई है। वहीं संक्रमण से अब तक 3,13,02,345 लोग ठीक हो चुके हैं।

श्रीनजर: कश्मीर घाटी में आतंकवादियों ने एक बार फिर सुरक्षाबलों को निशाना बनाने का प्रयास किया है। इस बार यह हमला सोपोर में किया गया। सोपोर बाजार में स्थित एसबीआई बैंक की ब्रांच के बाहर खड़े सीआरपीएफ जवानों को निशाना बनाते हुए आतंकवादियों ने ग्रेनेड दागा परंतु यह ग्रेनेड निशाने पर जा जाकर दूसरी तरफ जाकर फटा। इस हमले में किसी के भी हताहत होने की जानकारी नहीं है।अलबत्ता सीआरपीएफ का एक जवान और एक नागरिक के घायल होने की सूचना है। हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं की गई है।ग्रेनेड विस्फोट के बाद इलाके में फैली अफरातफरी के बीच मौका पाकर आतंकी घटना स्थल से फरार हो गए। हालांकि सुरक्षाबलों ने हमलावरों की तलाश में इलाके में सर्च आपरेशन शुरू किया है। आसपास के इलाके की घेराबंदी भी की जा रही है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार यह हमला आज दोपहर को किया गया। सोपोर मुख्य बाजार में एसबीआई बैंक के बाहर सुरक्षा में तैनात बीएसएफ 179 बटालियन के जवानों के कैंप पर यह ग्रेनेड दागा गया था। गनिमत यह रही कि यह ग्रेनेड निशाने पर न लगकर दूसरी ओर गिर ओर फट गया।ग्रेनेड के सीधे चपेट में तो कई नहीं आया, लेकिन एक सीआरपीएफ जवान सहित दो लोग जख्मी हुए हैं। अलबत्ता विस्फोट की आवाज सुनकर बाजार में अफरा-तफरी का माहौल व्याप्त हो गया। लोग अपनी जान बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगे। इस भगदड़ में हमलावर वहां से बच निकलने में सफल रहे। हमले की सूचना मिलते ही एसओजी, सेना और सीआरपीएफ का दल मौके पर पहुंच गया। जिस ओर से आतंकियों ने हमला किया था, जवानों ने उसी तरफ सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया। फिलहाल आतंकियों की तलाश जारी है।स्वतंत्रता दिवस पर जम्मू-कश्मीर मेंं आतंकी हमलों की साजिश रच रहे आतंकियों ने पिछले एक सप्ताह के दौरान एक दम से हमलों में ेतेजी लाई है। श्रीनगर के अलावा जम्मू में भी आतंकी हमले किए जा रहे हैं। कश्मीर घाटी की बात करें तो पिछले चार दिनों से लगातार आतंकी सुरक्षाबलों को निशाना बना रहे हैं। गत वीरवार शाम को कुलगाम में आतंकियों ने सीआरपीएफ के गश्ती दल को निशाना बनाने का प्रयास किया। परंतु सतर्क जवानों ने हमले के तुरंत बाद ही आतंकियों को घेर दिया। आज सुबह मुठभेड़ में एक विदेशी आतंकी को मार गराया गया जबकि दूसरा भागने में सफल रही।राजौरी में भी गत वीरवार को ही भाजपा नेता के घर आतंकियों ने ग्रेनेड हमला किया था। इस हमले में तीन वर्षीय बच्चे की मौत हो गई जबकि भाजपा नेता समेत उनके परिवार के छह सदस्य गंभीर रूप से घायल हो गए।

चेन्नई। तमिलनाडु सरकार ने आम आदमी को राहत देते हुए पेट्रोल के दाम घटाने का एलान किया है। राज्य सरकार ने पेट्रोल के दाम तीन रुपये घटा दिए हैं। वित्त मंत्री पलानीवेल थियागा राजन ने विधानसभा में 2021-22 का संशोधित बजट पेश किया। सरकार ने स्टेट एक्साइज ड्यूटी में कटौती करते हुए पेट्रोल के दाम में तीन रुपये प्रति लीटर की कमी की है। इस फैसले से राज्य सरकार को इस साल 1,160 करोड़ रुपये का नुकसान होगा।वित्त मंत्री ने कहा, 'मुझे सदन को यह बताते हुए खुशी हो रही है कि इस सरकार ने पेट्रोल पर कर की प्रभावी दर 3 रुपये प्रति लीटर कम करने का फैसला किया है और इस तरह राज्य में मेहनतकश मजदूर वर्ग के लोगों को बड़ी राहत प्रदान की है। इस उपाय के परिणामस्वरूप राजस्व को इस साल 1,160 करोड़ रुपये का नुकसान होगा।'बता दें कि यह मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के नेतृत्व वाली द्रविड़ मुनेत्र कणगम सरकार का पहला बजट था। इसी साल अप्रैल महीने में डीएमके ने बहुमत के साथ सरकार बनाई थी। राज्य की राजधानी चेन्नई में फिलहाल पेट्रोल की कीमत 102.49 रुपये प्रति लीटर है, वहीं डीजल 94.39 रुपये प्रति लीटर है।

 पटना। बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के 15 साल के कार्यकाल पर जनता दल यूनाइटेड (जदयू) लगातार कटाक्ष करता रहा है। इसके उलट विपक्ष भी नीतीश कुमार के शासनकाल को बिहार के लिए सबसे बुरा दौर बता रहा है। गुरुवार को भोजपुर में निगरानी विभाग की टीम ने 20 हजार रुपये घूस लेते हुए सीडीपीओ और सहायिका को गिरफ्तार किया था। इसी मामले को लेकर जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह ने ट्वीट करते हुए लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी पर तंज कसा। इसके साथ ही उन्होंने नीतीश कुमार के कार्यों को बेहतर बताया। ललन सिंह ने निगरानी विभाग की कार्रवाई से संबंधित एक लेटर जारी करते हुए ट्वीट किया कि एक समय था जब बिहार में पति-पत्नी की सरकार थी, अधिकारियों को टारगेट दिया जाता था, उनके माध्यम से जनता से वसूले गए टैक्स के पैसे से अरबों की बेनामी संपत्ति अर्जित की जाती थी। ललन सिंह ने इस दौरान बिहार के मुख्यमंत्री की तारीफ भी की। उन्होंने कहा कि आज नीतीश कुमार का सुशासन है। अब भ्रष्टाचारियों की तो खैर नहीं। 

जानें क्या था मामला:-गौरतलब है कि पटना से आई निगरानी की टीम ने गुरुवार की दोपहर भोजपुर जिले के तरारी के बाल विकास परियोजना कार्यालय की सीडीपीओ मंजू कुमारी को 20 हजार रुपये रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया। निगरानी ने सीडीपीओ के साथ एक महिला दलाल रीता देवी को भी पकड़ा है, जो सहायिका है। आरोप था कि  सीडीपीओ आंगनबाड़ी इमादपुर की आंगनबाड़ी की सेविका नीलम देवी की क्रय पंजी पर हस्ताक्षर के नाम पर महिला दलाल के जरिए रिश्वत ले रही थी। घूसखोरी में गिरफ्तार सीडीपीओ रोहतास जिले के सूर्यपुरा थाना के गोसलडीह गांव की निवासी है। भोजपुर के पहले बक्सर के नावानगर प्रखंड में कार्यरत थी। एक आंगनबाड़ी सेविका के क्रय पंजी पर  पिछले आठ महीने से हस्ताक्षर नहीं हो रहा था, जिसके चलते पोषाहार राशि का आवंटन नहीं हो रहा था। आरोप है कि  सीडीपीओ क्रय पंजी पर हस्ताक्षर करने के एवज में 20  हजार रुपये घूस मांगी थी।

दिल्ली। कर्नाटक में कोविड-19 के मामलों में तेजी से वृद्धि देखी जा रही है। दक्षिण कन्नड़ (डीके), उडुपी और कोडागु में जिले संक्रमण से प्रभावित हो रहे हैं। इस बीच, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कोविड-19 के संबंध में विशेषज्ञों के साथ आपातकालीन बैठक बुलाई है।केरल की सीमा से लगे जिलों में अधिकांश कोविड-19 के मामले देखे जा रहे हैं। दक्षिण कन्नड़ में 475 सबसे अधिक कोविड-19 के मामले दर्ज किए गए हैं। उसके बाद बेंगलुरु में 321 नए मामले सामने आए हैं। मैसूर 116, और उडुपी 191, इसके साथ ही महादेवपुरा क्षेत्र में 49 मामले दर्ज किए गए हैं। वहीं, सूक्ष्म नियंत्रण क्षेत्र (माइक्रो कंटेनमेंट जोन) की संख्या बढ़कर 176 हो गई है।राज्य में कोविड-19 संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। समाचार एजेंसी एएनआइ की रिपोर्ट के अनुसार, 'विशेषज्ञों के सुझाव के अनुसार राज्य सरकार ने स्कूल खोलने का फैसला किया था। अब सीएम ने अपने आधिकारिक दौरे से दक्षिण कन्नड़ लौटने के तुरंत बाद उनके साथ एक आपात बैठक बुलाई है।'मुख्यमंत्री बसवराज एस बोम्मई ने इससे पहले गुरुवार को, सीमावर्ती जिलों के अधिकारियों को COVID-19 महामारी के बढ़ते मामलों की जांच के लिए अतिरिक्त सतर्क रहने को कहा। उन्होंने मंगलुरु के वेनलॉक मैडिसन सरकारी अस्पताल में नई गहन चिकित्सा इकाई का उद्घाटन करने के बाद उन्होंने संवाददाताओं से कहा, 'हमारा उद्देश्य दक्षिण कन्नड़ जिले में सीओवीआईडी -19 को पूरी तरह से नियंत्रित करना है। सीमावर्ती क्षेत्रों में अतिरिक्त एहतियाती कदम उठाने की जरूरत है।' 

नई दिल्‍ली। भारतीय जनता पार्टी ने जम्‍मू कश्‍मीर में उसके नेता पर हुए ग्रेनेड हमले की जमकर आलोचना की है। भाजपा नेता जितेंद्र सिंह ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा है कि जम्‍मू कश्‍मीर के शांतिपूर्ण माहौल को फिर से खराब करने की कोशिश की जा रही है। ऐसी खतरनाक मंशा रखने वाले लोग चाहते हैं कि जम्‍मू कश्‍मीर में आतंकवाद कायम रहे जिससे यहां पर कभी शांति कायम न होने पाए। उन्‍होंने अपने ट्वीट में ये भी कहा है कि ऐसे लोग पिछले तीन दशक के दौरान काफी फले फूले हैं।इस दौरान उन्‍होंने उन राजनीतिक दलों को भी निशाना बनाया है जो राज्‍य की शांति और स्थिरता के लिए समस्‍या पैदा कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा है कि जम्‍मू कश्‍मीर में कुछ लोग केवल अपने राजनीतिक स्‍वार्थ को सिद्ध करना चाहते हैं। इसके अलावा इनमें वो लोग भी शामिल हैं जो इस तरह रातों रात अमीर बनना चाहते हैं, और बन भी गए हैं। ये लोग बाहर से मिले फंड और ताकतों के द्वारा निर्देशित और नियंत्रित होते हैं।आपको बता दें कि स्‍वतंत्रता दिवस के करीब आने से जम्‍मू कश्‍मीर ही नहीं बल्कि पूरे देश में ही आतंकी और इन्‍हें समर्थन देने वाले देश के माहौल को बिगाड़ने की कोशिश में लगे हैं। 15 अगस्‍त को देखते हुए जम्‍मू कश्‍मीर ही नहीं बल्कि पूरे देश में सुरक्षा को और मजबूत किया गया है।गौरतलब है कि दक्षिण कश्मीर के जिला कुलगाम के मालपोरा मीर बाजार में चल रही मुठभेड़ अब खत्‍म हो गई है। इसके बाद सुरक्षाबलों ने जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर यातायात को फिर से बहाल कर दिया है। इस मुठभेड़ में दो आतंकी मारे गए हैं। ये दोनों ही लश्कर-ए-तैयबा संगठन से संबंधित थे। 

हमीरपुर। भारतीय संस्कृति में प्रत्येक पर्व काे मनाने के अलग-अलग तरीके हैं। जैसे सभी त्योहाराें को मनाने के पीछे कोई न कोई इतिहास वैसे ही उसे मनाने के तरीके के पीछे भी कोई रहस्य होता है। यहां हम बात कर रहे हैं बुंदेलखंड के हमीरपुर में होने वाली महिला कुश्ती दंगल की, जहां पुरुषों के प्रवेश पर रोक रहती है। दरअसल, यहां के मुस्करा व आसपास के गावों में रक्षाबंधन के दूसरे दिन कजली का त्योहार बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। वहीं दूसरी ओर लोदीपुर निवादा गांव में महिला दंगल का भी आयोजन किया जाता है। जिसमे गांव की ही महिलाएं अपनी कला का प्रदर्शन करती हैं। 

अपनी संस्कृति के जाना जाता है बुंदेलखंड: मुस्करा विकासखंड क्षेत्र के अधिकांश गांवों मे रक्षाबंधन पर महिलाएं सुंदर परिधान व सिर में कजली का खप्पर रखे हुए मंगलगीत गाते हुए मिल जाएंगी। वह एक समूह में गांव की परिक्रमा करती हैं। जगह-जगह पर बुंदेली लोक संस्कृति के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। कहीं झूलों में झूलती महिलाएं कहीं आल्हा गायन तो कहीं दंगल के आयोजन बुंदेलखंड की संस्कृति को दर्शाता है।

 

महिला दंगल के आयोजन के पीछे यह है वजह: जिले में एक क्षेत्र लोदीपुर निवादा भी है, जहां बीते कई वर्षों से चले आ रहे महिलाओं के दंगल का आयोजन भी रक्षाबंधन के दूसरे दिन किया जाता है। ग्रामीणों से जब इस महिलाओं के दंगल के बाबत जानकारी जुटाई गई तो उन्होंने बताया कि यह दंगल देश की आजादी के पहले से ही लगता आ रहा है। गांव के ही सेवानिवृत्त अध्यापक जगदीशचंद्र जोशी ने बताया कि हमारे बुजुर्गों ने इस दंगल के बारे में प्रचलित कहानी बताते हुए जानकारी दी थी कि अंग्रेजों द्वारा किए जा रहे अत्याचारों का सामना करने व आत्मरक्षा के लिए ही उस समय की महिलाओं द्वारा इस प्रथा की शुरुआत की गई थी। जो निवादा गांव के पुराने बाजार स्थल में लगता है। इस दंगल में गांव की महिलाएं अपने दाव-पेच दिखाती हैं। इस कुश्ती आयोजन के दौरान गांव में पुरुषों का प्रवेश वर्जित रहता है। रक्षाबंधन के दूसरे दिन होने बाले महिला दंगल में दो दर्जन से भी अधिक कुश्तियां खेली जाती हैं। जिसमें महिलाएं खुद ही ढोल बजातीं हैं और सभी का उत्साहवर्धन करतीं हैं।

अहमदाबाद:- गुजरात में पोरबंदर के पास स्थित एक सीमेंट फैक्ट्री की चिमनी में मरम्मत कार्य करने के दौरान छह मजदूर फंस गए। इनमें से तीन को सुरक्षित निकाल लिया गया, लेकिन तीन श्रमिकों की मौत हो गई। इध, मुख्‍यमंत्री विजय रूपाणी ने जिला कलक्‍टर से फोन पर बात कर श्रमिकों को सभी आवश्‍यक मदद करने का निर्देश दिया है। पोरबंदर के पास राणावाव स्थित हाथी सीमेंट फैक्ट्री के चिमनी में गुरुवार को छह मजदूर मरम्मत काम कर रहे थे। इसी दौरान अचानक हुए एक हादसे के कारण मजदूर चिमनी में फंस गए। यह सीमेंट फैक्ट्री बॉलीवुड अभिनेत्री जूही चावला के पति की है। चिमनी में फंसे तीन मजदूरों को सुरक्षित निकाल लिया गया, लेकिन तीन मजदूरों की उसमें मौत की खबर है। घटना की सूचना मिलते ही जिला कलेक्टर पुलिस अधीक्षक घटनास्थल पर पहुंचे तथा फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों को भी राहत व बचाव कार्य के लिए बुलाया गया।गुजरात में फैक्ट्री में कारखानों में आए दिन इस तरह की घटनाएं होती रहती हैं। फैक्ट्रियों व कारखानों में फायर ब्रिगेड तथा अन्य सुरक्षा उपकरणों के अभाव के चलते यहां काम करने वाले गरीब मजदूरों को अपनी जान भी गंवानी पड़ती है। हाल ही में गुजरात उच्च न्यायालय ने राज्य के अस्पताल तथा व्यवसायिक परिसरों में फायर सेफ्टी व सुरक्षा उपकरणों को नहीं अपनाने पर राज्य सरकार को भी आड़े हाथ लिया था। हाई कोर्ट का कहना था कि केवल नियम कानून बनाकर सरकार अपनी इतिश्री कर लेती है, लेकिन जमीन पर कहीं पर भी उसका अमल नहीं हो पाता है। गुजरात में हजारों की संख्या में व्यवसायिक परिसर कारखाना व फैक्ट्रियां फायर सेफ्टी व सुरक्षा उपकरणों के बगैर संचालित की जा रही है। राज्य सरकार ने भी सूरत में एक कोचिंग सेंटर में आगजनी के हादसे के बाद बड़ा सबक लिया। राज्य के महानगरों में अब फायर सेफ्टी के बिना महानगर पालिका की ओर से अनापत्ति प्रमाण पत्र तथा बिल्डिंग यूज प्रमाण पत्र जारी नहीं किया जाता है।इस बीच, मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी इस घटना को गंभीर बताते हुए जिला कलेक्टर पोरबंदर को घायलों के लिए राहत व बचाव के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने सुरक्षा के लिए एनडीआरएफ की दो टीमें भी सीमेंट फैक्ट्री पर भेजने की निर्देश दिए। रूपाणी ने कहा कि इस हादसे से प्रभावित व जख्मी हुए लोगों के सभी तरह की सुविधाएं एवं सहायता मुहैया कराई जाएगी।

Page 1 of 568

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">