Editor

Editor

नई दिल्‍ली। भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्‍या को भारत लाए जाने का रास्‍ता साफ हो गया है। लंदन की कोर्ट ने माल्‍या के प्रत्‍यर्पण को मंजूरी दे दी है। कोर्ट ने कहा कि वह ऊपरी कोर्ट में अपील कर सकता है। माल्‍या को 14 दिन में फैसले के खिलाफ अपील करनी होगी। वहीं सीबीआइ ने लंदन कोर्ट के फैसले का स्वागत किया।फैसला आने से पहले विजय माल्‍या ने वहां मौजूद मीडिया से कहा कि कोर्ट का जो भी फैसला आएगा वह उसे मंजूर होगा। उसने कहा, 'मैंने किसी का पैसा नहीं चुराया, मैं लोन लिया हुआ पैसा चुकाने को तैयार हूं। लोन का प्रत्यर्पण से कोई संबंध नहीं है।'बैंकों की ऋण राशि का भुगतान करने के प्रस्ताव पर विजय माल्या ने कहा कि जैसा कि मैंने कहा कि कर्नाटक उच्च न्यायालय में मामला चल रहा है। इस बारे में उच्च न्यायालय को फैसला तय करने दें। इस सुनवाई के दौरान सीबीआइ के संयुक्त निदेशक और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के दो अधिकारी उपस्थित रहे। धोखाधड़ी और मनी लांड्रिंग के मामले में वांछित माल्या पर भारतीय बैंकों के करीब 9,000 करोड़ रुपये बकाया हैं। ब्रिटेन में पिछले साल अप्रैल में उसकी गिरफ्तारी हुई थी। अभी वह जमानत पर है।माल्या ने मनी लांड्रिंग के आरोपों के बाद देश छोड़ दिया था। वह मार्च, 2016 से लंदन में है। भारत सरकार लगातार उसके प्रत्यर्पण की कोशिश कर रही है। पिछले साल चार दिसंबर को लंदन की मजिस्ट्रेट अदालत में माल्या के खिलाफ सुनवाई शुरू हुई थी।इस मामले में भारत सरकार की ओर से क्राउन प्रोसीक्यूशन सर्विस (सीपीएस) केस देख रही है। सीपीएस के प्रमुख मार्क समर्स का कहना है कि मानवाधिकारों के आधार पर माल्या के प्रत्यर्पण में कोई बाधा नहीं है। वहीं माल्या का बचाव पक्ष यह साबित करने के प्रयास में है कि किंगफिशर एयरलाइंस द्वारा बैंकों से लिया गया पैसा कारोबारी विफलता के कारण डूबा। इसमें बेईमानी या धोखाधड़ी नहीं की गई।
सीबीआइ की तरफ से उपस्थित रहेंगे साई मनोहर:-सोमवार की सुनवाई के लिए सीबीआइ की तरफ से संयुक्त निदेशक एस साई मनोहर उपस्थित रहेंगे। मनोहर विशेष निदेशक राकेश अस्थाना की जगह लेंगे। अब तक माल्या से संबंधित सुनवाई में अस्थाना शामिल होते रहे हैं। फिलहाल निदेशक आलोक वर्मा के साथ चल रही तकरार के मामले में सरकार ने अस्थाना से सभी अधिकार छीनते हुए उन्हें छुट्टी पर भेज दिया है।
जारी रहेगी ईडी की जांच:-इससे पहले, सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को विजय माल्या की वह मांग खारिज कर दी थी, जिसमें उसने ईडी की कार्रवाई पर रोक लगाने की अपील की थी। ईडी ने मुंबई स्थित विशेष अदालत में अर्जी दाखिल कर मांग की है कि माल्या को नए कानून के तहत भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किया जाए। ऐसा होने से ईडी को माल्या की संपत्ति जब्त करने का अधिकार मिल जाएगा। ईडी की इस कार्रवाई पर रोक लगाने के लिए माल्या ने बांबे हाई कोर्ट में याचिका दी थी। पिछले महीने वहां से अर्जी खारिज होने के बाद उसने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी।
कर्ज की पूरी रकम चुकाने को तैयार:-इस बीच, हर ओर से फंदा कसता देख माल्या ने बैंकों का 100 फीसद कर्ज चुकाने का प्रस्ताव दिया है। उसने बुधवार को इस संबंध में ट्वीट किया था। उसने कहा था कि वह बैंकों का पूरा कर्ज चुकाने को तैयार है। उसका दावा है कि वह 2016 से ही कर्ज चुकाने का प्रस्ताव दे रहा है, लेकिन भारत सरकार ने उसके प्रस्ताव का कोई उत्तर नहीं दिया।
सुप्रीमकोर्ट ने कार्यवाही पर रोक लगाने से किया इनकार:-चीफ जस्टिस रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति संजय किशन कौल की पीठ ने विजय माल्या की याचिका पर नोटिस जारी किया लेकिन उसने मुंबई की धन शोधन मामले की रोकथाम संबंधी विशेष अदालत में चल रही कार्यवाही पर रोक लगाने से इंकार कर दिया।
माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करने की मांग:-प्रवर्तन निदेशालय ने विशेष अदालत से लंदन में रह रहे कारोबारी माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम, 2018 के तहत भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करने का अनुरोध किया है। इस कानून के तहत यदि किसी व्यक्ति को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित कर दिया गया तो उस पर मुकदमा चलाने वाली एजेंसी को उसकी संपत्ति जब्त करने का अधिकार होता है।

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर ऊर्जित पटेल ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। पटेल ने निजी कारण बताते हुए अपने पद से इस्तीफा दिया है। उन्होंने कहा, 'निजी कारणों से मैंने अपने पद से तत्काल हटने का फैसला किया है।' उन्होंने कहा, आरबीआई में काम करना मेरे लिए गर्व की बात है।गौरतलब है कि आरबीआई की स्वायत्ता और उसके रिजर्व को सरकार को ट्रांसफर किए जाने समेत अन्य अहम मुद्दों पर सरकार के साथ टकराव चल रहा था। पटेल हाल ही में वित्तीय मामलों पर गठित संसदीय समिति के समक्ष भी पेश हुए थे, जहां उन्होंने नोटबंदी के फैसले पर सावधानी पूर्वक जवाब दिया था।नोटबंदी को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए आरबीआई गवर्नर ने कहा कि इससे अर्थव्यवस्था पर 'क्षणिक' प्रभाव पड़ा। हालांकि उन्होंने आरबीआई एक्ट की धारा 7 को बहाल किए जाने, एनपीए और केंद्रीय बैंक की स्वायत्ता के साथ अन्य विवादित मुद्दों को लेकर स्पष्ट जवाब नहीं दिया।पटेल के इस्तीफे को लेकर सरकार की तरफ से अभी तक किसी तरह की आधिकारिक टिप्पणी नहीं की गई है।

पटना। रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा पीएम मोदी को भेजा है। दिल्ली में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में उपेंद्र कुशवाहा ने इसका आधिकारिक एेलान करते हुए पीएम मोदी पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने बिहार की जनता से किया वादा पूरा नहीं किया।उन्होंने कहा कि सरकार ने सूबे को स्पेशल पैकेज देने का वादा किया था जो छलावा निकला। केंद्र की एनडीए सरकार ने बिहार के विकास के लिए कुछ नहीं किया। सीट शेयरिंग पर उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि कम सीट देकर हमें कमजोर करने की कोशिश की गई। अकेले लड़ने की बात पर उन्होंने कहा कि एनडीए को छोड़कर बाकी सभी विकल्प खुले' हैं।
बिहार में खाता नहीं खोल पाएगी बीजेपी:-अपने पुराने बयान, देश में मोदी से बेहतर विकल्प न होने के सवाल पर उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि अब परिस्थितियां बदल गईं है। लोकसभा चुनाव में बीजेपी का बिहार में सूपड़ा साफ हो जाएगा। भारतीय जनता पार्टी अपना खाता तक नहीं खोल पाएगी।कुशवाहा ने कहा कि सरकार अपने नहीं आरएसएस के एजेंडे पर चल रही है। पिछले विधानसभा चुनाव में आरएसएस प्रमुख के बयान ने परिणाम में नकारात्मक असर डाला। यूनिवर्सटी तक में संघ से जुड़़े लोगों की नियुक्ति की जा रही है।उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार आने के बाद यूनिवर्सटी नहीं डिपार्टमेंट वाइस वैकेंसी निकाली गई। जिससे ओबीसी वर्ग की हकमारी बड़े पैमाने पर हुई। कई मुद्दों पर कोर्ट का हवाला देकर सरकार ने अपना पल्ला झाड़ लिया है। राम मंदिर बनाने से जुड़़े सवाल पर उपेंद्र ने कहा कि इसमें पार्टी का कोई विरोध नहीं है। राजनीतिक दल का काम मंदिर बनाना नहीं है, जनता की सेवा करना है। इसलिए मंदिर बनाने का काम उचित लोगों पर छोड़ दिया जाना चाहिए।इसके पहले, उपेंद्र कुशवाहा ने कैबिनेट मंत्रिमंडल से अपने मंत्रिपद का इस्तीफा पीएम मोदी कार्यालय को भेज दिया है। कहा जा रहा है कि वे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात कर सकते हैं।
बिहार की नीतीश सरकार को उखाड़ फेंकने के संकल्प पर करेंगे काम:-संसद के शीतकालीन सत्र के एक दिन पहले ख़ासकर चार राज्यों के विधानसभा चुनाव के परिणाम का इंतज़ार किए बिना मंत्री पद से इस्तीफ़ा देकर कुशवाहा ने निश्चित रूप से इस बात का संकेत दिया है कि बिहार के विधानसभा चुनावों में वो अब बिहार की नीतीश कुमार की सरकार को सत्ता से बेदखल करने के अपने लक्ष्य पर काम करेंगे।
रालोसपा सांसद ने कहा-जहां इज्जत ना मिले वहां कितने दिन रहते:-रालोसपा सांसद रामकुमार शर्मा ने कहा कि हमारी बहुत बेइज्जती हो चुकी है और हमने एनडीए को बहुत वक्त दिया, लेकिन लगातार हमारा अपमान किया गया। हमारी पार्टी के अध्यक्ष और हमने ये फैसला कर लिया है कि अब एनडीए में नहीं रहेंगे। हमने अपनी पार्टी के अध्यक्ष को अधिकृत किया है कि वो जो फैसला लेंगे वो हमारे लिए सर्वमान्य होगा।
रविवार को ही उपेंद्र कुशवाहा ने कहा था-अब किसी से कोई बात नहीं:-इससे पहले कल ही उपेंद्र कुशवाहा ने कह दिया था कि अब एनडीए में किसी से कोई बात नहीं होगी। कुशवाहा ने रालोसपा के चिंतन शिविर को संबोधित करते हुए बिहार में भी नीतीश कुमार की सरकार पर जोरदार हमला बोला था और एेसी सरकार को उखाड़ फेंकने का संकल्प लिया था। कुशवाहा आज अपने वजूद की लड़ाई लड़ रहे हैं और ऐसी लड़ाई जिसमें उन्हें सिर्फ और सिर्फ फतह चाहिए।इससे पहले नीतीश कुमार बीजेपी पर हमला बोलकर कुशवाहा ने ये बहुत हद तक साफ़ कर दिया था कि उनका एनडीए से मोहभंग हो चुका है। लेकिन,उन्होंने काफी दिनों तक एनडीए में बने रहने का फैसला लिया।सोमवार को दोनों दलों की होने वाली बैठक में सबसे अहम किरदार उपेंद्र कुशवाहा का रहा और उनके फैसले पर सत्ता के साथ-साथ विपक्षी दलों की भी नजर प्रेस वार्ता पर लगी रही, जिसमें उन्होंने अपने राजनैतिक भविष्य को लेकर बात अपनी बात को खुलकर रखा। आज की उनकी प्रेस कांफ्रेंस की सबसे बड़ी बात ये रही कि उनकी पार्टी के सांसद रामकुमार शर्मा भी उस प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद रहे।

पटना। जिन फूलों से मंडप सजना था, उनसे स्निग्धा की रविवार को अर्थी सजी। शनिवार को उसके तिलक की रस्म हुई थी। रविवार को मंडप था और सोमवार को शादी होनी थी। मंडप और घर को सजाने के लिए फूल मंगाए गये थे। शव शास्त्रीनगर थाने के पटेलनगर इलाके के स्नेही पथ स्थित उसके घर चंद्र विला लाया गया।शव को अंतिम यात्रा पर ले जाया जाने लगा तो उसी फूल से उसकी अर्थी को सजाया गया जिससे मंडप सजाया जाने वाला था। जैसे ही फूलों से सजी स्निग्धा की अर्थी घर से निकली मोहल्ले वालों की आंखों से आंसू बहने लगे। घर के लोग और रिश्तेदार फफकने लगे।
तिलक की रात जमकर किया था डांस;-स्निग्धा ने शनिवार को तिलक समारोह पर खूब डांस किया था। नाते-रिश्तेदारों के साथ हंसी-ठिठोली भी की थी। इतना ही नहीं, उसने सहेलियों और परिवार की महिलाओं के साथ बैठकर दोनों हाथों में मेहंदी भी रचवाई थी। उसके व्यवहार में किसी तरह का बदलाव नजर नहीं आया।
घर वालों को बताई थी अपनी पसंद:-डॉ. स्निग्धा सिलीगुड़ी से एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी करने के बाद कोलकाता में एमएस कर रही थी। सूत्रों की मानें तो सिलीगुड़ी में आइआइटियन लड़के से उसकी दोस्ती हो गई थी। दोनों एक-दूसरे को पसंद करते थे और शादी करना चाहते थे, परंतु लड़के के दूसरी बिरादरी से होने के कारण घर वाले राजी नहीं थे।परिवार वालों ने स्निग्धा की शादी किशनगंज के डीएम महेन्द्र कुमार से तय कर दी थी। सुधांशु दरभंगा से रिटायर हुए थे। इसके पहले वे शाहाबाद के डीआइजी थे। इनके बड़े दामाद धर्मेंद्र कुमार भी आइएएस हैं। वह मुजफ्फरपुर के डीएम रह चुके हैं।
मॉर्निंग वाक के बहाने निकल रही थी घर से:-पिछले तीन-चार दिनों से स्निग्धा मॉर्निंग वाक और जिम जाने की बात कहकर घर से गाड़ी लेकर ड्राइवर के साथ निकलती थी। परंतु वह दोनों में से किसी जगह पर नहीं जाती थी। पूछताछ के दौरान वह विभिन्न इलाकों में घूम-घूमकर ऊंची इमारतों को देखती थी। इसके बाद अंदर जाती थी, फिर बाहर चली आती। हालांकि उसने कभी स्निग्धा से कभी कुछ नहीं पूछा और ना ही घरवालों को इस बारे में कुछ बताया।
आखिरी बार ड्राइवर से हुई थी बात:-स्निग्धा के मोबाइल की कॉल डिटेल निकाली गई। उससे पता चला कि उसने आखिर बार ड्राइवर कृष्णा यादव से बात की थी। पूछताछ के दौरान कृष्णा ने बताया कि उन्होंने कॉल कर बुलाया था। उसके आने के बाद स्निग्धा गाड़ी पर बैठकर चली गई।
जांच के लिए भेजा गया सामान;-अपार्टमेंट की छत से बरामद स्निग्धा की एक जोड़ी चप्पल, मोबाइल, चश्मे, स्टूल और कुर्सी को फोरेंसिक जांच के लिए एफएसएल के लैब में भेजा गया। उसपर से पुलिस फिंगर प्रिंट एकत्र करेगी, जिससे पता पाएगा कि घटनास्थल पर स्निग्धा के साथ कोई और व्यक्ति था या नहीं? कार से बरामद दवाइयां और पेन ड्राइव भी एफएसएल की टीम साथ लेकर गई है। शव को पोस्टमॉर्टम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिया गया।
चार दिन पूर्व खरीदी थी स्टूल:-स्निग्धा ने चार दिन पहले बाजार से स्टूल खरीदी थी। पूछने पर उसने घरवालों को बताया कि स्नान करने के वक्त बैठने के लिए वह स्टूल लेकर आई है। परिजनों की मानें तो उन्हें स्निग्धा के दिमाग में चल रही उथल-पुथल के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था कि वह जान देने के लिए स्टूल खरीदकर लाई है।
एसएसपी मनु महाराज ने कहा-मामले की छानबीन की जा रही है। अपार्टमेंट के गार्ड और कार के चालक से पूछताछ की जा रही है। एफएसएल की टीम भी जांच कर रही है। प्रारंभिक जांच में सुसाइड का मामला सामने आ रहा है।- मनु महाराज, एसएसपी

मुंबई। भगोड़ा शराब कारोबारी विजय माल्या लंबे वक्त से इंग्लैंड में रह रहा है। देश के सरकारी बैंकों से नौ हजार करोड़ रुपये का कर्ज लेकर लंदन भागे विजय माल्या के प्रत्यर्पण को मंजूरी मिल गई है। इस सुनवाई के दौरान सीबीआइ के संयुक्त निदेशक और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के दो अधिकारी भी वहां उपस्थित रहे। भारतीय जांच एजेंसियां लंबे वक्त से माल्या को प्रत्यर्पित कराकर स्वदेश वापस लाने की कोशिश कर रही हैं। हालांकि यह इतना आसान भी नहीं है।
क्यों नहीं है माल्या को वापस लाना आसान:-इंग्लैंड की वेस्टमिनिस्टर कोर्ट ने माल्या के खिलाफ फैसला तो सुना दिया है, लेकिन इस भगोड़े शराब कारोबारी का प्रत्यर्पण आसान नहीं होगा। इसमें भी कोई शक नहीं कि फैसला माल्या के खिलाफ है और उसके प्रत्यर्पण मामले में भारत सरकार एक कदम आगे बढ़ गई है। लेकिन सच्चाई यह भी है कि प्रत्यर्पण इतना आसान भी नहीं होगा। यह बात हम इसलिए कर रहे हैं, क्योंकि माल्या के पास अपील का अधिकार होगा। अगर वह ऊपरी अदालत में अपील करते हैं तो एक बार फिर भारत का इंतजार लंबा हो सकता है।
प्रत्यर्पण के लिए ब्रिटिश अदालत की शर्त;-माल्या के प्रत्यर्पण मामले की सुनवाई कर रही वेस्टमिनिस्टर कोर्ट ने भारतीय प्रशासन से आर्थर रोड जेल की बैरक नंबर-12 का तीन हफ्ते के अंदर वीडियो मांगा था, जिसे उपलब्ध करवा दिया गया। माल्या के बचाव पक्ष के वकीलों ने दलील दी थी कि मुंबई की आर्थर रोड जेल की बैरक नंबर-12 के हालात ठीक नहीं हैं, जहां उसे प्रत्यर्पण के बाद रखा जाना है। माल्या के बचाव और अभियोजन पक्ष के वकीलों ने जेल की बैरक नंबर 12 के बारे में अपने-अपने तर्क रखे थे। निचली अदालत ने पिछली सुनवाइयों के दौरान भारतीय बैंकों के 9000 करोड़ रुपये लेकर फरार शराब कारोबारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण के संकेत दिए थे।
भगोड़ों की पहली पसंद है ब्रिटेन:-मानवाधिकारों सहित तमाम लोकतांत्रिक अधिकारों और सहूलियतों के चलते ब्रिटेन दुनियाभर के भगोड़ों की पहली पसंद बना हुआ है। अपराधों में वांछित कई भारतीयों ने भी उसे अपना ठिकाना बनाया हुआ है। ऐसे में माल्या के प्रत्यर्पण के बाद उसके आने की राह भी आसान हो सकती है।बैरक नंबर 12 में फिल्म अभिनेता संजय दत्त, महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री छगन भुजबल, शीना बोरा मर्डर केस के आरोपी पीटर मुखर्जी और 26/11 आतंकी हमले के एक मात्र जिंदा पकड़े गए आतंकी अजमल आमिर कसाब को रखा जा चुका है। फिलहाल यहां पीटर मुखर्जी बंद हैं। लंदन कोर्ट में सरकार की तरफ से दावा किया गया था कि इस सेल में साफ हवा, रोशनी और आंगन की भी व्यवस्था है।
जेल में हैं ये व्यवस्थाएं;-प्राकृतिक हवा और रोशनी पर माल्या के सवाल के जवाब में जेल अधिकारियों ने कहा कि हर सेल में एक खिड़की होती है, वहीं क्रॉस वेटिंलेशन के लिए सामने की दीवार पर सलाखें होती हैं। बैरक 12 में आंगन है, जिससे कैदियों को सूर्य की सीधी रोशनी मिलती है।बैरक नंबर 12 के सभी सेल सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में हैं। यहां सेल के अंदर और बाहर 24 घंटे सुरक्षाकर्मी पहरेदारी करते हैं। बैरक नंबर 12 में अमूमन हाई प्रोफाइल कैदियों को रखा जाता है, जिसे खतरे का सामना करना पड़ सकता है या जो दूसरों के लिए खतरा हो सकता है।वैसे बैरक की हर सेल में आमतौर पर 10 से 15 कैदियों को रखा जाता है। हालांकि, मुंबई के ऑर्थर रोड जेल की बैरक 12 जैसी स्पेशलाइज्ड सेल में एक ही कैदी को रखा जाता है, जो आमतौर पर कोई हाई प्रोफाइल व्यक्ति या खतरनाक अपराधी होता है।
बैरक 12 में कमोड की सुविधा:-इस बैरक की संरचना ग्राउंड प्लस वन की है, जिसमें हर फ्लोर पर आठ सेल बने हुए हैं। सभी सेल के अंदर अलग-अलग अटैच टॉयलेट, कपड़े धोने की जगह और खुले आंगन की व्यवस्था है। आम कैदियों के सेल में भारतीय शैली के शौचालय हैं, लेकिन बैरक 12 के सेल में कमोड की व्यवस्था है।कैदियों को एक गद्दा, एक तकिया और एक बेडशीट दी जाती है। भोजन करने के लिए मेलामाइन ग्लास, एक प्लेट और दो कटोरी दी जाती हैं। जेल में मेलामाइन बर्तनों को प्राथमिकता दी जाती है, ताकि कैदी अन्य कैदियों या जेल कर्मचारियों पर हमला न करे या खुद पर भी हमला न कर सकें।
ये है जेल में खाने का समय:-कैदियों की 24 घंटे में चार बार खान-पान उपलब्ध कराया जाता है। सुबह 6 बजे से 7 बजे के बीच नाश्ता दिया जाता है, दोपहर में भोजन दिया जाता है, शाम में 4.30 बजे के करीब स्नैक्स दिया जाता है और शाम में 7 बजे रात का भोजन दिया जाता है।केंद्रीय गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देश के मुताबिक कैदियों का भोजन बनाया जाता है। पुरुष कैदियों को प्रति दिन 2320 से 2730 कैलोरी और महिला कैदियों को 1900 से 2830 कैलोरीयुक्त खाना दिया जाता है।

नई दिल्ली। इटली की कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड के साथ वीवीआइपी चॉपर डील में हुए घोटाले के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को सोमवार को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया जाएगा। मिशेल को कोर्ट की तरफ से पांच दिन का रिमांड मिला था, जो सोमवार को खत्म हो रही है। सुनवाई के बाद कोर्ट ने आरोपी मिशेल को पांच दिनों की सीबीआइ हिरासत में भेज दिया हैैै। सुनवाई के दौरान सीबीआइ ने कोर्ट को बताया कि मिशेल सुनवाई में मदद नहीं कर रहे हैं।इससे पहले मिशेल के वकील अनिल जोसेफ सोमवार सुबह सीबीआइ हेड क्वार्टर पहुंचे और कोर्ट में पेश करने से पहले मिशेल से मुलाकात की। इससे पहले जांच एजेंसियों का कहना था कि मिशेल से पूछताछ में अहम जानकारी मिली है, लेकिन उसे सार्वजनिक नहीं किया जा सकता है। बता दें कि पिछले सप्ताह 4 दिसंबर को सुनवाई के दौरान सीबीआइ कोर्ट ने मिशेल को 5 दिनों की हिरासत में भेज दिया था। इस दौरान मिशेल के वकील ने उसकी जमानत के लिए अर्जी भी लगाई थी, जिस पर कोर्ट मिशेल की जमानत याचिका पर सोमवार को सुनवाई कर सकता है। यहां पर बता दें कि 4 दिसंबर को अगस्ता वेस्टलैंड मामले के बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल को भारत लाया गया था, ऐसा माना जा रहा है कि क्रिश्चियन मिशेल के आने से कई सारे राज खुल सकते हैं। भारत की जांच एजेंसियां लंबे समय से उसे भारत लाने का प्रयास कर रही थीं। यह ऑपरेशन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के नेतृत्व में चलाया गया था।कहा यह भी जा रहा है। भारतीय जांच एजेंसियों की पूछताछ में वह उन नेताओं और नौकरशाहों के नाम उगल सकता है जिन्हें 3600 करोड़ रुपए के वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदे के लिए कथित रूप से रिश्वत दी गई थी। जानकारी के मुताबिक, मिशेल ने कुछ लोगो इस डील के दौरान घूस दी थी जिसके नाम उसने कोड वर्ड में लिखे थे उसका खुलासा वही कर सकता है। यूएई की सुरक्षा एजेंसियों ने फरवरी 2017 में मिशेल को गिरफ्तार किया था और इसके बाद से ही उसके प्रत्यर्पण की कोशिशें चल रही थीं। मिशेल को भारत प्रत्यर्पित कराने के लिए भारतीय एजेंसियों सीबीआई एवं प्रवर्तन निदेशालय ने यूएई का कई बार दौरा किया। इस दौरान एजेंसियों ने यूएई के अधिकारियों एवं न्यायालय के साथ घोटाले से जुड़े आरोपपत्र, गवाहों के बयान और अन्य साक्ष्य एवं दस्तावेज साझा किए थे।बता दें कि ईडी के दस्तावेज के मुताबिक, मिशेल को 12 हेलिकॉप्टर के समझौते को अपने पक्ष में कराने के लिए 225 करोड़ दिये गए। आरोप है कि यूपीए सरकार के दौरान 2010 में हुए इस डील का करार पाने के लिए एंग्लो-इटैलियन कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड ने भारतीय राजनेताओं, रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों, नौकरशाहों समेत वायुसेना के दूसरे अधिकारियों को रिश्वत देने के लिए मिशेल को करीब 350 करोड़ रुपए दिए। इस सौदे में 2013 में घूसखोरी की बात सामने आने पर तत्कालीन रक्षा मंत्री ए के एंटोनी ने न केवल सौदा रद्द किया बल्कि सीबीआई जांच के आदेश भी दिए।

नई दिल्‍ली। कर्नाटक स्थित कैगा परमाणु बिजलीघर के निरंतर परिचालन में रहकर रिकार्ड बनाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय वैज्ञानिकों और इंजीनियरों की सराहना करते हुए बधाई दी है। प्रधानमंत्री ने कहा कि एक बार फिर भारतीय वैज्ञानिकों और इंजीनियरों ने वर्ल्‍ड रिकॉर्ड बनाकर देशवासियों का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है।पीएम मोदी ने सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर ये जानकारी दी। उन्‍होंने ट्वीट में लिखा, 'भारतीय वैज्ञानिकों और इंजीनियरों के नाम एक और विश्‍व रिकॉर्ड। भारतीय परमाणु ऊर्जा निगम (एनपीसीआईएल) की कैगा परमाणु बिजलीघर (केएपीएस) में विकसित 220 मेगावाट क्षमता की इकाई-1 ने निरंतर 940 दिन से ज्‍यादा परिचालन में रहकर रिकार्ड बनाया है। यह देश के लिए बड़ी उपलब्धि है। भारतीय परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम से जुड़े सभी लोगों को बधाई।' बता दें कि इससे पहले यह वर्ल्‍ड रिकॉर्ड यूके के हेशेमम -2 की इकाई-8 के नाम था। इस इकाई ने साल 2016 में 940 दिन निरंतर परिचालन का रिकॉर्ड बनाया था, जिसे अब भारत के कैगा परमाणु बिजलीघर ने तोड़ दिया है। लगातार बिजली उत्पादन के रिकाॅर्ड बनाने में विश्व के 6 परमाणु रिएक्टर का नाम आता हैं। जिसमें राजस्थान परमाणु बिजलीघर की तीसरी इकाई 778 दिन और 5वीं इकाई 765 दिन लगातार उत्पादन कर चुकी हैं।

नई दिल्ली। फलों में बहुत सारे पौष्टिक तत्‍व होते हैं जो शरीर को मजबूत और स्वस्थ बनाते हैं, लेकिन अन्य खाद्य पदार्थों की ही तरह फलों का भी पूरा लाभ लेने के लिए इन्हें सही समय पर खाना बेहद जरूरी होता है लेकिन क्‍या आपको पता है कि कौन सा फल कब खाना और इनके खाने का उचित समय क्‍या है?
फलों को कब और कैसे खाएं:-स्वास्थ्य के लिए फलों को सर्वोत्तम आहार माना जाता है। लगभग हर फल में प्रोटीन, विटामिन, एंटीऑक्‍सीडेंट, फाइबर जैसे पोषक तत्‍व पाए जाते हैं। इसलिए शरीर को स्‍वस्‍थ और पोषण देने के लिए हमें अपने नियमित आहार में फलों को शामिल करना चाहिए। लेकिन ज्‍यादातर लोगों को फल खाने का सही तरीका मालूम नहीं होता। अक्‍सर लोग खाने के तुरंत बाद मिठाई के रूप में इसका सेवन करना पसंद करते हैं, जो गलत है। फलों को गलत समय पर खाने से होने वाले लाभ की जगह, शरीर में अपच, एसिडिटी और कब्‍ज जैसी पेट की समस्‍याएं होने लगती हैं। इसलिए हमें फलों को सही समय और सही तरीके से ही खाना चाहिए।
सेब:-सेब में बहुत ही ज्‍यादा पौष्टिक तत्व होते हैं। मिनरल और विटामिन से भरपूर सेब में फाइबर भी बहुत अधिक मात्रा में होता है और कोलेस्ट्रॉल बिलकुल नहीं होते। सेब को छील कर नहीं खाना चाहिए। जब हम सेब का छिलका निकालते हैं तो छिलके के बिलकुल नीचे रहने वाला विटामिन सी काफी मात्रा में नष्ट हो जाता है। इसके अलावा सेब को हमें सुबह के समय खाना चाहिए। सेब यदि खाली पेट खाया गया तो आपके शरीर का टॉक्सिक (गंदगी) आसानी से बाहर निकलेगा। एनर्जी अधिक मिलेगी, शरीर भी पतला होगा तथा स्फूर्ति रहेगी।
संतरा:-खट्टे फलों की श्रेणी में आने वाले संतरे में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा संतरा विटामिन ए, बी कॉम्प्लेक्स, अमीनो एसिड, कैल्शियम, आयोडीन, फॉस्फोरस, सोडियम, मैगनीज जैसे अन्य पोषक तत्वों की खान भी है। लेकिन संतरे को खाते समय इस बात का ध्‍यान रखना चाहिए कि सुबह और रात में इसे न खायें, संतरे को हमेशा दिन के समय में खाएं। साथ ही इस बात का भी ध्‍यान रखें कि इसे हमेशा खाना खाने के 1 घंटा पहले या बाद में खाएं। पहले खाने से भूख बढ़ती है और बाद में खाने से भोजन पचाने में आपको मदद मिलती है। संतरा एक मीठी दवा की तरह काम करता है। रोज दो संतरा खाने से जुकाम, कोलेस्ट्रॉल, किडनी में पथरी और कोलन कैंसर जैसी बीमारियों से रक्षा होती है।
अंगूर:-अंगूर या अंगूर का जूस भी शरीर में पानी की मात्रा बनाए रखने में मदद करता है। अंगूर खाने के बाद आप तुरंत स्फूर्ति अनुभव करते हैं। अंगूर विटामिनों का भी सर्वोत्तम स्रोत हैं। विटामिन का सेवन खाली पेट ज़्यादा लाभदायक होता है इसलिए अंगूर का सेवन प्रात: काल श्रेयस्कर है। इसके अलावा, इसका सेवन धूप में जाने से कुछ देर पूर्व या धूप से लौटने के कुछ देर बाद ही करें, लेकिन अंगूर और भोजन में कुछ देर का अंतर रखें।
केला:-अगर आप अपने दिल को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो रोजाना एक केला खाना फायदेमंद हो सकता है। केले में जरूरी मात्रा में फाइबर, पोटैशियम, कैल्शियम और विटामिन सी होते हैं जिसके कारण रोजाना 1 केले का सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल लेवल कंट्रोल में रहता है। केले में विटामिन, प्रोटीन और अन्य पोषक तत्व भरपूर मात्रा में होते है जिसके कारण ये काफी स्वास्थ्यवर्द्धक होते हैं।
मौसंबी:-विटामिन ‘सी’ से भरपूर इस फल से सभी परिचित हैं। मौसंबी ऐसा पौष्टिक फल है जिसका रस आसानी से पच जाता है इसलिए इसे रोगियों को पीने की सलाह दी जाती है। हरे या हल्के पीले रंग की मौसंबी देखने में संतरे की तरह लगती है। कैल्शियम, फास्फोरस आदि तत्वों से भरपूर मौसंबी अत्यंत गुणकारी और हितकारी है। मौसंबी का सेवन दोपहर में करें। धूप में जाने से कुछ देर पहले या धूप से आने के कुछ देर बाद मौसंबी खाना या उसका जूस पीना अधिक लाभदायक होता है। इससे शरीर में पानी की मात्रा कम नहीं होगी।
नारियल;-नारियल को श्रीफल भी कहा जाता है। नारियल में विटामिन, पोटैशियम, फाइबर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, विटामिन और खनिज तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। नारियल कई बीमारियों के इलाज में काम आता है। नारियल में वसा और कॉलेस्ट्रॉल नहीं होता है, इसलिए नारियल मोटापे से भी निजात दिलाने में मदद करता है। वैसे तो नारियल पानी कभी भी पिया जा सकता है, जिन्हें पेट संबंधी समस्याएं हैं, एसिडिटी या अल्सर की समस्या है उनके लिए यह लाभदायक है। कोशिश करें कि नारियल पानी को खाली पेट न पिएं।
तरबूज:-प्यास बुझाने वाले इस फल में 92 प्रतिशत पानी होता है और तरबूज का सेवन प्रतिरोधी तंत्र के लिए भी अच्छा होता है। ठंडे तरबूज का टेस्ट आपको जरूर पसंद आएगा। तरबूज खाने के बाद एक घंटे तक पानी न पिएं, अन्यथा लाभ के स्‍थान पर शरीर को हानि पहुंच सकती है। वैसे तरबूज ताजा काट कर ही खाएं, क्योंकि बहुत पहले का कटा तरबूज नुकसान भी पहुंचाता है।
आम;-आम फलों का राजा कहा जाता है। आम में संतृप्त वसा, कोलेस्ट्रॉल और सोडियम की मात्रा काफी कम होती है। साथ ही यह आहार संबंधी फाइबर, विटामिन B-6, विटामिन A और विटामिन C का भी अच्छा स्रोत माना जाता है। आम खाने के अनेको स्‍वास्‍थ्‍य वर्धक फायदे हैं। आम में पोटेशियम, मैग्निशियम और कॉपर जैसे मिनरल लवण भी प्रचुर मात्रा में पाएं जाते हैं। लेकिन इसके सेवन के समय इस बात का ध्‍यान रखें कि आम की तासीर गर्म होती है, अतः आम के साथ दूध का प्रयोग करना चाहिए। यदि उसका शेक बनाया जा रहा है तो आम के टुकड़ों में शुगर और थो़ड़ा-सा दूध मिलाकर पीना लाभदायक होगा।

 

 

 

मुंबई। शनिवार को मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट ने एक दिन में रिकॉर्ड एक हजार सात उड़ानों का परिचालन किया जबकि इससे पहले इसका रिकॉर्ड 1003 उड़ानों के परिचालन का था जो इस साल जून माह में बनाया गया।मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के प्रवक्ता ने आंकड़े की पुष्टि करते हुए कहा कि शनिवार को मुंबई एयरपोर्ट से कुल एक हजार सात उड़ानों का परिचालन किया गया। सूत्रों के मुताबिक एक दिन में इतनी सारी उड़ानों की प्रमुख वजह उदयपुर में मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी के प्री वेडिंग सेरेमनी कार्यक्रम में शरीक होने वाले मेहमान थे।भारत के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी का प्री वेडिंग सेरेमनी कार्यक्रम उदयपुर में शुक्रवार से शुरू हुआ। इसमें शामिल होने के लिए कई राजनेता, उद्योगपति और फिल्मी हस्तियों ने मुंबई से उदयपुर के लिए प्राइवेट विमान से उड़ान भरी।

मुंबई। साउथ इंडियन फ़िल्म 2.0 ने अक्षय कुमार के करियर का नक्शा बदल दिया है। इसका हिंदी वर्ज़न अक्षय के करियर की अब तक की सबसे बड़ी कामयाबी बन चुकाहै। सिर्फ़ 11 दिनों में यह फ़िल्म 160 करोड़ से अधिक का कलेक्शन कर चुकी है। अक्षय को साउथ का यह सफ़र लकी साबित हुआ है। इसके बाद वो अब एक साउथ इंडियन एक्ट्रेस के साथ पर्दे पर नज़र आने वाले हैं, जो इस फ़िल्म से बॉलीवुड ईनिंग शुरू कर रही हैं। तापसी पन्नू, इलियाना डिक्रूज़, असिन, एमी जैक्सन जैसी एक्ट्रेसेज़ के बाद हिंदी सिनेमा में एक बार दक्षिण भारतीय एक्ट्रेसेज़ की एक नयी पीढ़ी अपना हुनर दिखाने आ रही है। आर बाल्की स्पेस बैकग्राउंड पर 'मिशन मंगल' फ़िल्म बना रहे हैं, जिसमें अक्षय कुमार लीड रोल में हैं, जबकि शरमन जोशी, तापसी पन्नू, कीर्ति कुल्हरी, विद्या बालन और सोनीक्षी सिन्हा सहायक भूमिकाओं में नज़र आएंगे। इस फ़िल्म में एक और नया चेहरा इस गैंग को ज्वाइन कर रहा है।यह हैं नित्या मेनन, जो साउथ सिनेमा में काम करती रही हैं। नित्या इस फ़िल्म के साथ हिंदी सिनेमा में पारी शुरू कर रही हैं। अक्षय ने फ़िल्म की स्टार कास्ट को सोशल मीडिया के ज़रिए इंट्रोड्यूस करवाया था। जगन शक्ति निर्देशित फ़िल्म 15 अगस्त 2019 को रिलीज़ हो रही है। कन्नड़ सिनेमा में काम करने वाली वेदिका 'द बॉडी' के साथ हिंदी सिनेमा में पारी शुरू कर रही हैं। इस फ़िल्म में इमरान हाशमी लीड रोल में हैं। यह मलयालम फ़िल्मों के निर्देशक जीतू जोसेफ़ का बॉलीवुड डेब्यू है। इमरान हाशमी फ़िलहाल अपनी होम प्रोडक्शन फ़िल्म 'चीट इंडिया' में बिज़ी हैं, जो 2019 के जनवरी महीने में रिलीज़ हो रही है।तिग्मांशु धूलिया शाह रुख़ ख़ान के पिता के रूप में 'ज़ीरो' में पर्दे पर दिखायी देंगे। इसके बाद उनकी डायरेक्टोरियल फ़िल्म 'मिलन टॉकीज़' पाइपलाइन में है। इस फ़िल्म में अली फ़ज़ल लीड रोल में हैं। 'मिलन टॉकीज़' से साउथ इंडियन एक्ट्रेस श्रद्धा श्रीनाथ फ़ीमेल लीड रोल में हिंदी सिनेमा में डेब्यू कर रही हैं।फ़िल्म पत्रकार से निर्देशक बने ख़ालिद मोहम्मद 80 के दौर की फ़िल्म 'कथा' को इसी नाम से रीमेक कर रहे हैं। इस फ़िल्म में मनीष पॉल लीड रोल में हैं। फ़िल्म से साउथ एक्ट्रेस शर्मीला मांद्रे बॉलीवुड डेब्यू कर रही हैं। शर्मीला उसी रोल में हैं, जो दीप्ति नवल ने प्ले किया था।रेजिना कैसेंड्रा 'एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा' से बॉलीवुड में अपनी पारी शुरू कर रही हैं। इस फ़िल्म में अनिल कपूर और सोनम कपूर पहली बार साथ आ रहे हैं। राजकुमार राव मेल लीड रोल में नज़र आएंगे। रेजिना तमिल, तेलुगु और कन्नड़ सिनेमा में काम करती रही हैं।एक और साउथ ब्यूटी आने वाले समय में हिंदी सिनेमा के पर्दे पर झिलमिलाने वाली है। ऐंद्रिता रे दो फ़िल्मों में नज़र आएंगे। हालांकि दोनों फ़िल्मों के अभी तक शीर्षक तय नहीं हुए हैं।सूरज पंचोली इन दिनों 'सैटेलाइट शंकर' की शूटिंग कर रहे हैं, जिसे इरफ़ान कमाल डायरेक्ट कर रही हैं। इस फ़िल्म से कटरीना कैफ़ की बहन इज़ाबेल कैफ़ बॉलीवुड डेब्यू कर रही हैं। साथ ही साउथ एक्ट्रेस मेघा आकाश भी बॉलीवुड पारी शुरू करेंगी।

 

Page 1 of 3433

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें