अहमदाबाद। भारत के तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने सोमवार को कहा कि विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) उनके लिए विश्व कप की तरह है और वह चाहते हैं कि इस साल के अंत में होने वाले फाइनल मैच में उनकी टीम खेले। भारत और इंग्लैंड के बीच चार मैचों की सीरीज वर्तमान में 1-1 की बराबरी पर है और अब दोनों टीमें मोटारा क्रिकेट स्टेडियम में बुधवार से शुरू हो रहे पिंक बॉल टेस्ट मैच में खेलेंगी। इसी सीरीज से आइसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के लिए दूसरे फाइनलिस्ट का ऐलान होगा।अपना 100वां टेस्ट मैच खेलने के लिए कमर कस चुके इशांत शर्मा ने हाल ही टेस्ट क्रिकेट में 300 विकेट चटकाए हैं। इस बारे में उन्होंने कहा है कि ये सिर्फ निजी उपलब्धियां हैं। इशांत ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "100 टेस्ट मैच खेलने के मील का पत्थर हासिल करने के लिए मुझे ऑस्ट्रेलिया पसंद था, लेकिन कुछ चीजें योजना के अनुसार नहीं होती हैं। मैं ऑस्ट्रेलिया नहीं जा सका, लेकिन जैसे ही आप कुछ चीजों पर चलते हैं, जीवन सरल हो सकता है। मैंने सीखा है कि आप अपने करियर में एक चीज के बारे में नहीं सोच सकते, आपका आगे बढ़ना महत्वपूर्ण है। कपिल देव के 131 टेस्ट मील का पत्थर बहुत दूर है, मैं सिर्फ आगामी टेस्ट पर ध्यान केंद्रित कर रहा हूं।"वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप को लेकर इशांत शर्मा ने कहा, "मैं सिर्फ इस सीरीज को जीतने और डब्ल्यूटीसी के फाइनल के लिए क्वालीफाइ करने पर केंद्रित हूं। मैं सिर्फ एक प्रारूप खेलता हूं, विश्व टेस्ट चैंपियनशिप मेरे लिए एक विश्व कप की तरह है, अगर हम फाइनल खेलते हैं और फिर हम जीत के लिए जाते हैं, तो यह भावना विश्व कप या चैंपियंस ट्रॉफी जीतने के समान होगी।" अपने डेब्यू मैच को याद करते हुए उन्होंने कहा, "जब मैंने डेब्यू किया था तो रवि सर(रवि शास्त्री) टीम के मैनेजर थे और अब कोच हैं। मैं पहले टेस्ट मैच के दौरान नर्वस था, लेकिन रवि शास्त्री ने मुझे हौसला दिया था।"आइसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में जगह बनाने के लिए भारत अभी थोड़ा दूर है। मंगलवार को चेन्नई में जीत ने भारत को पॉइंट्स टेबल पर 69.7 प्रतिशत अंकों के साथ दूसरे स्थान पर पहुंचा दिया, लेकिन वे एक और मैच नहीं हार सकते, क्योंकि उन्हें 2-1 या 3-1 से जीतने की जरूरत है, ताकि वह आइसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के पहले संस्करण के फाइनल में पहुंच सकें। इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए भी फाइनल में पहुंचने के दरवाजे खुले हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें