Editor

Editor

बिश्‍केक। किर्गिस्‍तान के बिश्‍केक में आयोजित दो दिवसीय शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन के बाद यहां के राष्ट्रपति सूरोनबे जीनबेकोव और पीएम मोदी के बीच बैठक हो रही है। यह बैठक बिश्केक में India-Kyrgyzstan Business Forum को लेकर है। इस दौरान पीएम मोदी ने राष्ट्रपति जीनबेकोव को शुक्रिया कहते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच प्राचीन संबंध रहे हैं। व्यापार और निवेश के संदर्भ में हम इन संबंधों का और विस्तार चाहेंगे। व्यापार को आगे बढ़ाने के लिए पांच साल की योजना तैयार है। पीएम मोदी ने द्विपक्षीय निवेश समझौता को लेकर कहा कि भारत के आर्थिक विकास और प्रौद्योगिकी में उन्नति दुनिया भर में विकास का प्रमुख कारण हैं। इसके अलावा, भारत के युवा और अन्वेषक भारत के 5 ट्रिलियन डॉलर के लक्ष्य को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।इससे पहले सम्मेलन में सभी सदस्यों ने आतंकवाद पर बड़ा संदेश दिया। एसएसीओ समिट में इस दौरान सभी सदस्य देशों ने आतंकवाद को लेकर सभी सदस्यों ने साझा घोषणापत्र जारी किया है। साथ ही 14 समझौतों पर भी हस्ताक्षर हुए। विदेश मंत्रालय ने इसकी जानकारी दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि मौजूदा वक्‍त में आतंकवाद को प्रायोजित करने वाले, इसका वित्तपोषण करने वाले और आतंकियों की मदद करने वाले देशों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए। इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के मसले पर वैश्विक सम्मेलन का आह्वान भी किया। प्रधानमंत्री मोदी ने आतंकवाद के मसले पर बिना नाम लिए पाकिस्तान को आड़े हाथ लिया। उन्‍होंने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहयोग को मजबूत करने की एससीओ की भावना और उसके विचारों को रेखांकित करते हुए कहा कि भारत आतंकवाद मुक्त समाज के लिए खड़ा है। आतंकवाद से निपटने के लिए दुनिया की मानवतावादी ताकतों को एकजुट होना होगा। मोदी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की मौजूदगी में कहा कि आतंकवाद से निपटने के लिए देशों को अपने संकीर्ण दायरे से बाहर आना होगा। आतंकवाद को प्रोत्साहन, समर्थन, धन मुहैया करने वाले देशों को जिम्मेदार ठहराना जरूरी है। भारत आतंकवाद से निपटने के लिए अंतरराष्ट्रीय समर्थन और सहयोग का आह्वान कर रहा है।
अमेरिका के तेल प्रतिबंधों पर हो सकती है बातचीत:-अमेरिका ने ईरान और वेनेज़ुएला पर आर्थिक प्रतिबंध लगाया हुआ है। ये दोनों देश विश्व में तेल के तीसरे और चौथे सबसे बड़े आपूर्तिकर्ता हैं। भारत में इन दोनों देशों से होने वाली तेल की आपूर्ति सबसे अहम है। अमेरिका के आर्थिक प्रतिबंधों की वजह से भारत में आयात बंद है। ऐसे में माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस मसले पर ईरान के राष्‍ट्रपति (Iran President) हसन रूहानी (Hassan Rouhani) के साथ बात कर सकते हैं।

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल से शुरू हुई जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल को अब देशभर के डॉक्टरों का समर्थन मिल रहा है। बंगाल में जूनियर डॉक्टरों के साथ हुई मारपीट की घटना से मेडिकल एसोसिएशन में गु्स्सा है। पश्चिम बंगाल के डॉक्टरों का समर्थन करते हुए राजधानी में दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन (DMA) ने हड़ताल बुलाई है। इसका सबसे ज्यादा असर AIIMS जैसे बड़े अस्पतालों पर देखने को मिल रहा है। यहां OPD में नए मरीजों का इलाज नहीं किया जा रहा है। वहीं महाराष्ट्र में भी डॉक्टरों ने काम करने से साफ इनकार कर दिया है। उनका कहना है कि वह साइलेंट प्रोटेस्ट करेंगे। खबरों के मुताबिक, दिल्ली और महाराष्ट्र के अलावा पंजाब, केरल, राजस्थान, बिहार और मध्य प्रदेश में भी डॉक्टरों ने काम करने से मना कर दिया है।एनआरएस मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल के बाद मामला और गंभीर हो गया है। ताजा आंकड़े के मुताबिक बंगाल के 250 से अधिक डॉक्टरों ने सामूहिक इस्तीफा दिया है। इससे राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था बुरी तरह चरमरा जाने की आशंका उत्पन्न हो गई है।
- वकील आलोक श्रीवास्तव ने देशभर में डॉक्टरों की सुरक्षा के मद्देनजर सुप्रीम कोर्ट में दायर की पीआईएल। हर सरकारी अस्पताल में सुरक्षाकर्मी की तैनाती और कड़े गाइडलाइन बनाने की मांग।
- मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल के अलावा आरजी कर मेडिकल कॉलेज के 96 डॉक्टर, एसएसकेएम अस्पताल के 110 डॉक्टर, चित्तरंजन नेशनल मेडिकल कॉलेज के 58 डॉक्टर तथा उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज के 14 डॉक्टर्स ने अपना इस्तीफा दे दिया है। एसएसकेएम अस्पताल में इस्तीफा देने वाले अधिकांश चिकित्सकों में स्किन तथा मेडिसिन विभाग के डॉक्टर शामिल हैं। वहीं स्थानीय सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक उत्तर बंगाल मेडिकल कालेज में इस्तीफा देने वालों में चार डॉक्टर मनोरोग विभाग के हैं।
- राज्य में डॉक्टरों की हड़ताल पर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कलकत्ता उच्च न्यायालय ने पश्चिम बंगाल सरकार को जवाब देने के लिए 7 दिन का समय दिया। कोर्ट ने राज्य से पूछा कि कठिन स्थिति को समाप्त करने के लिए सरकार ने क्या कदम उठाए हैं। कोर्ट ने यह भी कहा कि राज्य को इस पर विराम लगाना होगा और इसका हल ढूंढना होगा।
- दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन ने NRS मेडिकल कॉलेज, कोलकाता के डॉक्टर के साथ मारपीट के विरोध में सभी चिकित्सा सुविधा बंद करने का आह्वान किया है।
- फिल्म निर्माता अपर्णा सेन ने कोलकाता के एनआरएस कॉलेज और हॉस्पिटल में प्रदर्शनकारी डॉक्टरों से मुलाकात की। उन्होंने कहा, "मैं सीएम से यहां आने और डॉक्टरों से बात करने का अनुरोध करना चाहूंगी। यदि आपको किसी के बुरे व्यवहार के कारण बुरा लगा तो कृपया उन्हें माफ कर दें। क्या आपको लगता है कि ऐसा करना ठीक है। यदि वह हमारा राज्य छो़ड़ देंगे तो क्या यह अच्छा होगा?
- उत्तर बंगाल में मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल दार्जिलिंग के 27 डॉक्टरों ने पश्चिम बंगाल में हुई हिंसा के विरोध में इस्तीफा दे दिया है। अब इस्तीफा देने वाले डॉक्टरों की संख्या 43 हो गई है।
- आरजी कर मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल, कोलकाता के 16 डॉक्टरों ने अपना इस्तीफा देते हुए कहा, "मौजूदा स्थिति को देखते हुए हम सेवा प्रदान करने में असमर्थ हैं, हम अपने कर्तव्य से इस्तीफा देना चाहेंगे"
- डॉक्टर की फोरम सोसाइटी ने कहा कि सर गंगा राम अस्पताल के सभी डॉक्टर पश्चिम बंगाल में हमारे सहयोगियों के समर्थन में हैं और डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा का विरोध करते हैं। साथ ही बताया कि अस्पताल के सभी निजी ओपीडी क्लीनिक आज बंद रहेंगे।
-ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के सदस्यों ने विरोध के रूप में हेलमेट पहनकर काम कर रहे हैं।
- उत्तर बंगाल के मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल दार्जिलिंग के दो डॉक्टरों ने राज्य में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा पर इस्तीफा दे दिया।
- केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन के साथ AIIMS के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के सदस्य बैठक कर रहे हैं।
-उन्होंने आगे कहा कि मैं पश्चिम बंगाल के सीएम से अपील करता हूं कि वह इसे प्रतिष्ठा का मुद्दा न बनाएं। उन्होंने डॉक्टरों को एक अल्टीमेटम दिया, जिसके परिणामस्वरूप वे नाराज हो गए और हड़ताल पर चले गए। आज मैं ममता बनर्जी जी को पत्र लिखूंगा और उनसे इस मुद्दे पर बात करने की भी कोशिश करूंगा।
-केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने देश में डॉक्टरों द्वारा की जा रही हड़ताल पर कहा कि मैं देशभर के डॉक्टरों से कहना चाहता हूं कि सरकार उन सभी की सुरक्षा के लिए बाध्य है। उन्होंने आगे कहा कि मैं डॉक्टरों से अनुरोध करुंगा कि वह प्रतीकात्मक विरोध ही करे और अपना काम जारी रखें।
- जयपुर स्थित जयपुरिया अस्पताल के डॉक्टर मरीजों का इलाज तो कर रहे है। लेकिन, वह काली पट्टी बांधकर विरोध जता रहे हैं। वहीं, केरल में भी भारतीय चिकित्सा संघ त्रिवेंद्रम के सदस्यों ने पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा का विरोध किया।
- रायपुर के डॉ भीमराव अंबेडकर मेमोरियल अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टरों ने पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा पर विरोध जताते हुए 'वी वांट जस्टिस' के नारे लगाए।
- नागपुर के गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज में 'सेव द सेवियर' और 'स्टैंड विद एनआरएसएमसीएच' पोस्टर्स के साथ डॉक्टरों ने पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा का विरोध किया।
-दिल्ली में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में ओपीडी के बाहर मरीज और उनके परिजनों की भीड़ इकट्ठा हो गई है।
- रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन द्वारा सफदरजंग अस्पताल में बंगाल में डॉक्टरों के खिलाफ हुई हिंसा का विरोध किया जा रहा है।
आइएम से जुड़े एक डॉक्टर ने मीडिया को बताया कि आज एम्स, सफदरजंग के अलावा निजी क्लिनिक-नर्सिंग होम भी बंद रहेंगे। एम्स (AIIMS) में नए मरीजों का इलाज नहीं होगा, जबकि सफदरजंग में केवल इमर्जेंसी चलेगी। पश्चिम बंगाल में NRS मेडिकल कॉलेज और अस्पताल द्वारा उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज, सिलीगुड़ी में डॉक्टरों ने प्रोटेस्ट का आयोजन किया। हैदराबाद में भी निजाम इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के डॉक्टरों ने पश्चिम बंगाल के एनआरएस मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा पर विरोध मार्च निकाली। जानकारी के लिए बता दें कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हड़ताल कर रहे जूनियर डॉक्टरों को गुरुवार को दोपहर दो बजे तक काम पर लौटने का निर्देश दिया। लेकिन, उन लोगों ने उनका निर्देश नहीं माना। उन्होंने साफ कह दिया कि जब तक सरकारी अस्पतालों में सुरक्षा संबंधी उनकी मांग पूरी नहीं होगी तब तक हड़ताल जारी रहेगी।
जानें क्या है पूरा मामला:-दरअसल, कोलकाताल के एनआरएस मेडिकल कॉलेज में इउलाज के दौरान एक 75 वर्षीय बुजुर्ग की मौत हो गई थी। बुजुर्ग के परिवार वालों ने डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया और डॉक्टरों की पिटाई कर दी। आरोप है की करीब 200 लोग ट्रको में भरकर आए और अस्पताल पर हमला कर दिया। इस हमले में दो जूनियर डॉक्टर बुरी तरह से घायल हो गए।
एनआरएस के प्रधानाचार्य और उपप्रधानाचार्य ने दिया इस्तीफा;-इस घटना के बाद से निजी अस्पतालों में भी स्वास्थ्य सेवाएं बंद रहीं। वहीं भारतीय चिकित्सा संघ (आईएमए) ने घटना के खिलाफ और हड़ताली डॉक्टरों के साथ एकजुटता दिखाने के लिए शुक्रवार को अखिल भारतीय विरोध दिवस घोषित कर दिया है। साथ ही एनआरएस मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के प्रधानाचार्य साइबल मुखर्जी और चिकित्सा अधीक्षक और उपप्रधानाचार्य प्रो. सौरभ चटोपाध्याय ने संस्थान के संकट से निपटने में विफल रहने की वजह से इस्तीफा दे दिया है।

गोरखपुर। ग्लैंडर्स एंड फारसी (Glanders and Farcy) जैसी जानलेवा बीमारी से संक्रमित तीन घोड़ों को गुरुवार को दर्द रहित मौत दे दी गई। इस बीमारी को इंसानों के लिए बेहद खतरनाक बताते हुए पशुपालन विभाग ने जिलाधिकारी को रिपोर्ट दी थी, जिस पर डीएम ने घोड़ों को इच्‍छामृत्यु देने की इजाजत दी। पशुपालक को विभाग की तरफ से तीनों घोड़ों के एवज में 75 हजार रुपये का मुआवजा दिया जाएगा।घीसापुर खजुरगांवा के पशुपालक राजेश मौर्य की दो घोड़ी चंपा-चमेली और एक घोड़ा बादल कुछ समय से बीमार थे। पशु चिकित्सकों की जांच में ग्लैंडर्स एंड फारसी का लक्षण मिला तो घोड़ों का ब्लड सैंपल जांच के लिए हिसार स्थित भारतीय अश्व अनुसंधान केंद्र भेज दिया गया। रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर इसकी पुष्टि के लिए ब्लड सैंपल को दोबारा हिसार भेजा गया। इस बार भी रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो घोड़ों को इच्छामृत्यु देने का निर्णय लिया गया। पशुपालन विभाग ने जिलाधिकारी के. विजयेंद्र पाण्डियन को इसकी रिपोर्ट भेजी, जिस पर उन्होंने अपनी सहमति दे दी।
टीम की देखरेख में दी गई इच्‍छामृत्यु;-उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. जीके शुक्ला के नेतृत्व में पशु चिकित्साधिकारी डॉ. हरेंद्र प्रकाश चौरसिया, डॉ. उपेंद्र शर्मा व डॉ. सुनील कुमार सिंह गुरुवार को घीसापुर पहुंचे और घोड़ों को मारने के लिए मालिक राजेश मौर्य से सहमति पत्र पर हस्ताक्षर कराया। कैम्पियरगंज विद्युत उपकेंद्र के पास वन क्षेत्र में घोड़ों को ले जाकर इंजेक्शन से यूथेलाइज किया गया। इसके बाद जेसीबी से गड्ढा खुदवाकर उसमें चूना-नमक डालकर घोड़ों को दफन कर दिया गया।
इंसानों के लिए खतरनाक है बीमारी;-उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. जीके शुक्ला ने बताया कि ग्लैंडर्स एंड फारसी एक संक्रामक एवं जुनोटिक (जानवरों से मनुष्यों में फैलने वाली) बीमारी है। यह रोग लाइलाज है। इससे ग्रस्त घोड़ों के जिंदा रहने से आसपास के मनुष्यों में भी लाइलाज बीमारी के होने का खतरा बना रहता है। इस में मृत्यु शत-प्रतिशत सुनिश्चित है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि हमने बांग्ला को आगे बढ़ाना होगा।मैं जब बिहार, उत्तर प्रदेश या पंजाब जाती हूं, उन्हीं की भाषा में बात करती हूं। अगर आप बंगाल में हैं, तो आपको बांग्ला बोलनी ही होगी। मैं उन अपराधियों को बर्दाश्त नहीं करूंगी, जो बंगाल में रहते हैं, और मोटरसाइकिलों पर घूमते रहते हैं। ऐसा माना जा रहा है कि ममता बनर्जी ने भाजपा कार्यकर्ताओं को निशाना बना कर ही यह चेतावनी जारी की है।जानकारी हो कि चुनावी हिंसा में मारे जा रहे लोगों पर तृणमूल कांग्रेस का यही कहना है कि बाहर से आए लोग ऐसी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। हालांकि भाजपा का कहना है कि टीएमसी के कार्यकर्ता पुलिस प्रशासन की शह पर राजनीतिक बदले की भावना से काम कर रहे हैं। राज्य में कानून-व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं है। जानकारी हो कि पिछले दिनों भाजपा पर सीधा हमला बोलते हुए ममता बनर्जी ने यह भी कहा था कि वह पश्चिम बंगाल को गुजरात नहीं बनने देंगी। बता दें कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने डॉक्‍टर्स की हड़ताल को लेकर विपक्षी भाजपा और सीपीएम पर हमला बोला है। ममता ने कहा कि विपक्षी दल डॉक्‍टर्स को भड़का रहे हैं और मामले को सांप्रदायिक रंग दे रहे हैं।इस बीच भाजपा के राष्‍ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने डॉक्‍टर्स की हड़ताल को लेकर ममता बनर्जी पर निशाना साधा है। कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट कर कहा, ‘ममता बनर्जी, आप प्रदेश की स्वास्थ्य मंत्री भी हैं। आपके अहंकार के कारण पिछले चार दिनों में कितने लोगों ने मौत का दरवाज़ा खटखटाया है…। कुछ तो शर्म करो…।’

नई दिल्ली। Samsung ने हाल ही में अपने दो स्मार्टफोन्स Samsung Galaxy A20 और Samsung Galaxy A30 की कीमत में कटौती की घोषणा की है। यह कदम इसलिए उठाया गया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके दोनों डिवाइसेज बाजार में प्रतिस्पर्धिक रहे। रिपोर्ट के अनुसार, Samsung Galaxy A20 अब Rs 1000 की कटौती के बाद Rs 10,490 में बिक रहा है। वहीं, Samsung Galaxy A30 Rs 1500 की कटौती के बाद Rs 13,990 में मिल रहा है।यह प्राइज ड्राप ऑफलाइन स्टोर्स पर तो मिलना शुरू हो गया है, लेकिन सैमसंग ऑनलाइन स्टोर और Amazon India पर अभी तक प्राइज अपडेट नहीं हुए हैं। यह जानकारी 91Mobiles पर स्पॉट की गई थी। आपको बता दें, इन डिवाइसेज पर मिलने वला यह पहला प्राइज ड्राप नहीं है। पहले आई एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले महीने दोनों डिवाइसेज की कीमत में Rs 1500 की कटौती हुई थी।
Samsung Galaxy A20 के फीचर्स: इसमें 6.4 इंच का एचडी प्लस सुपर AMOLED डिस्प्ले दिया गया है। इस स्मार्टफोन में Exynos 7884 एसओसी (सिस्टम ऑन चिप) प्रोसेसर दिया गया है। स्मार्टफोन को 3GB रैम और 32GB इंटरनल स्टोरेज वेरिएंट के साथ लॉन्च किया गया है। फोन की इंटरनल मेमोरी को आप माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए 512 GB तक बढ़ा सकते हैं। कैमरा फीचर्स की बात करें तो इस फोन में ड्यूल रियर कैमरा दिया गया है। इसका प्राइमरी रियर कैमरा 13 मेगापिक्सल का दिया गया है जिसका अपर्चर f/1.9 है। वहीं, सेकेंडरी रियर कैमरा 5 मेगापिक्सल का दिया गया है जिसका अपर्चर f/2.2 है। फोन के बैक पैनल में फिंगरप्रिंट सेंसर दिया गया है। फोन को पावर देने के लिए इसमें 4,000 एमएएच की बैटरी दी गई है। फोन एंड्रॉइड ओरियो 8.1 ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करता है।
Samsung Galaxy A30 के फीचर्स: इसमें 6.4 इंच का सुपर AMOLED इनफिनिटी-U डिस्प्ले दिया गया है। फोन 4GB रैम और 64GB इंटरनल स्टोरेज के साथ लॉन्च किया गया है। फोन की मेमोरी को आप एक्सटर्नल मेमोरी कार्ड के जरिए 512GB तक बढ़ा सकते हैं। फोन के कैमरे फीचर्स की बात करें तो इसमें ड्यूल रियर कैमरा दिया गया है। जिसमें 16 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा दिया गया है। साथ ही सेकेंडरी कैमरे की बात करें तो इसमें 5 मेगापिक्सल का कैमरा दिया गया है। फोन के सेल्फी कैमरे की बात करें तो इसमें 16 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा दिया जा सकता है। फोन के प्रोसेसर की बात करें तो यह Exynos 7904 चिपसेट प्रोसेसर के साथ आता है। इसमें 15 वाट का सुपरफास्ट चार्जिंग सपोर्ट दिया गया है। फोन में 4,000 एमएएच की बैटरी का सपोर्ट दिया गया है। कनेक्टिविटी की बात करें तो इसमें USB Type-C चार्जिंग जैक दिया गया है।

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) शनिवार (15 जुलाई 2019) को एक बार फिर से चांद पर अपना उपग्रह भेजने जा रहा है। उपग्रह 15 जुलाई की सुबह 2:51 बजे आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से छोड़ा जाएगा। यान 6 या 7 सितंबर को चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव के पास लैंड करेगा। इसरो का ये मिशन भारत के लिए बेहद महत्वपूर्ण है और इसकी कमान दो महिला वैज्ञानिकों के हाथों में हैं।चंद्रयान-2 की मिशन निदेशिका रितू करिधल को बनाया गया है। उनके साथ एम वनीता को प्रोजेक्टर डायरेक्टर की भूमिका सौंपी गई है। ये कोई पहला मौका नहीं है, जब इसरो में महिला वैज्ञानिकों को इतनी बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है। इससे पहले मंगल मिशन में भी आठ महिला वैज्ञानिकों को प्रमुख भूमिका में रखा गया था। जानतें चंद्रयान 2 में प्रमुख भूमिका निभाने वाली महिला वैज्ञानिकों के बारे में। इस पूरे अभियान में 30 फीसद महिला वैज्ञानिक शामिल हैं।
रॉकेट वुमन ऑफ इंडिया:-इसरो की महिला वैज्ञानिक रितू करिधल चंद्रयान-2 की मिशन डायरेक्टर हैं। उन्हें रॉकेट वुमन ऑफ इंडिया भी कहा जाता है। इससे पहले वह मार्स ऑर्बिटर मिशन में डिप्टी ऑपरेशंस डायरेक्टर रह चुकी हैं। रितू करिधल ने एरोस्पेस में इंजीनियरिंग की पढाई की है। साथ ही वह लखनऊ विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट हैं। पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने वर्ष 2007 में उन्हें इसरो यंग साइंटिस्ट अवॉर्ड से सम्मानित किया था। पूर्व में दिए अपने साक्षात्कारों में रितू करिधल ने बताया था कि भौतिक विज्ञान और गणित में उनकी खास रुचि रही है। वो बचपन में नासा और इसरो के बारे में अखबार में छपी खबरों या अन्य जानकारियों की कटिंग काटकर अपने पास रखती थीं। पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने इसरो में नौकरी के लिए आवेदन किया और स्पेस साइटिस्ट बन गईं। करीब 21 वर्ष से इसरो में बतौर वैज्ञानिक काम कर रहीं रितू करिधल पहले भी मार्स ऑर्बिटर मिशन समेत कई महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट पर काम कर चुकी हैं।
मंगल की महिलाएं;-बीबीसी को पूर्व में दिए एक साक्षात्कार में रितू करिधल ने कहा था कि आम मान्यता है कि पुरुष मंगल ग्रह से आते हैं और महिलाएं शुक्र ग्रह से आती हैं। मंगल अभियान की सफलता के बाद लोगों ने महिला वैज्ञानिकों के लिए ‘मंगल की महिलाएं’ कहना शुरू कर दिया। ये सुनकर अच्छा लगता है।
बेस्ट वुमन साइंटिस्ट पुरस्कार हासिल कर चुकी हैं एम वनीता:-चंद्रयान-2 की प्रोजेक्ट डायरेक्टर की जिम्मेदारी इसरो की दूसरी महिला वैज्ञानिक एम वनीता को सौंपी गई है। एम वनीता के पास डिजाइन इंजीनियरिंग का लंबा अनुभव है। वह काफी समय से सेटेलाइट्स पर काम कर रही हैं। वर्ष 2006 में एस्ट्रोनॉमिकल सोसायटी ऑफ इंडिया ने उन्हें बेस्ट वुमन साइंटिस्ट के पुरस्कार से सम्मानित किया था। जानकारों के अनुसार किसी भी मिशन में प्रोजेक्ट डायरेक्टर की भूमिका काफी अहम होती है। अभियान की सफलता की पूरी जिम्मेदारी प्रोजेक्ट डायरेक्टर पर ही होती है। वह पूरे अभियान का मुखिया होता है। किसी भी अंतरिक्ष अभियान में एक से ज्यादा मिशन डायरेक्टर हो सकते हैं, लेकिन प्रोजेक्ट डायरेक्टर केवल एक ही होता है। प्रोजेक्ट डायरेक्टर के ऊपर एक प्रोग्राम डायरेक्टर भी होता है।
क्या है चंद्रयान 2 मिशन:-इसरो का चंद्रयान-2 मिशन बेहद महत्वपूर्ण है। इसमें एक ऑर्बिटर है, विक्रम नाम का एक लैंडर है और प्रज्ञान नाम का एक रोवर है। इस मिशन के तहत भारत पहली बार चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा, जो बहुत मुश्किल होती है। इस पूरे मिशन पर 600 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च होंगे। चंद्रयान-2 का वजन 3.8 टन है। इसे जीएसएलवी मार्क तीन अंतरिक्ष यान के जरिए चांद पर भेजा जाएगा। इसरो को इस मिशन से काफी उम्मीदें हैं। भारत से पहले अमेरिका, रूस और चीन ही चांद की सतह पर अपना यान उतार सके हैं। चंद्रयान-2, 6 या 7 सितंबर को चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव के पास लैंड करेगा। भारत अमेरिका, रूस और चीन के बाद चांद की सतह पर यान उतारने वाला चौथा देश होगा। अभी तक किसी देश ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास यान नहीं उतारा।
चंद्रयान-2 मिशन का उद्देश्य:-चंद्रयान-2 उपग्रह, चांद पर पानी और खनिज आदि का पता लगाएगा। ऑर्बिटर अपने पेलोड के साथ चांद का चक्कर लगाएगा। लैंडर चंद्रमा पर उतरेगा और वह रोवर को स्थापित करेगा। ऑर्बिटर और लैंडर जुड़े रहेंगे, जबकि रोवर लैंडर के अंदर रहेगा। रोवर एक चलने वाला उपकरण रहेगा जो चांद की सतह पर प्रयोग करेगा। लैंडर और ऑर्बिटर भी प्रयोगों में इस्तेमाल होंगे।
चंद्रयान-1 मिशन:-इसरो ने इससे पहले अक्टूबर 2008 में चंद्रयान-1 उपग्रह को चांद पर भेजा था। इस उपग्रह को चांद की सतह से 100 किमी दूर कक्षा में स्थापित किया गया था। उस वक्त यह यान भारत के पांच, यूरोप के तीन, अमेरिका के दो और बुल्गारिया का एक पेलोड लेकर गया था। चंद्रयान-1 मिशन दो साल का था। हालांकि खराबी की वजह से वह मिशसन एक साल में ही खराब हो गया था। इसरो का कहना है कि उसने चंद्रयान-1 की कमियों से सबक लेकर चंद्रयान-2 मिशन की तैयारी पूरी की है। इसलिए इसरो को उम्मीद है कि उसका ये मिशन पूरी तरह से सफल रहेगा।

पुलवामा। जम्मू कश्मीर के पुलवामा के अवंतीपोरा के ब्राव बंदिना इलाके में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच जारी मुठभेड़ में दो आतंकवादियों को मार गिराया गया है। मुठभेड़ के दौरान जिस घर में आतंकवादी छिपे हुए थे, उसमें आग लग गई। जान बचाने के लिए आतंकवादी गोलियां की बौछार करते हुए घर से बाहर निकले परंतु वहां मुस्तैदी से तैनात सुरक्षाबलों ने उन्हें वहीं मार गिराया। फिलहाल दोनों ओर से गोलीबारी थम चुकी है।आसपास के इलाकों में आैर भी आतंकवादी छिपे हो सकते है। इसी शक के साथ सुरक्षाबलों ने तलाशी अभियान चलाया हुआ है। इस मुठभेड़ के चलते प्रशासन ने जहां इंटरनेट सेवा बंद रखी है वहीं लोगों की सुरक्षा के मद्देनजर बनिहाल रेल सेवा को भी फिलहाल बंद रखा गया है। मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों की पहचान इरफान अमीन डिगो और तस्द्दक अहमद शाह के रूप में हुई। लश्कर-ए-तोयबा से संबंधित ये दोनों आतंकी पुलवामा के ही रहने वाले थे।
अनंतनाग में CRPF पर आतंकी हमला, 5 जवान शहीद:-इससे पहले बुधवार को आतंकियों ने दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षाबलों पर घात लगाकर हमला किया। इस हमले में सीआरपीएफ के दो एएसआइ और तीन कांस्टेबल समेत 5 जवान शहीद हो गए। जवाबी कार्रवाई में एक आतंकी भी मारा गया। इस हमले में चार जवान, अनंतनाग के थाना प्रभारी और एक युवती सहित छह लोग घायल हो गए।आतंकी सड़क किनारे आम लोगों के बीच छिपे थे। हमले के बाद भाग निकले आतंकियों की तलाश में सुरक्षाबलों ने अभियान छेड़ दिया है। यह हमला उस जगह हुआ जहां से श्री अमरनाथ यात्रा गुजरेगी। यह जगह पहलगाम-अनंतनाग मार्ग पर ही है।
लोगों के बीच छिपे थे आतंकी:-जानकारी के मुताबिक, बुधवार शाम करीब 4.55 बजे सीआरपीएफ की 116वीं वाहिनी और राज्य पुलिस के जवानों के एक संयुक्त कार्यदल ने अनंतनाग में केपी रोड पर आक्सफोर्ड स्कूल के पास नाका लगाया था। इसी दौरान आतंकी सड़क किनारे खड़े लोगों के बीच ही कहीं छिपे बैठे थे। उन्होंने मौका पाते ही सुरक्षाबलों पर हमला कर दिया। इस हमले में नौ सुरक्षाकर्मी और वहां से गुजर रही एक युवती समेत 10 लोग घायल हो गए।अनंतनाग आतंकी हमले के बाद एकबार फिर गृह मंत्री अमित शाह एक्शन मोड में आ गए हैं। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल(सीआरपीएफ) के डीजी आरआर भटनागर अनंतनाग आतंकी हमले की जानकारी देने के लिए गुरुवार को गृह मंत्रालय पहुंचे थे।
'अनंतनाग हमले को अंजाम देने वाले सभी आतंकी जिंदा और सुरक्षित':-अनंतनाग में सुरक्षाबलों पर घात लगाकर हमला करने वाले आतंकी संगठन अल-उमर मुजाहिदीन ने दावा किया है कि सीआरपीएफ के दो एएसआइ और तीन कांस्टेबल को शहीद करने वाले सभी आतंकी जिंदा हैं और इस समय सभी सुरक्षित स्थान पर हैं। अल-उमर मुजाहिदीन ने यह भी कहा कि सुरक्षाकर्मी जो एक आतंकवादी को मारने का दावा कर रहे हैं, वह सही नहीं है। हमले को अंदाज देने के बाद उनके साथी घटना स्थल से सुरक्षित भागने में कामयाब हो गए थे।

 

राजनाथ सिंह ने DRDO की वर्तमान और भविष्य की योजनाओं को लेकर की समीक्षा
नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार (14 जून, 2019) को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) की वर्तमान और भविष्य में शुरू होने वाली योजनाओं को लेकर समीक्षा की है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार (14 जून, 2019) को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) की वर्तमान और भविष्य की योजनाओं को लेकर समीक्षा की है।इससे पहले आज सुबह उन्होंने वन रैंक वन पेंशन (OROP) के तहत रिटायर्ड सैनिकों की पेंशन की बराबरी का फैसला किया है। उन्होंने OROP के तहत अगले संशोधन के प्रकार और तौर-तरीकों के लिए एक कमिटी का भी गठन किया है।गौरतलब है कि आइएएस अधिकारी कुंदन कुमार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का निजी सचिव नियुक्त किया गया है। कुमार 2004 बैच के बिहार कैडर के आइएएस अधिकारी हैं। उनका कार्यकाल तीन फरवरी 2020 तक रहेगा। कार्मिक मंत्रालय के अनुसार, मध्य प्रदेश कैडर के 2001 बैच के आइएएस अधिकारी नवनीत मोहन कोठारी कृषि एवं कृषक कल्याण, ग्रामीण विकास व पंचायतीराज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के निजी सचिव बनाए गए हैं।

कोच्चि। कोच्चि सिटी पुलिस ने उस सर्किल इंस्‍पेक्‍टर का पता लगाने के लिए खोजबीन शुरू की है, जिसका अपने वरिष्‍ठ अधिकारी से गुरुवार को कथित तौर पर विवाद हो गया था। पुलिस के मुताबिक, कोच्चि मध्‍य, पुलिस थाने के सर्किल इंस्‍पेक्‍टर वीएस नवास गुरुवार सुबह से लापता हो गए हैं। बताया जाता है कि बुधवार रात को नवास का उनके वरिष्‍ठ अधिकारी से वायरलेस सेट पर ही विवाद हो गया था।पुलिस ने बताया कि डीसीपी जी. पूंगुझाली (DCP G Poonguzhali) के नेतृत्‍व में चार सदस्‍यीय विशेष टीम गठित की गई है। यह जांच वीएस नवास की पत्‍नी द्वारा एफआईआर दर्ज कराने के बाद शुरू की गई है। तिरुवनंतपुरम में संवाददाताओं से बातचीत में राज्‍य पुलिस प्रमुख लोकनाथ बेहेरा (Loknath Behera) ने कहा कि उम्‍मीद है कि विशेष टीम जल्‍द ही लापता अधिकारी को खोज लेगी।राज्‍य पुलिस प्रमुख ने बताया कि मैं एक बार निजी तौर पर वीएस नवास से बात करूंगा और उस स्थिति को समझने की कोशिश करुंगा जिसकी वजह से उन्हें लापता होने के लिए मजबूर किया गया। उन्‍होंने यह भी बताया कि विशेष जांच टीम नवास और उनके वरिष्‍ठ अधिकारी से हुए विवाद की भी छानबीन कर रही है। प्राप्‍त जानकारी के मुताबिक, नवास को आखिरी बार अलप्‍पुझा जिले (Alappuzha district) के कयामकुलम (Kayamkulam) में देखा गया था।

बेंगलुरू। कर्नाटक में सीएम एच डी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली कैबिनेट का आज विस्तार हो गया। नई कैबिनेट में दो नए मंत्रियों ने राजभवन में शपथ ली। एच नागेश और आर शंकर ने राजभवन में मंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल वजूभाई वाला ने राजभवन में मंत्रिपरिषद में शामिल होने वाले दोनों सदस्यों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।बता दें, कर्नाटक में कुल 34 मंत्री पद में से कांग्रेस के 22 और जेडीएस के 12 मंत्री हैं। जिसमें तीन मंत्रियों के पद खाली थे। चूंकि कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन की सरकार है इसलिए मंत्री पदों के लेकर दोनों के बीच एक समझौता हुआ है। इस समझौते के तहत खाली 3 पदों में से दो दो पद जेडीएस के और एक पद कांग्रेस का है।बता दें कुमारस्वामी सरकार की कैबिनेट का विस्तार पहले 12 जून को होने वाला था, लेकिन ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता लेखक गिरीश कर्नाड के निधन की वजह से कर्नाटक में तीन दिन का राजकीय शोक घोषित कर दिया गया था। इस वजह से आज कैबिनेट का विस्तार होने वाला है।

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में आतंकी फंडिग को लेकर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की जांच का सामना कर रहे आलगाववादी नेता मसरत आलम, शब्बीर शाह और आसिया अंद्राबी को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने 12 जुलाई तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। पिछली सुनवाई के दौरान कोर्ट ने तीनों आरोपियों से अलग-अलग पूछताछ की थी। वहीं, मसरत ने सिफारिश की थी कि उससे ईद के बाद पूछताछ की जाए। सुनवाई के दौरान एनआइए ने अदालत को बताया कि आरोपियों से इस वक्त कोई पूछताछ की जरूरत नहीं है। एनआइए का तर्क सुनने के बाद अदालत ने तीनों को 30 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। जानकारी के लिए बता दें कि मसरत आलम को एक रैली के दौरान भारत विरोधी नारे और पाकिस्तानी झंड़े लहराने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।पिछली सुनवाई के दौरान अतिरिक्त सत्र न्यायधीश राकेश सयाल ने तीनों को 10 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। कश्मीर घाटी में हिंसा के बाद 2017 में एजेंसी ने इन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। एनआईए द्वारा की जा रही पूछताछ के दौरान आसिया अंद्राबी ने खुलासा किया था कि वह पाकिस्तानी सेना के एक अधिकारी के जरिए लश्कर-ए-तैयबा के सरगना हाफिज सईद के संपर्क में आई थी। अधिकारी दुख्तारन-ए-मिल्लत नेता अंद्राबी का रिश्तेदार था। इस केस की निगरानी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल द्वारा की जा रही है।

Page 1 of 615

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें