खेल

खेल (4819)

नई दिल्ली। विराट कोहली इस ऑस्ट्रेलिया दौरे पर अपने फेवरेट मैदान एडिलेड में बड़ी पारी खेलने से चूक गए। इस टेस्ट मैच में विराट ने पहली पारी में तीन रन और दूसरी पारी में 34 रन बनाए थे। इस स्कोर के बावजूद भारतीय कप्तान ने वो कमाल कर दिया जो क्रिकेट इतिहास में आज तक कोई भी बल्लेबाज नहीं कर पाया था। यही नहीं इस टेस्ट मैच को जीतकर विराट ने एशियाई कप्तान के तौर पर भी कमाल का रिकॉर्ड अपने नाम किया। भारतीय कप्तान विराट कोहली ऐसे ही रन मशीन के नाम से नहीं जाने जाते। वो भारत के लिए क्रिकेट के हर प्रारूप में रन बना रहे हैं। भले ही ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट में उनका बल्ला नहीं चला बावजूद इसके उन्होंने एक ऐसा रिकॉर्ड अपने नाम किया जो दुनिया के किसी भी बल्लेबाज के नाम पर अब तक नहीं था। विराट कोहली क्रिकेट इतिहास के पहले ऐसे बल्लेबाज बन गए हैं जिन्होंने तीन लगातार वर्षों में 2500 से ज्यादा रन बनाए हैं। वर्ष 2016 में विराट ने 2595 रन बनाए थे। इसके बाद अगले वर्ष यानी 2017 में उनके बल्ले से 2818 रन निकले और इस वर्ष यानी 2018 में वो अब तक 2513* रन बना चुके हैं।विराट कोहली ऐसे पहले एशियाई कप्तान बन गए हैं जिन्होंने इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट मैच जीता है। इस वर्ष की शुरुआत में विराट की कप्तानी में भारत ने तीन टेस्ट मैचों की सीरीज दक्षिण अफ्रीका में खेला था। इस सीरीज में तो भारत को हार मिली लेकिन उन्होंने जोहनसबर्ग में जीत हासिल की। इसके बाद इंग्लैंड दौरे पर टेस्ट सीरीज में एक बार फिर से भारतीय टीम को हार मिली पर टीम इंडिया ने विराट की कप्तानी में नॉटिंघम टेस्ट मैच जीता था। वहीं ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विराट की कप्तानी में भारत को एडिलेड टेस्ट मैच में जीत मिली। इसके अलावा भारतीय टीम एक ही कैलेंडर वर्ष में ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में टेस्ट मैच जीतने वाली दुनिया की पहली टीम बन गई है।

नई दिल्ली। विदेशी धरती पर टेस्ट मैच जीतना भारतीय टीम के लिए हमेशा से बड़ी चुनौती रहा है। खास तौर पर जब इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका दौरे पर टीम जाती है तो ये उनके लिए बड़ी परीक्षा होती है। दुनिया की नंबर एक टेस्ट टीम भारत का इस वर्ष इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका दौरा काफी खराब साबित हुआ। हालांकि ऑस्ट्रेलियाई धरती पर टेस्ट सीरीज में भारत की शुरुआत जीत के साथ हुई है। इस वर्ष भारत ने अब तक विदेशी धरती पर तीन टेस्ट मैच जीते हैं। इन टेस्ट मैचों में भारतीय टीम को जीत दिलाने में इस खिलाड़ी ने अहम भूमिका निभाई है।भारतीय टेस्ट टीम के मध्यक्रम के बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड टेस्ट मैच की दूसरी पारी में बेहतरीन 70 रन बनाए। उन्होंने पुजारा के साथ टीम को संभाला और टीम का स्कोर 300 पार हुआ। अगर रहाणे ऐसी पारी नहीं खेलते तो शायद ही भारतीय टीम को जीत मिलती। खैर रहाणे ने वक्त टीम अहम रन बनाए और इस वर्ष ये विदेशी धरती पर भारतीय टीम की टेस्ट में तीसरी जीत थी। एडिलेड टेस्ट में टीम इंडिया को 31 रन सी जीत मिली और इस जीत में अजिंक्य रहाणे के योगदान को नकारा नहीं जा सकता।इससे पहले इस वर्ष दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड दौरे पर भी भारतीय टीम ने एक-एक टेस्ट मैच जीते। दक्षिण अफ्रीका में भारत ने जोहानसबर्ग टेस्ट में मेजबान टीम को 63 रन से हराया था। इस मुकाबले में रहाणे ने जो 48 रन की पारी खेली थी वो किसी शतकीय पारी से कम नहीं था और इस पारी ने काफी बड़ा अंतर पैदा कर दिया था या यूं कहें कि टीम की जीत की नींव इसी पारी से रखी गई थी। इसके बाद इंग्लैंड दौरे पर भी भारत को एक ही टेस्ट में जीत मिली थी। अगस्त में भारत ने नॉटिंघम टेस्ट में इंग्लैंड को 231 रन के बड़े अंतर से हराया था। इस मैच में इंग्लिश टीम के खिलाफ रहाणे ने 131 गेंदों का सामना करते हुए 81 रन बनाए थे और भारतीय टीम के लिए ये काफी अहम पारी थी। अजिंक्य रहाणे विदेशी धरती पर काफी प्रभावी रहे हैं और टेस्ट में उन्होंने अपनी सरजमीं पर जो पहला शतक लगाया था उससे पहले वो विदेश में पांच शतक लगा चुके थे। रहाणे विदेशी धरती पर अहम मौके पर टीम के लिए बड़े संकटमोचक साबित होते रहे हैं। इस वर्ष तीन टेस्ट में विदेशी धरती पर मिली जीत में रहाणे की भूमिका से साबित करता है कि वो भारत के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण बल्लेबाज हैं। आपको बता दें कि एक कैलेंडर वर्ष में ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड व दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट मैच जीतने वाला भारत दुनिया का पहला देश बन गया है। वहीं विराट पहले ऐसे एशियाई कप्तान बन गए हैं जिन्होंने इन तीनों देशों में टेस्ट मैच जीते हैं।

नई दिल्ली। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर्स स्लेजिंग के लिए खूब जाने जाते हैं लेकिन इस बार भारतीय खिलाड़ी भी पीछे नहीं हैं। हालांकि खेल के दौरान थोड़ी बहुत स्लेजिंग तो चलती ही रहती है। भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर रिषभ पंत पहले टेस्ट मैच के दौरान खूब स्लेजिंग की। पहले उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के ओपनर बल्लेबाज उस्मान ख्वाजा की खिंचाई की और अब उन्होंने विकेट के पीछे से पैट कमिंस को अपना निशाना बनाया। रिषभ ने कमिंस के जो भी बातें कही उसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। पहले टेस्ट मैच के दौरान हुआ ये कि रिषभ पंत विकेट के पीछे से पैट कमिंस की बल्लेबाजी के दौरान कुछ-कुछ बोलकर उनका ध्यान भटकाने की कोशिश कर रहे थे। उनकी आवाज स्टंप माइक के जरिए सुनाई दे रही थी। उसी वक्त मैच का प्रसारण कर रहे चैनल ने कमेंट्री बंद करवा दी ताकि उनकी स्लेजिंग को स्टंप माइक के जरिए सभी दर्शक आराम से सुन सकें। चैनल ने ऐसा ही किया और अश्विन के इस पूरे ओवर में कमेंट्री को रोक दिया गया। इस ओवर के दौरान पंत विकेट के पीछे से कमिंस को छेड़ते नजर आए। पंत कह रहे थे कि 'इतना आसान नहीं है'। अगली ही गेंद पर उन्होंने कहा पैट कमिंस के कहा कि कम ऑन, कुछ छक्के लगाओ। इस बीच वो अश्विन को भी कुछ सलाह देते नजर आए। वो अश्विन से कह रहे थे कि उसे पिच पर ही गेंद डालो। फिर अगली गेंद पर रिषभ ने कहा कि पैट तुम खराब गेंदों को बाहर क्यों छोड़ रहे हो। रिषभ की इन बातों का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।इस मैच में रिषभ पंत ने विकेटकीपिंग में कमाल करते हुए कुल 11 कंगारू बल्लेबाजों का कैच पकड़ा और विश्व रिकॉर्ड की बराबरी की। वहीं भारत ने इस मैच को 31 रन से जीतकर इतिहास रच दिया। दूसरी पारी में भारत ने कंगारू टीम को जीत के लिए 323 रन का लक्ष्य दिया था जिसका पीछा करते हुए मेजबान टीम 291 रन पर ऑल आउट हो गई। मैच के बाद रिषभ पंत ने कहा कि मैं स्लेजिंग के द्वारा उन्हें परेशान करके खूब मजे ले रहा था। वो (ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज) मेरी बातों पर ध्यान दे रहे थे ना कि उनका ध्यान गेंदबाजों की तरफ था।

नई दिल्ली। एडिलेड टेस्ट मैच में भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 31 रन से हरा दिया और इस टेस्ट सीरीज में बेहतरीन शुरुआत की। इस मैदान पर भारतीय टीम को किसी टेस्ट मैच में 15 वर्ष बाद जीत नसीब हुई। इससे पहले वर्ष 2003 में भारत ने यहां जीत दर्ज की थी। इस जीत के बाद टीम इंडिया के खिलाड़ी तो खुश थे ही कोच रवि शास्त्री भी काफी खुश नजर आए। भारत की जीत के बाद कोच रवि शास्त्री मैदान पर आए और इस जीत पर अपनी बातें कही। इस दौरान गावस्कर से बातचीत करते हुए कुछ ऐसा कह गए जिसके बाद वो फैंस के निशाने पर आ गए हैं। शास्त्री बात करते हुए टीम और खिलाड़ियों का जिक्र किया साथ ही साथ उन्होंने मैच के रोमांच के बारे में भी कुछ बातें कही। इसके अलावा भावना में बहकर वो हिंदी में कुछ अपशब्द भी कह गए। सुनील गावस्कर की बात पर शास्त्री ने कहा कि वो हिंदी में कुछ कहना चाहते हैं। उन्होंने कहा बिल्कुल नहीं छोड़ेंगे लेकिन उसके बाद उन्होंने ऐसी बात कही जो शायद उनके लिए शोभा नहीं देता था। उनके इस अपशब्द के बाद उन्हें सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जाने लगा है। हांलांकि उन्होंने जो बातें कही थीं उसे लिखना यहां उचित नहीं है।फिलहाल शास्त्री को जबरदस्त तरीके से ट्रोल किया जा रहा है।आपको बता दें कि भारत ने ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए 323 रन का लक्ष्य दिया था लेकिन कंगारू टीम 291 रन पर ऑल आउट हो गई और भारत को 31 रन से जीत मिली। भारत अब चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 1-0 से आगे है।

नई दिल्ली। एडिलेड टेस्ट मैच भारतीय टीम के साथ-साथ चेतेश्वर पुजारा के लिए भी खास साबित हुआ। इस मैच में भारतीय टीम ने इतिहास रच दिया तो पुजारा को उनके बेहतरीन प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया। भारतीय टीम की इस जीत में वैसे तो कई खिलाड़ियों का योगदान रहा लेकिन सबसे अहम रोल पुजारा का ही रहा। पुजारा ने मेजबान टीम के गेंदबाजों को जमकर छकाया और शतक भी लगाया। पुजारा द्वारा मैन ऑफ द मैच का खिताब जीतने के बाद बीसीसीआइ ने भी ट्वीट कर उन्हें बधाई दी। पहली पारी में पुजारा ने संघर्ष कर रहे भारतीय टीम को मुसीबत से निकाला और 246 गेंदों पर 123 रनों की बेहतरीन पारी खेली। उनकी इस पारी ने भारतीय टीम को फ्रंट फुट पर ला दिया। इसके बाद दूसरी पारी में भी उन्होंने 204 गेंदों का सामना करते हुए 71 रन की शानदार पारी खेली। उनकी इस शानदार बल्लेबाजी के बाद उन्हें प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया। इस खिताब को जीतने के बाद उन्हें काफी लोगों ने बधाई दी लेकिन बीसीसीआइ का बधाई संदेश सबसे खास रहा। बीसीसीआइ ने बधाई के साथ-साथ वर्ष 2003 में एडिलेड में मिली यादगार जीत को फिर से याद किया। इस मैच में राहुल द्रविड़ मैन ऑफ द मैच बने थे और उन्होंने भारतीय टीम की जीत में वही भूमिका निभाई थी जो पुजारा ने इस बार निभाई। वर्ष 2003 में खेले गए उस मैच में द्रविड़ ने पहली पारी में 233 रनों की बेहतरीन पारी खेली थी और दूसरे मैच में उन्होंने नाबाद 72 रन की पारी खेलकर भारतीय टीम को जीत दिलाई थी। इन दोनों जीत में सबसे कॉमन बात ये रही कि नंबर तीन के बल्लेबाज की वजह से ही टीम इंडिया को जीत मिली थी। इस जीत को याद करते हुए बीसीसीआइ ने ट्वीट किया। अपने ट्वीट में बीसीसीआइ ने लिखा कि इतिहास ने खुद को दोहराया। वर्ष 2003 एडिलेड टेस्ट में नंबर तीन द्रविड़ प्लेयर ऑफ द मैच बने और वर्ष 2018 में टीम के नंबर तीन बल्लेबाज पुजारा मैन ऑफ द मैच बने।

 

 

एडिलेड। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच एडिलेड टेस्ट में टीम इंडिया ने मजबूत पकड़ बना ली है। इस मैच के चौथे दिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी बाजुओं पर काली पट्टी पहनकर मैदान पर उतरे। ऑस्ट्रेलिया की टीम एक खास वजह से इस काली पट्टी को पहनकर मैदान पर उतरी थी।
इस वजह से पहनी काली पट्टी;-ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने इस सीरीज़ के पहले टेस्ट मैच के चौथे दिन काली पट्टी शोक व्यक्त करने के लिए पहली। ये शोक ऑस्ट्रेलियाई टीम ने पूर्व तेज़ गेंदबाज़ कॉलिन गेस्ट के निधन पर जताया। कॉलिन गेस्ट का जन्म 7 अक्टूबर 1937 को ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में हुआ था। उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए एक टेस्ट मैच खेला था। ये टेस्ट मैच उन्होंने 1963 में इंग्लैंड के खिलाफ सिडनी के मैदान पर खेला था। वे 222वें ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट खिलाड़ी थे। कॉलिन ने 1958-59 से 1963-64 तक अपना प्रथम श्रेणी क्रिकेट विक्टोरिया के लिए खेला और उसके बाद वे वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के लिए भी खेले थे।
ऐसा रहा है मैच का हाल;-एडिलेड टेस्ट में भारतीय टीम ने अपनी पकड़ मजबूत कर ली है। इस मुकाबले की दूसरी पारी में भारतीय टीम 307 रन बनाकर आउट हो गई थी। पहली पारी के 15 रन की बढ़त के साथ ऑस्ट्रेलिया को इस टेस्ट को जीतने के लिए 323 रन का लक्ष्य मिला। आपको बता दें कि एडिलेड में कभी भी चौथी पारी में 315 रन से ज़्यादा का लक्ष्य चेज नहीं हुआ है। खबर लिखे जाने तक ऑस्ट्रेलिया ने 71 रन बनाते हुए तीन विकेट गंवा दिए थे और उसे जीत के लिए 252 रन और बनाने हैं।

एडिलेड। भारतीय क्रिकेट टीम के सहायक कोच संजय बांगड़ ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरी पारी में टीम के निचले क्रम के बल्लेबाज जिस तरह से आउट हुए वो टीम के लिए चिंता का विषय है और यहां पर मेहनत करने की जरूरत है। दूसरी पारी में भारतीय टीम के सात विकेट सिर्फ 73 रन पर ही गिर गए थे और आखिरी के पांच विकेट मेजबान टीम ने 25…
एडिलेड। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर नाथन लियोन ने कहा कि उनकी टीम दो महीने पहले पाकिस्तान के खिलाफ ड्रॉ रहे मुकाबले से प्रेरणा लेगी और सोमवार को यहां भारत के खिलाफ पहले टेस्ट के पांचवें दिन जीत हासिल करने की कोशिश करेगी। लियोन ने कहा कि पांचवें दिन भी एडिलेड ओवल का विकेट बल्लेबाजी के लिए अच्छा होगा और मेजबान टीम 323 रन के लक्ष्य को हासिल करने का प्रयास कर सकती…
नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह का वक्त शायद अच्छा नहीं चल रहा या फिर उनकी उम्र अब खेल पर हावी होने लगी है। भारत की तरफ से 2019 आइसीसी विश्व कप क्रिकेट खेलने का सपना उनका टूट चुका है क्योंकि विश्व कप के लिए उन्हें भारतीय टीम में शामिल किया जाए ऐसा लगता नहीं है। हालांकि वो आइपीएल में खेलने का सपना जरूर देख रहे हैं जिसके लिए उन्होंने…
नई दिल्ली। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच एडिलेड में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच पर कोहली एंड कंपनी ने शिकंज़ा कस लिया है। इस मैच को जीतने के लिए भारत को अब छह विकेट की दरकार है। वहीं ऑस्ट्रेलियाई टीम को जीत हासिल करने के लिए 219 रन बनाने हैं। चौथे दिन का खेल खत्म होने तक ऑस्ट्रेलिया ने चार विकेट के नुकसान पर 104 रन बना लिए। शॉन…
Page 1 of 345

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें