खेल

खेल (4427)


दुबई (Hum Hindustani)- भारत ने एशिया कप में बुधवार को पाकिस्तान के खिलाफ शानदार प्रदर्शन करते हुए नया इतिहास बना दिया. उसने चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को 8 विकेट से हराया. भारत ने जब जीत दर्ज की, तब उसकी पारी में 126 गेंदें फेंकी जानी बाकी थीं. यह गेंद बाकी रहने के लिहाज से पाकिस्तान पर भारत की सबसे बड़ी जीत है. उसने इससे पहले 2006 में पाकिस्तान पर 105 गेंद बाकी रहते हुए जीत दर्ज की थी.

एशिया कप के पांचवें मैच में पूरी तरह भारत का दबदबा रहा. उसने टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने वाले पाकिस्तान को महज 43.1 ओवर में 162 रन पर रोक दिया. इसके बाद जीत के लिए जरूरी रन 29 ओवर में 2 विकेट खोकर बना लिए.

भारतीय जीत के असली हीरो गेंदबाज रहे. भुवनेश्वर कुमार ने शुरुआती पांच ओवर में ही पाकिस्तान के दोनों ओपनरों को पवेलियन लौटा दिया. बीच के ओवर स्पिनरों के नाम रहे. इस दौरान पार्ट टाइम स्पिनर केदार जाधव ने तीन विकेट पाकिस्तान की कमर तोड़ दी. इसके बाद भुवनेश्वर और जसप्रीत बुमराह ने जल्दी-जल्दी विकेट झटककर पाकिस्तान को 50 ओवर से पहले ही ऑलआउट कर दिया.
रोहित-धवन ने 86 रन की साझेदारी की
छोटे लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम ने अच्छी शुरुआत की. कप्तान रोहित शर्मा (52) और शिखर धवन (46) ने पहले विकेट के लिए 86 रन की साझेदारी की. रोहित शर्मा अर्धशतक बनाने के ठीक बाद शादाब की गुगली का शिकार बने. धवन अर्धशतक के करीब पहुंचकर प्वाइंट पर कैच दे बैठे. जब वे आउट हुए तब टीम का स्कोर 104 रन हो चुका था. इसके बाद अंबति रायुडू और दिनेश कार्तिक ने टीम को लक्ष्य तक पहुंचा दिया.

भारत की 53वीं जीत
भारत की यह पाकिस्तान के खिलाफ 53वीं जीत है. दोनों टीमों के बीच वनडे में अब तक 130 मैच हुए हैं. पाकिस्तान ने इनमें से 73 मैच जीते हैं. दोनों टीमों के बीच चार मैच बेनतीजा रहे हैं.

एशिया कप में सातवीं जीत
भारत ने पाकिस्तान को एशिया कप में सातवीं बार हराया है. उसने इनमें से छह मैच वनडे फॉर्मेट और एक मैच टी20 फॉर्मेट में जीते हैं. साल 2016 में एशिया कप टी20 फॉर्मेट में खेला गया था. पाकिस्तान ने एशिया कप में भारत को 5 बार हराया है.

अब 23 सितंबर को सामना
भारत और पाकिस्तान की टीमें अब 23 सितंबर को आमने सामने होंगी. यह सुपर-4 राउंड का मैच होगा. बांग्लादेश और अफगानिस्तान भी सुपर-4 में पहुंच चुके हैं. सुपर-4 राउंड में बेहतर प्रदर्शन करने वाली दो टीमें फाइनल में जगह बनाएंगी. फाइनल मुकाबला 28 सितंबर को खेला जाएगा.

दुबई। हांगकांग के खिलाफ एशिया कप के पहले मैच में शतक से पूर्व शिखर धवन रन बनाने के लिए जूझ रहे थे लेकिन भारत के इस सलामी बल्लेबाज ने दावा किया कि वह कभी खराब फार्म में नहीं थे। धवन ने हांगकांग के खिलाफ मंगलवार को 127 रन की पारी खेली जिससे भारत ने 26 रन की जीत के साथ टूर्नामेंट की विजयी शुरुआत की। इस मैच के बाद जब उनसे हांगकांग से हार की आशंका के बारे में पूछा गया, धवन ने कहा कि ऐसा उनके मन में कभी नहीं आया।इस सलामी बल्लेबाज ने 14वां एकदिवसीय शतक जड़ने के बाद कहा, ‘यह फार्म का सवाल नहीं है, मैं अच्छी बल्लेबाजी कर रहा था लेकिन रन नहीं बना पा रहा था। रन भी बना पाना शानदार है।’ इंग्लैंड में टेस्ट श्रृंखला की आठ पारियों में धवन एक भी अर्धशतक नहीं जड़ पाए। हाल में एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में भी वह अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में बदलने में नाकाम रहे।खिताब के प्रबल दावेदारों में शामिल भारत के लिए हांगकांग पर पहले मैच में जीत आसान नहीं रही और एक बार फिर टीम इंडिया के कमजोर मध्यक्रम को लेकर सवाल उठने लगे हैं जिसे इंग्लैंड दौरे पर भी जूझना पड़ा था।धवन ने हालांकि टीम के अपने साथियों का बचाव करते हुए कहा, ‘पिछले चार साल में हमने इतनी सारी श्रृंखलाएं जीती हैं और कुछ गंवाई भी हैं। हम इंसान हैं। चिंता इतनी नहीं होनी चाहिए कि अच्छे नतीजों को भी भुला दिया जाए।’उन्होंने कहा, ‘कुछ विफलताएं सभी जीत पर हावी नहीं होनी चाहिए। (अंबाती) रायुडू को देखो, वह इतना अच्छा खेला और वह इतने लंबे समय बाद खेल रहा था। इसलिए यह अच्छा है।’निजाकत खान (92) और विरोधी कप्तान अंशुमन रथ (73) के बीच 174 रन की पहले विकेट की साझेदारी के संदर्भ में धवन ने कहा, ‘हमने उम्मीद नहीं की थी कि वे 170 रन की साझेदारी करेंगे लेकिन वे अच्छा खेले। हमारी गेंदबाजी बेहतर हो सकती थी लेकिन हमें उनके बल्लेबाजों को श्रेय देना होगा, उनके सलामी बल्लेबाज अच्छा खेले।’उन्होंने कहा, ‘विकेट से स्विंग और सीम नहीं मिल रही थी और हमारे गेंदबाज ब्रेक के बाद खेल रहे थे। लय में आने में भी समय लगता है। भुवी (भुवनेश्वर कुमार) ब्रेक के बाद वापसी कर रहा है और शार्दुल ठाकुर इंग्लैंड में काफी नहीं खेला।’मंगलवार को हार की आशंका के बारे में पूछने पर धवन ने कहा कि ऐसा उनके मन में कभी नहीं आया। उन्होंने कहा, ‘हमें पता था कि शीर्ष क्रम को आउट करने के बाद हम मैच में वापसी कर सकते हैं। उन्होंने अच्छी टक्कर दी। प्रत्येक मैच से सीखना हमेशा अच्छा होता है।’

नई दिल्ली। पाकिस्तान क्रिकेट टीम को भारत के खिलाफ पहले ग्रुप मुकाबले में अपने धाकड़ ओपनर बल्लेबाज फखर जमां से काफी उम्मीदें थीं लेकिन उन्होंने अपनी टीम को बुरी तरह से मायूस कर दिया। फखर इन दिनों काफी अच्छे फॉर्म में चल रहे थे लेकिन भारत के खिलाफ वो दबाव में नजर आए और उन्होंने अपना विकेट आसानी से गवां दिया। फखर ने इस मुकाबले से पहले भारत के खिलाफ खेले गए वनडे मैच में शतकीय पारी खेली थी लेकिन इस मैच में वो अपना खाता तक नहीं खोल पाए।
फखर जमां ने शून्य पर गवांया अपना विकेट:-पाकिस्तान क्रिकेट टीम के ओपनर बल्लेबाज फखर जमां से टीम को अच्छी शुरुआत की उम्मीद थी लेकिन ऐसा नहीं हो सका। उन्होंने अपनी टीम को मायूस किया। फखर को भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने युजवेंद्र चहल के हाथों कैच आउट करवा दिया। जिस वक्त फखर का विकेट गिरा उस वक्ता पाकिस्तान का स्कोर सिर्फ तीन रन था। फखर ने अपनी पारी में कुल नौ गेंदों का सामना किया। फखर का ये भारत के खिलाफ दूसरा वनडे मुकाबला था।
भारत के खिलाफ पहले मैच में शतक तो दूसरे में शून्य:-फखर जमां ने भारत के खिलाफ अपना पहला वनडे मैच वर्ष 2017 में खेला था। ओवल में खेला गया वो मैच चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल मैच था जहां उन्होंने 114 रन की पारी खेली थी। इस पारी के दम पर पाकिस्तान ने भारत को हराकर पहली बार ये खिताब अपने नाम किया था। इस मैच में एक बार फिर से फखर से कुछ ऐसी ही पारी की उम्मीद की जा रही थी लेकिन ऐसा नहीं हो पाया और वो शून्य पर आउट हो गए।
वनडे में फखर का रिकॉर्ड है शानदार:-सात जून वर्ष 2017 को पाकिस्तान के लिए वनडे क्रिकेट में डेब्यू करने वाले फखर का वनडे में अब तक का रिकॉर्ड काफी शानदार रहा है। उन्होंने अपनी टीम के लिए अब तक सिर्फ 20 वनडे मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 68.06 की औसत से 1089 रन बनाए हैं। उनके नाम पर तीन शतक हैं और उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर नाबाद 210 रन है। भारत के खिलाफ दो वनडे मैचों में उनके नाम पर 114 रन हैं। हाल ही में फखर ने जिम्बाब्वे के खिलाफ पांच वनडे मैचों की सीरीज में बेहतरीन खेल दिखाते हुए दो शतक लगाए थे। इसमें उनका वनडे का बेस्ट प्रदर्शन नाबाद 210 रन की पारी भी शामिल है।

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम में वापसी को बेताब युवराज सिंह ने अपनी घरेलू टीम पंजाब के लिए इस सीजन की बेहतरीन शुरुआत की। घरेलू सीजन के पहले ही मैच में पंजाब के लिए अच्छी बल्लेबाजी करते हुए युवी ने अपनी टीम को संकट से बाहर निकाला। पंजाब की टीम एक वक्त में 26.5 ओवर में 2 विकेट पर 117 रन पर संघर्ष कर रही थी। टीम का रन रेट 4.5 रन प्रति ओवर था और टीम को तेज रनों की जरूरत थी। इस मौके पर युवी ने टीम का बेहतरीन साथ निभाया। इस वर्ष आइपीएल में युवराज सिंह का प्रदर्शन काफी खराब रहा था और उनका स्ट्राइक रेट 90 के अंदर था। लेकिन यहां पर युवराज सिंह ने अच्छा प्रदर्शन करते हुए टीम को संकट से बाहर निकाला साथ ही वो इस नंबर पर काफी सहज नजर आ रहे थे। युवी ने अपने साथ बल्लेबाजी कर रहे शुभमन गिल को भी रन बनाने के लिए प्रेरित किया और उन्होंने अर्धशतकीय पारी खेली। युवी ने शुभमन को अपना नैचुरल खेल खेलने की छूट दी और खुद भी सेटल होने के बाद बेबाक तरीके से बल्लेबाजी की। युवराज सिंह और शुभमन गिल ने तीसरे विकेट के लिए 102 रन की साझेदारी की। इस साझेदारी में युवराज ने 48 रन बनाए जबकि शुभमन ने 51 रन बनाए। तीन रन अतिरिक्त मिले। इस दौरान शुभमन ने अपना अर्धशतक पूरा करने के लिए 50 गेंदें खेली जबकि युवराज ने 110 के स्ट्राइक रेट से रन बनाए। इन दोनों की बल्लेबाजी के दम पर पंजाब ने 40 ओवर में 210 रन बनाए। इस मैच में शुभमन गिल ने 131 गेंदों पर 115 रन की पारी खेली और पंजाब का स्कोर लगभग 300 तक पहुंच गया। युवराज की 41 गेंदों पर 48 रन की पारी के दौरान उन्होंने 8 चौके लगाए। उनके 78 फीसदी रन सिर्फ बाउंड्री से आए। इस पारी के दौरान युवराज का स्ट्राइक रेट 120 का रहा और वो अपनी पारी की 41वीं गेंद पर विकेट के पीछे लपके गए। अपनी टीम के लिए उनकी पारी भी शानदार रही और जिस तरह से उन्होंने शुभमन गिल के साथ पारी को आगे बढ़ाया वो काबिले तारीफ था। इन दोनों की साझेदारी के बाद ही पंजाब की टीम एक शानदार स्कोर तक पहुंच पाई।

Ind vs Pak: पाकिस्तान को तीसरा झटका, बाबर आउट

नई दिल्ली। एशिया कप में भारत और पाकिस्तान की टीम आमने-सामने है। इस मैच में पाकिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी का फैसला किया है। खबर लिखे जाने तक पाकिस्तान ने 22 ओवर में 3 विकेट के नुकसान पर 86 रन बना लिए हैं। बाबर आजम 35 और शोएब मलिक 30 रन बनाकर खेल रहे हैं।
हार्दिक पांड्या हुए चोटिल:-मैच में भारत के लिए एक बुरी खबर है। भारत के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या चोटिल होकर मैदान से बाहर हो चले गए। उनकी हालत इतनी बुरी थी कि उन्होंने स्ट्रेचर पर मैदान से बाहर ले जाया गया।
ऐसे गिरे पाकिस्तान के दो विकेट:-पहली पारी में भारतीय टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने अपनी टीम को पहली सफलता दिलाई। उन्होंने फॉर्म में चल रहे पाकिस्तान के ओपनर बल्लेबाज इमाम-उल-हक को कैच आउट करवाया। इमाम ने 7 गेंदों पर 2 रन बनाए और उनका कैच धौनी ने लपका। शानदार फॉर्म में चल रहे पाकिस्तान के दूसरे ओपनर बल्लेबाज फखर जमां को भी भुवी ने पवेलियन का रास्ता दिखा दिया। फखर ने नौ गेंदों का सामना किया लेकिन अपना खाता भी नहीं खोल पाए। उनका कैच युजवेंद्र चहल ने लपका।
भारतीय टीम में हुए दो बदलाव:-पाकिस्तान के खिलाफ इस अहम मैच के लिए भारतीय टीम ने दो बदलाव किए हैं। खलील अहमद की जगह जसप्रीत बुमराह और शार्दुल ठाकुर की जगह हार्दिक पांड्या को अंतिम ग्यारह में मौका दिया गया है।
पाकिस्तान के खिलाफ भारत की टीम:-रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन (उपकप्तान), अंबाती रायडू, दिनेश कार्तिक, महेंद्र सिंह धौनी, केदार जाधव, हार्दिक पांड्या, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह।
पाकिस्तान की टीम :-सरफराज अहमद (कप्तान), बाबर आजम, इमाम उल हक, फखर जमां, शोएब मलिक, फहीम अशरफ, हसन अली, उस्मान खान, मोहम्मद आमिर, शादाब खान और आसिफ अली।
भारत का पलड़ा है भारी;-एशिया कप में इन दोनों टीमों के बीच खेले गए मैच की बात करें तो भारत-पाक के बीच 12 मैच खेले गए हैं। भारत ने छह बार पाकिस्तान को हराया तो वहीं पांच बार पाकिस्तान जीत हासिल करने में सफल रहा है। जबकि एक मैच रद हो गया था। अब पाकिस्तान इस रिकॉर्ड को बराबरी पर लाना चाहेगा।
विराट की गैरमौजूदगी पाक के लिए फायदा:-भारत इस टूर्नामेंट में अपने नियमित कप्तान विराट कोहली के बिना उतर रहा है। विराट न सिर्फ टीम के कप्तान हैं बल्कि उन्हें मौजूदा दौर के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में गिना जाता है। ऐसे में उनका न रहना पाकिस्तान के लिए राहत की बात हो सकती है। पाकिस्तान के कई खिलाड़ियों ने माना भी है कि कोहली की अनुपस्थिति उनकी टीम के लिए फायदे का सौदा होगी।

नई दिल्ली। एक वर्ष और 31 दिन बाद तैयार हो जाइए दुनिया के सबसे बहुप्रतीक्षित मुकाबले के लिए। एशिया कप में ग्रुप-ए के मुकाबले में बुधवार को चिर प्रतिद्वंद्वी भारत और पाकिस्तान आमने-सामने होंगे तो लक्ष्य सिर्फ एक ही होगा जीत, क्योंकि इन दो देशों के बीच जीत के साथ ही साख भी मायने रखती है। नियमित कप्तान विराट कोहली के बिना टीम इंडिया पर पिछले वर्ष 18 जून 2017 को चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में मिली शिकस्त का हिसाब चुकता करने का दारोमदार होगा। लेकिन इस मैच में ये चार फैक्टर तय करेंगे कि इस हाईवोल्टेज़ मुकाबले का विजेता कौन होगा?
भारतीय ओपनर्स का पाक गेंदबाजों के खिलाफ प्रदर्शन:-कोहली के न रहते हुए रोहित के ऊपर जिम्मेदारी बढ़ जाती है। उन्हें न सिर्फ अपने बल्ले से रन निकालने होंगे बल्कि एक कप्तान के तौर पर भी अपनी रणनीतियों में पैना पन रखना होगा। हालांकि रोहित हांगकांग के खिलाफ पहले मुकाबले में मात्र 22 रन बनाकर आउट हो गए थे। रोहित के अलावा बल्लेबाजी में शिखर धवन के ऊपर बड़ी जिम्मेदारी होगी। उन्होंने हांगकांग के खिलाफ शानदार पारी खेलकर इंग्लैंड दौरे की बुरी यादों को जरूर दूर किया। कोहली के बाद बीते कुछ वर्षों में इन दोनों ने भारतीय बल्लेबाजी को मजबूती से संभाला है और अब इन दोनों को एक और कड़ी परीक्षा का सामना करना होगा। पाकिस्तान के धारदार गेंदबाज़ी अटैक के आगे इन दोनों के सामने संभलकर खेलते हुए रन बनाने की चुनौती होगी। रोहित शर्मा को हमेशा ही लेफ्ट आर्म पेसर्स परेशान करते रहे हैं, तो ऐसे में उन्हें आमिर से खास चौकन्ना रहने की जरुरत होगी। पिछले साल चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भी रोहित को आमिर ने ही आउट किया था। इसके साथ ही साथ आमिर ने ही शिखर धवन और विराट कोहली के भी विकेट चटकाए थे।
फखर जमां से रहना होगा सतर्क:-पाकिस्तान की बल्लेबाजी बाबर आजम, फखर जमां के जिम्मे है। जमां ने ही चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारत के खिलाफ शतक लगाकर टीम की जीत की नींव रखी थी। उन्होंने हाल ही में जिंबाब्वे के खिलाफ दोहरा शतक भी जड़ा है। उनका बल्ला रंग में है जो भारत के लिए अच्छे संकेत नहीं है। हांगकांग के खिलाफ इमाम उल हक ने अर्धशतक लगाया। फखर और इमाम की सलामी जोड़ी भारतीय गेंदबाजों को परेशान करने का माद्दा जरूर रखती है। तो ऐसे में अगर टीम इंडिया को ये मुकाबला जीतना है तो भारतीय गेंदबाज़ों के सामने फखर जमां को पहले पांच ओवर के अंदर ही जमां को पवेलियन का रास्ता दिखाना होगा, नहीं तो वो टीम इंडिया की जीत की राह में रोड़ा नहीं पहाड़ बनकर खड़े हो सकते हैं।
कुलदीप-चहल को भी होगा टेस्ट:-पाकिस्तान की टीम के पास अच्छे गेंदबाज़ हैं तो भारतीय टीम भी कम नहीं है। पाकिस्तान का मिडिल ऑर्डर कुलदीप और चहल को तरह से खेलेगा भी देखना काफी अहम होगा, पाकिस्तान के पास स्पिन को बेहतर ढंग से खेलने वाले खिलाड़ी हैं। पाकिस्तान की टीम में शोएब मलिक और सरफराज जैसे खिलाड़ी हैं जो स्पिनर गेंदबाज़ी को काफी अच्छे से खेल सकते हैं, तो ऐसे में इस मैच में कुलदीप और चहल पर भी ये ज़िम्मेदारी होगी कि वो पाकिस्तानी खिलाड़ियों को अपनी फिरकी के फंदे में फंसाकर विकेट दिलवाएं। हालांकि भारतीय स्पिन जोड़ी के लिए ये काम आसान नहीं होगा, तो ऐसे मेंं भारतीय स्पिनर्स और पाकिस्तान के मिडिल ऑर्डर के बीच दिलचस्प जंग देखने को मिलेगी।
प्रेशर से पार पाना होगा अहम:-भारत और पाकिस्तान एक दूसरे के कट्टर विरोधी हैं, तो ऐसे में इस हाईवोल्टेज़ मुकाबले में सिर्फ खिलाड़ियों पर दबाव होता है, बल्कि टीवी और मैदान पर मैच देख रहे दर्शकों की भी सांसे थमी होती है। इसी दबाव की वजह से कई बार दोनों टीमों के खिलाड़ियों के बीच गहमागहमी भी देखने को मिली है। तो ऐसे में इस महामुकाबले में जीत उसी टीम की होगी, जो खुद को शांत रखते हुए दबाव में बेहतर प्रदर्शन करके दिखाएगी।

नई दिल्ली। एशिया कप के अपने पहले मैच में भारतीय टीम ने हांगकांग को 26 रन से मात दी। इस मुकाबले में हांगकांग की टीम ने जिस तरह का खेल दिखाया उससे उन्होंने सभी का दिल जीत लिया। किसी को उम्मीद नहीं थी कि टीम को हांगकांग से मैच जीतने के लिए इतनी मेहनत करनी पडेगी। दो बार का विश्व चैंपियन और छह बार का एशिया कप चैंपियन भारत एक…
कटुनायके। पूनम यादव की शानदार गेंदबाजी की बदौलत भारत ने पांच मैचों की टी-20 सीरीज के पहले मैच में यहां बुधवार को श्रीलंका को 13 रनों से शिकस्त दे दी। टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने निर्धारित 20 ओवर में आठ विकेट के नुकसान पर 168 रन बनाए, जिसके जवाब में मेजबान टीम 19.3 ओवर में 155 रन ही बना सकी।भारत की शुरुआत खराब रही और सलामी…
नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और भारोत्तोलक मीराबाई चानू को सोमवार को संयुक्त रूप से देश के सबसे बड़े खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार देने की सिफारिश की गई है।अगर खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ चयन समिति की सिफारिश को मान लेते हैं तो वह इस खिताब को पाने वाले देश के तीसरे क्रिकेटर होंगे। इससे पहले यह खिताब महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (1997)…
नई दिल्ली। भारतीय कप्तान विराट कोहली के एशिया कप में न खेलने के लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड और एशिया क्रिकेट परिषद (एसीसी) में टकराव की स्थिति पैदा हो गई। बीसीसीआइ ने हालांकि एसीसी को भेजे गए संक्षेप जवाब में स्पष्ट कर दिया कि न तो वे और न ही प्रसारक राष्ट्रीय टीम चयन के मामलों में हस्तक्षेप कर सकते हैं।कोहली को इंग्लैंड के 84 दिन के दौरे के बाद…
Page 1 of 317

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें