खेल

खेल (4427)

लंदन। भारत के लिए अपने पदार्पण मैच में अर्धशतक लगाने वाले आंध्र प्रदेश के बल्लेबाज हनुमा विहारी ने अपने इस प्रदर्शन का श्रेय पूर्व भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी राहुल द्रविड़ को दिया। हनुमा ने कहा कि वह द्रविड़ के कारण ही एक बेहतर खिलाड़ी बन पाए हैं।
'मेरी सफलता के पीछे द्रविड़ का हाथ';-इंग्लैंड के खिलाफ जारी पांचवें और आखिरी टेस्ट मैच में भारत के लिए पदार्पण करते हुए पहली पारी में हनुमा ने 56 रन बनाए। उनके इस प्रदर्शन को बेहद सराहा गया। इस प्रदर्शन का श्रेय द्रविड़ को देते हुए हनुमा ने कहा, 'मैंने अपने पदार्पण से एक दिन पहले उनसे बात की थी। उन्होंने मुझे प्रेरित किया जिसके कारण मेरी घबराहट कम हो पाई।'हनुमा ने कहा, 'उन्होंने (द्रविड़) ने मुझे कहा कि मेरे अंदर कौशल है, मैं मानसिक रूप से तैयार हूं और मुझे बस अपने खेल का आनंद लेना चाहिए। इंडिया-ए में मेरे सफर के लिए मैं उन्हें श्रेय देना चाहता हूं। इस सफर के कारण ही मैं यहां पदार्पण कर पाया। जिस प्रकार से उन्होंने मुझे प्रेरित किया है, उसी कारण मैं एक बेहतर खिलाड़ी बन पाया हूं।'
गांगुली व द्रविड़ जैसे खिलाड़ियों के क्लब में हुए शामिल:-टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड की धरती पर अपने डेब्यू इनिंग में अर्धशतक लगाने वाले विहारी चौथे खिलाड़ी बने। इससे पहले इंग्लैंड की धरती पर अपने टेस्ट की डेब्यू पारी में अर्धशतक लगाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी रूसी मोदी थे। उन्होंने वर्ष 1946 में लॉर्ड्स में अपने डेब्यू टेस्ट की पहली पारी में ही 57 रन बनाए थे। इसके बाद वर्ष 1996 यानी 50 वर्ष के बाद राहुल द्रविड़ व सौरव गांगुली ने अपने डेब्यू टेस्ट मैच की पहली पारी में अर्धशतक लगाए थे। उस मैच में द्रविड़ ने 95 रन जबकि सौरव गांगुली ने 131 रन की पारी खेली थी। विहारी भारत की तरफ से डेब्यू इनिंग में 50 से ज्यादा रन बनाने वाले 26 वें खिलाड़ी बने। उनसे ठीक पहले ये कमाल हार्दिक पांड्या ने किया था। पांड्या ने वर्ष 2017 में श्रीलंका के खिलाफ गॉल टेस्ट मैच में ये कमाल किया था।
हनुमा का औसत दुनिया में सबसे बेहतर;-हनुमा के नाम तिहरा शतक है। वर्तमान क्रिकेटरों में उनका औसत दुनिया में सबसे बेहतर है। वह 59.45 के औसत से शीर्ष पर हैं। स्टीव स्मिथ इस मामले में दूसरे नंबर पर हैं। इससे समझ आता है कि विहारी ने किस निरंतरता के साथ रन बनाए हैं। इस साल जून में उन्हें भारत-ए के इंग्लैंड दौरे के लिए सीमित ओवरों और चार दिन के मैचों की टीम में चुना गया था। वहां त्रिकोणीय सीरीज में वह 253 रन बनाने में कामयाब हुए। कुछ समय पहले दक्षिण अफ्रीका-ए के खिलाफ बेंगलुरु में खेले गए प्रथम श्रेणी मैच में उन्होंने 148 रन बनाए थे। पिछली पांच प्रथम श्रेणी पारियों में उनका एक शतक और दो अर्धशतक हैं। विहारी ने रणजी सत्र के छह मैचों में 94 के औसत से 752 रन बनाए। इसमें करियर की सर्वश्रेष्ठ नाबाद 302 रनों की पारी शामिल है, जो उन्होंने ओडिशा के खिलाफ खेली थी।
रणजी ट्रॉफी में बनाए थे सबसे ज्यादा रन;-हनुमा विहारी के रिकॉर्ड पर ध्यान दें तो वर्ष 2017-18 में वह रणजी ट्रॉफी में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी बने थे। वह सनराइजर्स हैदराबाद की तरफ से 2013 और 2015 में आइपीएल में खेल चुके हैं। वह भारत-ए टीम का हिस्सा रहे हैं और आठ पारियों में 667 रन बनाए, जिसमें एक तिहरा शतक भी शामिल है। हनुमा ने 63 प्रथम श्रेणी मैच और 65 टी-20 मैच खेले हैं। उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 15 शतक और 25 अर्धशतकों की मदद से 5000 से ज्यादा रन बनाए हैं। उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 19 और टी-20 में 21 विकेट लिए हैं। वह भारतीय क्रिकेट टीम में 19 साल बाद खेलने वाले आंध्र प्रदेश के खिलाड़ी भी बन गए। उनसे पहले इस वक्त चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद आंध्र प्रदेश से टीम इंडिया का हिस्सा थे, लेकिन इस बात को 19 साल बीत चुके हैं। उसके बाद आंध्र प्रदेश का कोई भी खिलाड़ी भारतीय टेस्ट टीम में नहीं रहा।

 

 

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे पांचवें टेस्ट के तीसरे दिन का खेल जारी है। खबर लिखे जाने तक भारत ने 9 विकेट के नुकसान पर 292 रन बना लिए हैं। जडेजा 86 रन पर नाबाद हैं। इससे पहले इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए पहली पारी में 332 रन बनाए। इंग्लैंड की तरफ से पहली पारी में भारत के खिलाफ पहली पारी में कुक, मोइन अली और जोस बटलर ने शानदार अर्धशतक लगाए।
विहारी और जडेजा ने लगाए अर्धशतक:-मैच की पहली पारी में भारतीय ओपनर बल्लेबाज शिखर धवन सिर्फ तीन रन बनाकर स्टुअर्ट ब्रॉड का शिकार बने। सिर्फ तीन रन के स्कोर पर ब्रॉड ने उन्हें एलबीडब्ल्यू आउट किया। लोकेश राहुल पिछली गलतियों से सीखकर काफी संभलकर बल्लेबाजी कर रहे थे लेकिन सैम कुर्रन की गेंद पर वो गलत लाइन पर खेल गए और क्लीन बोल्ड हो गए। राहुल ने 53 गेंदों का सामना करते हुए 37 रन बनाए। अच्छी बल्लेबाजी कर रहे पुजारा का ध्यान भटका और वो एंडरसन की बाहर जाती गेंद को छेड़ बैठे। नतीजा विकेट के पीछे खड़े बेयरस्टो ने पुजारा का कैच लपक लिया। पुजारा ने 101 गेंदों का सामना करते हुए 37 रन बनाए। इसके बाद एंडरसन ने अजिंक्य रहाणे को बिना खाता खोले पवेलियन भेज दिया।भारत को सबसे बड़ा झटका बेन स्टोक्स ने दिया, स्टोक्स ने विराट कोहली को स्लिप में जो रूट के हाथों कैच आउट करवाया। इसके बाद स्टोक्स ने रिषभ पंत को भी कुक के हाथों कैच आउट करवा भारत को छठा झटका दिया। हनुमा विहारी ने अपने डेब्यू टेस्ट मैच में ही अपने धैर्य का शानदार परिचय दिया। उन्होंने 124 गेंदों का सामना करते हुए 56 रन की पारी खेली। वो मोइन अली की गेंद पर बेयरस्टो के हाथों विकेट के पीछे लपके गए। इशांत शर्मा को मोइन अली ने 4 रन पर बेयरस्टो के हाथों कैच करवा दिया। मो. शमी को आदिल रशीद ने एक रन पर स्टुअर्ट ब्रॉड के हाथों कैच आउट करवाया।
ऐसे गिरे इंग्लैंड के 10 विकेट;-भारत को पहली सफलता रवींद्र जडेजा ने दिलाई, जडेजा ने 23 रन के स्कोर पर कीटन जेनिंग्स को राहुल के हाथों कैच आउट करवाया। इसके बाद अपना आखिरी टेस्ट खेल रहे कुक 71 रन बनाने के बाद बुमराह के शिकार बने। बुमराह ने कुक क्लीन बोल्ड कर भारत को दूसरी सफलता दिलाई। बुमराह ने इसके 3 गेंद बाद ही जो रूट को एलबीडबल्यू आउट कर दिया। इसके बाद जॉनी बेयरस्टो भी केवल 4 गेंद ही खेल पाए और बिना खाता खोले इशांत का शिकार बन गए। इशांत ने बेयरस्टो को पंत के हाथों कैच आउट करवाया। बेन स्टोक्स को जडेजा ने अपना दूसरा शिकार बनाया और भारत को पांचवीं सफलता दिलाई। 40 गेंदों का सामना कर 11 रन बनाने वाले स्टोक्स को जडेजा ने LBW आउट किया।इशांत ने भारत को छठी सफलता मोइन अली को आउट कर दिखाई। इशांत ने अली को 50 रन के स्कोर पर पंत के हाथों कैच आउट करवाया। इसके बाद सैम कुर्रन भी 2 गेंद से ज्यादा नहीं खेल पाए और इशांत की गेंद पर पंत को कैच देकर पवेलियन लौट गए। दूसरे दिन बुमराह ने आदिल राशिद को एलबीडबल्यू आउट कर भारत को 8वीं सफलता दिलाई। रवींद्र जडेजा ने भारत को 9वीं सफलता दिलाई। जडेजा ने ब्रॉड को केएल राहुल के हाथों कैच आउट करवाया। भारत को आखिरी सफलता जडेजा ने दिलाई। जडेजा ने 133 गेंदों पर 89 रन बनाने वाले जोस बटलर को रहाणे के हाथों कैच आउट करवा दिया।भारत की तरफ से पहली पारी में सबसे सफल गेंदबाज रवींद्र जडेजा रहे जिन्होंने चार विकेट लिए वहीं भारतीय तेज गेंदबाजों जसप्रीत बुमराह और इशांत शर्मा ने तीन-तीन विकेट लिए।

लंदन। इंग्लैंड के लिए पहली पारी में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले जोस बटलर ने आदिल राशिद के साथ आठवें विकेट के लिए 33 और स्टुअर्ट ब्रॉड के साथ नौवें विकेट के लिए 98 रन की साझेदारी करके इंग्लैंड को मजबूत स्कोर तक पहुंचाया। साझेदारी के बारे में बटलर ने कहा, 'हमने संभवत: 50 और रन के बारे में बात की थी, हमने इसे लक्ष्य बनाया था। लेकिन, मुझे लगता है कि हमने साझेदारी में काफी अच्छा काम किया। राशिद बल्ले से अच्छा प्रदर्शन करने में सक्षम है। और हमें पता है कि ब्रॉड ने अपने करियर के दौरान इंग्लैंड के लिए कुछ अच्छे रन जुटाए हैं।'भारत के लिए कप्तान विराट कोहली ने एक बार फिर जिम्मेदारी भरी पारी खेली, लेकिन 49 रन बनाने के बाद दिन के अंतिम ओवरों में बेन स्टोक्स का शिकार बने। बटलर ने कहा, 'बेशक वह बड़ा विकेट था। वह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाडि़यों में से एक हैं और उनके लिए यह सीरीज बेहतरीन रही।' बटलर ने कहा कि प्रशसंकों के लिए कोहली और जेम्स एंडरसन के बीच का संघर्ष देखना शानदार रहा।उन्होंने कहा, 'यह बेहतरीन टेस्ट क्रिकेट है। विराट दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाडि़यों में से एक हैं और जिम्मी इंग्लैंड का महानतम गेंदबाज हैं। प्रशसंकों के लिए एक समान क्षमता वाले खिलाडि़यों के बीच जंग शानदार होती है।' बटलर ने कहा, 'वे दोनों काफी प्रतिस्पर्धी हैं और पूरी सीरीज के दौरान उनके बीच शानदार संघर्ष देखने को मिला।' वैसे इस टेस्ट सीरीज में एंडरसन एक बार भी विराट को आउट करने में सफल नहीं रहे। वहीं विराट इस टेस्ट सीरीज में अब तक सबसे ज्यादा रन बनाने वाले तो एंडरसन सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं।

लंदन। पांच टेस्ट मैचों की सीरीज में भारतीय टीम इंग्लैंड के पुछल्ले बल्लेबाजों पर लगाम लगाने में असफल रही और भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने भी माना टीम इंग्लैंड के निचले क्रम के बल्लेबाजों के खिलाफ योजना को लागू करने में नाकाम रही।बुमराह ने दूसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा, '190 के आसपास सात विकेट चटकाकर हम अच्छी स्थिति में थे, लेकिन उन्होंने अच्छी बल्लेबाजी की और हम फायदा नहीं उठा सके। यह दोनों चीजों का संयोजन है। हमने सही क्षेत्र में गेंदबाजी के लिए कड़ी मेहनत की, लेकिन हमने उतनी अच्छी गेंदबाजी नहीं की और उन्होंने अच्छा जज्बा दिखाया।' निचले क्रम के बल्लेबाजों के खिलाफ आक्रमण के बारे में पूछने पर बुमराह ने कहा कि निचले क्रम के बल्लेबाजों के लिए कोई खास योजना नहीं है। आप हर बल्लेबाज के लिए योजना बनाते हैं, अगर वो निचले क्रम का बल्लेबाज है तो भी, हम इसका सम्मान करते हैं।हमने शनिवार को योजना को लागू करने का प्रयास किया, लेकिन काम नहीं बना। टीम इंडिया ने पांचवें टेस्ट में ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या की जगह हनुमा विहारी को पहला टेस्ट खेलने का मौका दिया। यह पूछने पर कि क्या भारत को पांचवें गेंदबाज की कमी खली, बुमराह ने कहा, 'मुझे टीम चयन के बारे में जानकारी नहीं है। यह सवाल मैनेजमेंट के लिए है। जब आपके पास अतिरिक्त गेंदबाज होता है तो यह गेंदबाजी में आपको प्रयोग का मौका देता है। चार गेंदबाजों के साथ आपको अधिक ओवर फेंकने होते हैं क्योंकि आपको तब गेंदबाजी के लिए जल्दी लौटना होता है। केवल यही एक अंतर है। मुझे लगता है कि इसके अलावा हमने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया। हमने पूरी जान के साथ गेंदबाजी की और काफी ओवर फेंके। एक अतिरिक्त गेंदबाज कई बार आपको पर्याप्त आराम का मौका देता है।

नई दिल्ली। इशांत शर्मा ने इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की सीरीज में अब तक काफी अच्छी गेंदबाजी की है। पांचवें टेस्ट मैच की पहली पारी तक उन्होंने इस टेस्ट सीरीज में 18 विकेट लिए हैं और वो जेम्स एंडरसन से ही पीछे हैं जिन्होंने इस टेस्ट सीरीज में अब तक सबसे ज्यादा विकेट चटकाए हैं। ये भी संभव कि इशांत पांचवें टेस्ट मैच की दूसरी पारी में एंडरसन को पीछे छोड़ दें। इस टेस्ट सीरीज में अपनी शानदार गेंदबाजी के जरिए इशांत ने पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज कपिल देव के एक रिकॉर्ड की बराबरी भी कर ली है। कपिल देव ने अपने क्रिकेट करियर में इंग्लैंड के खिलाफ इंग्लैंड में कुल 13 टेस्ट मैच खेले। इन मैचों की 22 पारियों में उन्होंने कुल 43 विकेट लिए। इंग्लैंड में कपिल का टेस्ट की एक पारी में बेस्ट प्रदर्शन 125 रन देकर 5 विकेट था। अब इशांत ने इंग्लैंड के खिलाफ इंग्लैंड में टेस्ट क्रिकेट में विकेट लेने के मामले में कपिल की बराबरी कर ली है। इशांत ने इस रिकॉर्ड की बराबरी 12 टेस्ट मैच की 18 पारियों में की। वैसे वो कपिल के इस रिकॉर्ड को पीछे छोड़ सकते हैं क्योंकि अभी ओवल टेस्ट का एक पारी शेष है। इंग्लैंड के खिलाफ इंग्लैंड में टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने के मामले में तीसरे नंबर पर अनिल कुंबले हैं जिन्होंने 10 टेस्ट मैच की 19 पारियों में 36 विकेट लिए थे। वहीं बिशन सिंह बेदी ने 12 टेस्ट की 18 पारियों में 35 विकेट चटकाए थे। इशांत शर्मा स्ट्राइक रेट के मामले में दूसरे बेस्ट भारतीय गेंदबाज हैं। उनका स्ट्राइक रेट टेस्ट में इंग्लैंड मेें इंग्लैंड के खिलाफ 60.2 का है। इसमें पहले नंबर पर भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार हैं जो पांच टेस्ट मैच की सात पारियों में इंग्लैंड में 54.5 के स्ट्राइक रेट से 19 विकेट ले चुके हैं। इस बार इंजर्ड होने की वजह से भुवी इस टेस्ट सीरीज में नहीं खेल पाए। भुवनेश्वर ने इंग्लैंड के खिलाफ वर्ष 2014 में ये कमाल किया था। भुवनेश्वर कुमार ने जहीर खान के टेस्ट रिकॉर्ड की बराबरी की थी जिन्होंने वर्ष 2007 में इंग्लैंड के खिलाफ तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 19 विकेट लिए थे। अब इशांत के पास भुवी के रिकॉर्ड को भी तोड़ने का मौका है। इशांत अगर दो विकेट और ले लेते हैं तो वो इंग्लैंड के खिलाफ इंग्लैंड में किसी टेस्ट सीरीज में भारत की तरफ से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बन जाएंगे।

नई दिल्ली। एशिया कप 2018 में इस बार भारत के अलावा अन्य पांच टीमें हिस्सा ले रही हैं। इस बार भी भारत के एशिया कप का खिताब जीतने का दावेदार माना जा रहा है। भारत इससे पहले छह बार ये खिताब अपने नाम कर चुका है और वो डिफेंडिंग चैंपियन भी है। पर क्या इस बार उससे लिए ये खिताब जीत पाना आसान होगा तो इसका जबाव है शायद नहीं। आइए जानते हैं कि वो कौन से कारण है जिसकी वजह से भारत के लिए एशिया कप 2018 का खिताब जीत पाना आसान नहीं होगा।
भारत की बल्लेबाजी:-इसमें कोई शक नहीं कि भारतीय बल्लेबाजी मजबूत है पर विराट की गैरमौजूदगी में ये थोड़ी सी कमजोर तो जरूर हो जाएगी। भारतीय बल्लेबाजों की कई कमजोरियां हैं और विरोधी टीम इसका फायदा उठाती है। बाउंसर के आलावा भारतीय बल्लेबाज बाएं हाथ के तेज गेंदबाजों को खेलने में जरा परेशानी महसूस करते हैं। ऐसे में मो.आमिर और मुस्ताफिजुर रहमान इस टीम के लिए परेशानी खड़ी कर सकते हैं। भारत के पास खुद रिस्ट स्पिनर्स हैं बावजूद इसके भारतीय बल्लेबाजों को रिस्ट स्पिनर के खिलाफ बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता है। भारतीय बल्लेबाज अकीला धनंजय और राशिद खान जैसे रिस्ट स्पिनर्स के सामने संघर्ष कर सकते हैं। इस टूर्नामेंट के दौरान भारत को हसन अली का सामना भी करना पड़ेगा जिन्होंने वर्ष 2017 चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल में भारत को काफी परेशान किया था।भारतीय बल्लेबाजी पूरी तरह से रोहित शर्मा व शिखर धवन पर निर्भर करेगा। इन दोनों को रन बनाना पड़ेगा खासतौर पर अहम मुकाबलों में। भारतीय मध्यक्रम के बल्लेबाजों के भी जिम्मेदारी निभानी होगी और भारत कोई भी मैच 250 के कम स्कोर पर नहीं जीत सकता। टीम के फिनीशर जैसे की धौनी और हार्दिक पांड्या को भी परिस्थिति के हिसाब से बल्लेबाजी करनी होगी।
भारतीय टीम की गेंदबाजी:-इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में भारतीय टीम के गेंदबाज इंग्लिश टीम के खिलाफ विकेट लेने में सफल नहीं हो पाई थी। इस वनडे सीरीज में कुलदीप यादव ने तीन मैचों में नौ विकेट जबकि युजवेंद्र चहल का नंबर इसके बाद आता है। इसके बाद भारत की तरफ से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज उमेश यादव थे जिन्होंने 44.33 की औसत से रन देते हूए सिर्फ तीन विकेट लिए थे। उमेश यादव एशिया कप की टीम में शामिल नहीं किए गए हैं। वनडे में विकेट काफी अहम होता है। भारतीय तेज गेंदबाजों ने इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में कमाल की गेंदबाजी की। इनमें बुमराह को छोड़कर कोई अन्य गेंदबाज एशिया कप के लिए टीम में नहीं है। भुवी टीम में हैं लेकिन फ्लैट ट्रैक पर उनका रिकॉर्ड कुछ खास नहीं रहा है।
दुबई का कंडीशन:-भारतीय टीम ने आखिरी बार 18 वर्ष पहले यूएई में क्रिकेट सीरीज खेली थी। मौजूदा टीम को वहां के कंडीशन के बारे में कुछ भी पता नहीं है। सीनियर खिलाड़ियों की तरफ से जरूर कहा जाएगा कि यूएई का मौसम गर्म है और यहां का विकेट भारत के जैसा ही है लेकिन जब तक खिलाड़ी वहां नहीं खेलेंगे उन्हें वहां के रियल विकेट के बारे में पता नहीं चल पाएगा। यानी भारत को वहां कि परिस्थिति के बारे में समझने के लिए ही कुछ वक्त लग जाएगा।
कम नहीं हैं विरोधी टीम:-पाकिस्तान टीम टीम के लिए पिछला कुछ समय काफी शानदार रहा है। इस टीम ने पिछले वर्ष चैंपियंस ट्रॉफी जीतने के अलावा कई टेस्ट मैच और टी 20 मुकाबले भी जीते हैं। पाकिस्तान की टीम को कम आंकना सही नहीं होगा। बांग्लादेश की टीम भी चौंकाने की ताकत रखता है। श्रीलंका और अफगानिस्तान की टीम भी अगर वक्त सही रहे तो उलटफेर कर सकते हैं। हांगकांग की टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद इस टूर्नामेंट में जगह बनाई है और वो टीम भी इस कंडीशन में कुछ करने की ताकत रखती है। भारतीय टीम के लिए इस टूर्नामेंट को जीतने का भी अच्छा मौका है लेकिन उन्हें अपने किसी भी विरोधी को हल्का समझने की भूल करने से बचना होगा।

 

 

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे पांचवें टेस्ट के दूसरे दिन का खेल जारी है। इस मैच में इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए खबर लिखे जाने तक 8 विकेट के नुकसान के 301 रन बना लिए हैं। जोस बटलर 62 और स्टुअर्ट ब्रॉड 34 रन बनाकर क्रीज पर मौजूद हैं। ऐसे गिरे इंग्लैंड के 8 विकेट;-भारत को पहली सफलता रवींद्र जडेजा ने दिलाई, जडेजा ने…
नई दिल्ली। पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक ने कहा कि भारत और पाकिस्तान को और ज्यादा क्रिकेट मैच खेलने चाहिए। दोनों देशों के बीच होने वाले मैच से ना सिर्फ भारत व पाकिस्तान के क्रिकेट फैंस बल्कि दुनिया के तमाम क्रिकेट प्रशंसकों का मनोरंजन होगा। एशिया कप 2018 की शुरुआत 15 सितंबर से होगा और पहला मैच श्रीलंका व बांग्लादेश के बीच खेला जाएगा वहीं पूरी दुनिया की नजर भारत व…
नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज में जब भारत के युवा विकेटकीपर रिषभ पंत को मौका दिया गया तो सभी को उम्मीद थी कि यह बल्लेबाज बल्लेबाजी के साथ विकेटकीपिंग में भी सभी को प्रभावित करेगा। लेकिन अब तक पंत ने ना तो बल्लेबाजी में कमाल किया है और विकेटकीपिंग में। विकेटकीपिंग में तो वह ऐसा अनचाहा रिकॉर्ड बना बैठे जो वह कभी याद नहीं रखना चाहेंगे।दरअसल…
लंदन। पांचवें टेस्ट के पहले दिन भारतीय खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया खासतौर पर गेंदबाज़ों ने। इंग्लैंड ने शानदार शुरूआत करते हुए भारतीय टीम के ऊपर दबाव बनाने की पूरी कोशिश की, लेकिन अंतिम सत्र में भारत के गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए जबरदस्त वापसी की। मैच के बाद रविंद्र जडेजा ने कहा कि टीम इस प्रदर्शन से खुश है और भारतीय गेंदबाज़ों ने अपना काम अच्छे से किया।…
Page 4 of 317

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें