स्टॉकहोम। इकोनॉमिक्स के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कारों की घोषणा हो गई है। अर्थशास्त्र का नोबेल इस साल भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक अभिजीत बनर्जी के अलावा एस्थर डुफ्लो और माइकल क्रेमर को मिला है। वैश्विक गरीबी को कम करने के लिए प्रयोगात्मक दृष्टिकोण के लिए इन्हें सम्मानित किया गया है। रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज ने सोमवार को इसकी घोषणा की। यही एकेडमी हर साल यह पुरस्कार देती है। बता दें कि एस्थर डुफ्लो, अभिजीत की पत्नी हैं।इस पुरस्कार को आधिकारिक तौर पर 'बैंक ऑफ स्वीडन प्राइज इन इकोनॉमिक साइंसेज इन मेमोरी ऑफ अल्फ्रेड नोबेल' के रूप में जाना जाता है, यह पुरस्कार संस्थापक द्वारा नहीं बनाया गया था, लेकिन इसे नोबेल का हिस्सा माना जाता है। एकेडमी ने अपने बयान में कहा, 'इन्होंने वैश्विक गरीबी से लड़ने के सर्वोत्तम तरीकों को लेकर एक विश्वसनीय और नया दृष्टिकोण पेश किया है।' उन्हें 90 लाख स्वीडिश क्राउन (9लाख 15हजार 300 डालर) मिलेगा।
वैश्विक गरीबी से लड़ने की हमारी क्षमता में काफी सुधार:-एक बयान में नोबेल समिति ने कहा, 'इस साल के पुरस्कार विजेताओं द्वारा किए गए शोध से वैश्विक गरीबी से लड़ने की हमारी क्षमता में काफी सुधार हुआ है। केवल दो दशकों में, उनके नए प्रयोग-आधारित दृष्टिकोण ने विकास अर्थशास्त्र को बदल दिया है, जो अब अनुसंधान का एक समृद्ध क्षेत्र है।'
कौन हैं अभिजीत बनर्जी:-कोलकाता में जन्में 58 वर्षीय बनर्जी ने कलकत्ता विश्वविद्यालय, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय और हार्वर्ड विश्वविद्यालय में शिक्षा प्राप्त की। उन्होंने 1988 में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। वह वर्तमान में एमआइटी वेबसाइट पर अपनी प्रोफाइल के अनुसार मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में अर्थशास्त्र के फोर्ड फाउंडेशन इंटरनेशनल प्रोफेसर हैं।
2003 में J-PAL की स्थापना:-2003 में, बनर्जी ने डुफ्लो और सेंथिल मुलैनाथन के साथ, अब्दुल लतीफ जमील गरीबी एक्शन लैब (J-PAL) की स्थापना की और वह लैब के निदेशकों में से एक रहे। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासचिव के पद 2015 विकास एजेंडा पर प्रख्यात व्यक्तियों के उच्च-स्तरीय पैनल में भी कार्य किया।
1969 में पहली बार मिला सम्मान;-यह पुरस्कार 1968 में स्वीडिश केंद्रीय बैंक, रिक्सबैंक द्वारा शुरू किया गया था। इसके पहले विजेता को एक साल बाद 1969 में चुना गया था। अब-तक, आर्थिक विज्ञान की क्षेत्र में 81 लोगों को सम्मानित किया जा चुका है। इससे पहले पिछले हफ्ते, छह नोबेल पुरस्कारों को दवा, भौतिकी और रसायन विज्ञान के साथ-साथ दो साहित्य पुरस्कार और प्रतिष्ठित शांति पुरस्कार दिया गया।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें