नई दिल्‍ली। चीन से चल रहे भारत के तनाव के बीच ड्रैगन फिर से वास्‍तविक नियंत्रण रेखा के करीब अपनी सेना के लिए स्‍थायी ढांचा बना रहा है। इस तरह के ढांचे के बन जाने से चीन की सेना भारत के साथ विवादित इलाके में कुछ ही देर में पहुंच सकती है। सरकार के वरिष्‍ठ सूत्रों के हवाले से एएनआई ने बताया है कि इस तरह का एक कैंप चीन की सीमा में अंदर और नाकुला लेक के ठीक पीछे बना है। ये इलाका उत्‍तरी सिक्किम में आता है, जो यहां से कुछ ही मिनट की दूरी पर स्थित है। ये वही जगह है जहांपर पिछले वर्ष चीन और भारत की सेना आमने सामने आ गई थी और दोनों के बीच काफी हिंसक झड़प भी हुई थी। इस वर्ष जनवरी में भी दोनों सेनाएं आमने सामने आ गई थीं।सूत्रों ने समाचार एजेंसी को बताया है कि इस तरह का ढांचा बन जाने के बाद चीन अपनी सेना के जवानों को फ्रंटलाइन एरिया में सीमा के बेहद नजदीक तैनात कर सकता है। सूत्र की मानें तो यहां पर सड़कों की बेहतर स्थिति की वजह से किसी भी इमरजेंसी की स्थिति में चीन की सेना के जवान यहां पर भारतीय जवानों से बेहद कम समय में पहुंच सकते हैं। इतना ही नहीं सीमा के निकट बन रहे इस स्‍थायी ढांचे की वजह से चीन के सैनिक सर्दियों के मौसम में भी बचे रह सकते हैं और ये उनके लिए काफी आरामदायक भी हैं। इसकी वजह से पूर्वी लद्दाख में चीन के जवानों को बढ़त मिल सकती है।आपको बता दें कि सर्दियों में यहां पर तैनात करीब 90 फीसद जवानों को दूसरी जगहों पर भेज दिया जाता है और दूसरे जवानों की यहां पर तैनाती की जाती है। इस स्‍थायी ढांचे के बन जाने से चीन के सैनिक यहां पर लंबे समय तक बने रह सकते हैं। गौरतलब है कि भारत और चीन के जवानों केी पेंगोंग लेक के इलाके में कई बार तीखी बहस हो चुकी है। कई बार भारतीय जवानों ने उनको चीन की सीमा में खदेड़ा हे।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">