अमेरिका में भारतीय डाक्टरों को फायदा, महामारी से सबक लेने के बाद बनाई योजना

08 June 2021
Author 

वाशिंगटन। अमेरिका में कोरोना महामारी से सबक लेने के बाद अब डाक्टरों की कमी को दूर किए जाने की योजना है। विशेषतौर पर देहात क्षेत्र में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार की रणनीति बनाई गई है। इससे उन हजारों भारतीय डाक्टरों को फायदा होगा, जो वर्तमान में अमेरिका में हैं। अमेरिका में काम करने वाले अन्य देशों के डाक्टरों को स्थानीय निवास में अभी कानूनी दिक्कते हैं।अमेरिकी नियमों के अनुसार उनकी रेजीडेंसी पूरी होने के बाद अनिवार्य रूप से पहले दो साल के लिए अपने देश लौटना पड़ता है, उसके बाद ही वे अमेरिका में ग्रीन कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं। नए कानून में यह प्रविधान समाप्त हो सकता है। द्विपक्षीय दलों के सांसदों ने इसके लिए फिर कानून लाने के प्रस्ताव सहमति बना ली है । विधेयक को दोबारा पेश करने के लिए सीनेट में स्वास्थ्य, शिक्षा और श्रम कमेटी के सदस्य जेकी रोशेन व अन्य सांसदों ने पहल शुरू की है। यह कानून पास हो जाता है तो अन्य देशों के डाक्टरों का वहां रहकर काम करना आसान हो जाएगा।

36 VIEWS
Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">