35 साल पहले आई फिल्म ‘मिस्टर इंडिया’ हिंदी सिनेमा में कई मायनों में बड़ी अहम फिल्म थी। शेखर कपूर के निर्देशन में बनी यह फिल्म भारत की पहली साई-फाई फिल्म थी। इस फिल्म ने न केवल बॉक्स आॅफिस पर सफलता हासिल की बल्कि इसका विलेन भी खासा पॉपुलर रहा। इस फिल्म का हर एक किरदार बेहद दिलचस्प था। फिर चाहे वह सिलेंडर के किरदार में सतीश कौशिक हों या फिर मोगेम्बो के रूप में पर्दे पर अमरीश पुरी का अट्टाहस भरे लहजे में कहना ‘मोगेम्बो खुश हुआ’ इस फिल्म की कई बातें बेहद चर्चित हुई। फिल्म ने फैंटेसी का ऐसा तिलिस्म बुना था कि तब के बच्चों को यकीन दिलवाना जरा मुश्किल था कि ऐसी कोई घड़ी नहीं है, जिसे पहनकर आदमी गायब हो जाए।खैर, इस फिल्म के सीक्वल को लेकर जब 19वें आईफा अवॉर्ड्स के दौरान अनिल कपूर से पूछा गया तो उन्होंने पीटीआई से कहा- ‘हर फिल्म की अपनी डेस्टिनी होती है और जब इस फिल्म को बनना होगा तब यह बन जाएगी।’ इस दौरान श्रीदेवी को याद करते हुए अनिल कपूर भावुक भी नजर आए। उन्होंने कहा- ‘जाहिर है कि हम उन्हें और मोगेम्बो अमरीश पुरी को मिस करते हैं, लेकिन जिंदगी चलती रहती है। हम उन सभी को मिस करते हैं।’‘मिस्टर इंडिया’ में अनिल कपूर ने एक कॉमन मैन अरुण का किरदार निभाया था, जो एक घड़ी पहनते ही गायब हो जाता है और केवल रेड लाइट में ही नजर आता है। फिल्म को शेखर कपूर ने निर्देशित किया था।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें