बीजिंग। क्या कभी आपने सुना है कि किसी महिला को केवल महिलाओं की आवाज सुनाई पड़ती है, पुरुषों की नहीं। शायद आपको पहली बार में यह यकीन करना मुश्किल हो, लेकिन चीन में एक ऐसी महिला है, जिसे पुरुषों की आवाज सुनाई ही नहीं पड़ती है। यह कोई अफवाह नहीं,बल्कि हकीकत है। चीन की यह महिला Rare Hearing-Loss condition की स्थिति से गुजर रही है, जो उसे पुरुषों की आवाज सुनने से रोकती है। चीन की इस महिला का नाम चेन (Chen) है, जो ज़ियामेन की निवासी है।डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, हाल में एक सुबह यह महिला सोकर उठी और वह अपने बॉयफ्रेंड की आवाज नहीं सुन सकी। जिसके बाद उसे Qianpu अस्पताल में ले जाया गया, यह सोचकर कि डॉक्टर उसकी मदद करेगा। लेकिन वहां जाकर जो पता चला, उसपर पहली बार में यकीन करना मुश्किल था।कान, नाक और गले के स्पेशलिस्ट ने चेन का चेकअप किया और पाया कि उसे Reverse-slope hearing loss (RSHL) है। इसे low-frequency hearing loss भी कहते हैं यानी कम आवृत्ति की ध्वनि सुनवाई पड़ने में दिक्कत। ज्यादातर लोग, जिन्हें सुनने में तकलीक होती है वे उच्च आवृत्ति ध्वनि की परेशानी (high-frequency hearing loss)से पीड़ित होते हैं। जिसका अर्थ है कि उन्हें ऊंची आवाज (high-pitched voices/sounds) सुनने में परेशानी होती है। रिवर्स-स्लोप हियरिंग लॉस (RSHL) को लो-फ्रीक्वेंसी हियरिंग लॉस के रूप में भी जाना जाता है। जिस स्थिति में नीचे पिच की ध्वनियों को सुनने में कठिनाई होती है, जैसे पुरुष की भारी आवाज।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें