लंदन। ब्रिटेन की चार दिवसीय यात्रा पर गए नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने कहा है कि, हिंद महासागर के उत्तरी हिस्से में चीन की बढ़ती उपस्थिति भारत के लिए एक बड़ी चुनौती है। लेकिन नई दिल्ली इस क्षेत्र में चीनी जहाजों और पनडुब्बियों की तैनाती पर कड़ी नजर रखे हुए है। उन्होंने यह भी कहा कि किसी भी राष्ट्र ने जहाज निर्माण में चीन जितना निवेश नहीं किया है।हिंद महासागर में चीनी नौसेना की बढ़ती उपस्थिति जहां पहले से ही जिबूती में एक लॉजिस्टिक बेस का अधिग्रहण कर चुकी है, उसका भारत में 99 साल की लीज पर हंबनटोटा बंदरगाह से भी जुड़ाव है। चीन का जापान के साथ पूर्वी चीन सागर में समुद्री विवाद चल रहा हैं और दक्षिण चीन सागर के 90 प्रतिशत हिस्से पर चीन अपना दावा करता है, इस जगह पर चीन के अलावा वियतनाम, फिलीपींस, मलेशिया, ब्रुनोई और ताइवान भी अपना क्षेत्र होने का दावा करते हैं।बुधवार को इंस्टीट्यूट ऑफ स्ट्रैटेजिक स्टडीज में बातचीत के दौरान लांबा ने कहा, ‘दुनिया के किसी भी देश ने जहाज निर्माण में चीन के जितना निवेश नहीं किया है। यह एक चुनौती है; हम उनकी उपस्थिति और तैनाती पर कड़ी नजर रखते हैं।’ एडमिरल लांबा ने 'मार्शल रणनीति और इंडो-पैसिफिक और वैश्विक कॉमन्स में इसके योगदान' पर चर्चा के दौरान कहा, कि भारत हिंद महासागर में चीन की बढ़ती उपस्थिति पर नजर रखे हुए है। उन्होंने हिंद महासागर के उत्तरी भाग में अनुमानित छह से आठ चीनी नौसैनिक जहाजों और एक पनडुब्बी की उपस्थिति का भी जिक्र किया।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें