जकार्ता। इंडोनेशिया (Indonesia) की राजधानी जकार्ता (Jakarta) से उड़ान भरने के बाद शनिवार को एक हवाई जहाज क्रैश हो गया। समाचार एजेंसी सिन्‍हुआ (Xinhua) ने स्‍थानीय मीडिया के हवाले से बताया है कि इंडोनेशिया के श्रीविजय एयर का यात्री विमान जकार्ता से दूर पानी में दुर्घटनाग्रस्त हो गया है। श्रीविजया एयर की फ्लाइट संख्या एसजे-182 का कंट्रोल रूम से संपर्क टूट गया था। विमान पर कुल 62 लोग सवार थे। विमान ने पश्चिम कालीमंतन प्रांत (Kalimantan province) में पोंटिआनक (Pontianak) के लिए उड़ान भरी थी।संपर्क टूट जाने के बाद बोइंग B737-500 विमान की खोजबीन का अभियान चलाया गया जिसके बाद उसके क्रैश होने की जानकारी सामने आई है। समाचार एजेंसी एपी ने अधिकारियों के हवाले से बताया है कि यह एक घरेलू उड़ान थी। विमान ने जकार्ता से दोपहर 1:56 बजे उड़ान भरी थी। विमान से अंतिम संपर्क अपराह्न 2:40 पर हुआ था। इंडोनेनियाई एयरलाइन (Indonesian airline) श्रीविजय एयर (Sriwijaya Air) ने कहा है कि विमान अपनी पोंटिआनक (Pontianak) के लिए अपनी 90 मिनट की उड़ान पर था। विमान  सवार लोगों में 56 यात्री और चालक दल के छह सदस्‍य शामिल हैं।  विमान निर्माता अमेरिकी कंपनी बोइंग के विमान पहले भी हादसे के शिकार होते रहे हैं। साल 1978 में एयर इंडिया का बोइंग 747 विमान पहली जनवरी को 213 यात्रियों के साथ समु्द्र में समा गया था। सम्राट अशोक नाम के इस विमान ने मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से उड़ान भरी थी और कुछ देर बाद हादसे का शिकार हो गया था। हादसे की वजह किसी यांत्रिक खराबी को बताया गया था। इस विमान में चालक दल के 23 सदस्य और 190 यात्री सवार थे। बाद में समुद्र से विमान के मलबे मिले थे जिसकी जांच में पाया गया कि यह विमान एक हादसे का शिकार हुआ था।उल्‍लेखनीय है कि साल 2018 और 2019 के पांच महीने के दरम्‍यान इंडोनेशिया और इथोपिया में 737 मैक्स विमान के साथ कई हादसे हुए थे। इंडोनेशिया और इथियोपिया में हुए हादसों में 346 लोगों के मारे जाने के बाद दुनियाभर के देशों ने मैक्स विमान का परिचालन बंद कर दिया था। इसके बाद हादसों को लेकर कई तरह की जांचों का सिलसिला शुरू हो गया। इन विमानों की निर्माता अमेरिकी कंपनी बोइंग आलोचकों के निशाने पर आ गई थी जिसको काफी नुकसान उठाना पड़ा था। दुनियाभर की विमानन कंपनियों और उड्डयन नियामकों से बोइंग के रिश्ते खराब हुए थे। यहां तक कि विमानन कंपनियों ने अपने ऑर्डर तक रद कर दिए थे जिससे बोइंग को काफी नुकसान हुआ था।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें