जेनेवा। विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation, WHO) की ओर से कोरोना वैक्सीनेशन पर जोर दिया गया है। संगठन ने कहा है कि घातक कोरोना वायरस के नए-नए वैरिएंट्स से बचाव का एकमात्र जरिया वैक्सीनेशन ही है। संगठन के एक अधिकारी ने कहा कि कम से कम 80 फीसद आबादी का वैक्सीनेशन ही वैरिएंट्स से जोखिम को कम कर सकता है। एक न्यूज कॉन्फ्रेंस में WHO के इमरजेंसी चीफ डॉक्टर माइकल रयान (Dr. Michael Ryan) ने एक न्यूज कॉन्फ्रेंस में कहा, 'महामारी कोविड-19 से निकलने का जरिया अधिक से अधिक वैक्सीनेशन ही है। अनेकों धनी देशों में अब किशोर वर्ग व बच्चों को कोरोना वैक्सीन की डोज दी जा रही है।पिछले माह के अंत में WHO ने कहा था कि कोरोना वेरिएंट पर वैक्सीन असर न करे ऐसा नहीं है। हालांकि संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अधनम घेब्रेसस ने इस बात की गारंटी लेने से इनकार करते हुए कहा कि भविष्य में ऐसा नहीं भी हो सकता है क्योंकि वायरस अपना रूप बदल रहा है। वहीं WHO की चीफ साइंटिस्ट डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने भारत में तबाही मचाने वाले डबल म्यूटेंट वायरस को काफी संक्रामक बताया था। साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि वैक्सीन इस वेरिएंट पर भी पूरी तरह असरदार है। महानिदेशक ने सितंबर तक सदस्य देशों के कम से कम 10 फीसद आबादी को वैक्सीनेट करने का आग्रह किया था।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">